Web  hindi.cri.cn
लंदन ने कोहरा नगर का नाम छोड़ा
2010-04-08 15:26:28

श्रोता दोस्तों, आज हम शांगहाई विश्व मेला कार्यक्रम शुरू करेंगे। पवन आप लोगों का स्वागत करता है। अच्छा, पहले विश्व मेले के बारे में एक खबर सुनें ।

अच्छा, श्रोता दोस्तो, आज हम ब्रिटेन की राजधानी लंदन के पर्यावरण संरक्षण के बारे में एक विशेष रिपोर्ट सुनाएंगे। आप लोगों को यह मालूम है कि लंबे समय तक ब्रिटेन की राजधानी लंदन को कोहरा नगर कहा जाता था। इस नाम को छोड़ने के लिए पिछली सदी के पांचवें दशक में लंदन सरकार ने वायु प्रदूषण को दूर करने के लिए विभिन्न कदम उठाए। कई सालों की कोशिश से इन कदमों से उल्लेखनीय उपलब्धि प्राप्त हुयी। ब्रिटेन में तैनात हमारे सी.आर.आई के संवाददाता जांग जे और शू यून ने इस समस्या पर पर्यावरण की निगरानी करने वाले लंदन विश्वविद्यालय के किंगस कॉलेज के प्रोफेसर फ्रैन्क केल्ली से इन्टरव्यू किया। लीजिए, सुनिए, उन के द्वारा भेजी गयी एक रिपोर्ट लंदन ने कोहरा नगर का नाम छोड़ा।

सौ साल पहले लंदन एक उद्योग नगर बनाया गया था जिस का मतलब था कि लंदन में उद्योग का विकास आगे बढ़ाने के लिए बहुत बिजली का उत्पादन करना पड़ता था। इसलिए लंदन में बहुत बिजली घर स्थापित किए गए। इस के साथ लंदन शहर में नागरिक भी अपने घर में कोयला जलाते थे। बिजली घर और नागरिकों के घर से बहुत धुआं निकलता था। यह स्थिति सौ साल तक जारी रही। इसलिए लंदन को कोहरे वाला नगर कहा जाने लगा।

प्रोफेसर फ्रैन्क केल्ली ने संवाददाता से लंदन को कोहरे वाले नगर का नाम दिए जाने का कारण स्पष्ट किया। अर्थतंत्र के विकसित होने से वातावरण गंभीर रूप से प्रदूषित हुआ जिस से स्थानीय नागरिक भी लंदन शहर के वातावरण से असंतुष्ट होने लगे। अंतर्राष्ट्रीय समुदाय में लंदन की छवि भी प्रभावित हुई। पर्यावरण संरक्षण और कोहरा नगर का नाम छोड़ने के लिए पिछली शताब्दी के पांचवे दशक से लंदन सरकार पर्यावरण संरक्षण करने के लिए कदम उठाने लगी। श्री फ्रैन्क केल्ली ने कहा कि ये कदम उठाने से उल्लेखनीय उपलब्धि प्राप्त हुयी है।

उस समय लंदन सरकार ने स्वच्छ वायु अधिनियम के ढांचे में बहुत कदम उठाए। उदाहरण के लिए स्वच्छ वायु अधिनियम के अनुसार लंदन शहर में सब बिजली घर बंद करके बड़े लंदन क्षेत्र में उन का पुनःनिर्माण किया जाएगा। इसलिए थेम्स नदी के पास स्थित बिजली घर को अब थेम्स आधुनिक कला संग्रहालय बनाया गया है।इस दिशा में यह लंदन सरकार द्वारा उठाया गया पहला महत्वपूर्ण कदम है। सरकार का दूसरा महत्वपूर्ण कदम नागरिकों के घर में धुआंरहित कोयले का जलना है। यह भी स्वच्छ वायु अधिनियम का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। इस के बाद 20 सालों में ये कदम उठाने से लंदन में वायु की स्थिति उल्लेखनीय रूप से सुधरी है। हवा में कोहरा कम होने लगा है।

प्रोफेसर फ्रैन्क केल्ली ने कहा कि पिछले शताब्दी के 8वें दशक में लंदन के सामने नए प्रदूषण की नयी चुनौती आयी। आधुनिक यातायात में तेल व डीजल के उपयोग से नए प्रदूषण की स्थिति पैदा होने लगी। अब लंदन का वातावरण भी इन समस्याओं के कारण प्रदूषित होने लगा। लंदन सरकार को इस समस्या पर भी ध्यान देना पड़ा। वे नए प्रदूषण की समस्या को दूर करने के लिए कदम उठाने की कोशिश कर रहे हैं। उन्होंने कहा

हम इस समस्या को दूर करने की कोशिश कर रहे हैं। वास्तव में लोगों ने लंबे समय के बाद इस समस्या पर ध्यान दिया है । यह प्रदूषण लोगों के स्वास्थ्य को नुक्सान पहुंचाता है। अब लंदन सरकार ने भी इस पर ध्यान दिया है कि हमारे सामान्य जीवन के यातायात में प्रदूषण की बड़ी समस्या है। अब सरकार ने लंदन में गाड़ियों की संख्या नियंत्रण करने और उत्सर्जन कम करने के लिए नीति बनायी है। सन् 2002 में लंदन मे ट्रैफिक जाम के समय की विशेष कर नीति बनायी गयी। अगर आप ने सुबह या शाम दफ्तर के समय गाड़ी चलाते हुए लंदन में प्रवेश किया तो कर के रुप में विशेष पैसे देने पड़ते हैं। सन् 2008 में लंदन में कम उत्सर्जन क्षेत्र की योजना प्रभावी हुई। इस योजना के अनुसार बड़ी गाड़ियां व भारी ट्रक लंदन में प्रवेश नहीं कर सकते।

हम यह कह सकते हैं कि लंदन सरकार ने कोहरा नगर का नाम छोड़ने के लिए बहुत काम किया है। लेकिन प्रदूषण की समस्या दूर करने का रास्ता ल��्बा है। श्री फ्रैन्क केल्ली ने कहा कि उन्हें आशा है कि अन्य शहर भी लंदन के पर्यावरण संरक्षण करने के अनुभव पर ध्यान देंगे। खासकर चीन जैसे तेजी से विकास करने वाले देशों को शहर में गाड़ियों की संख्या बढ़ने और वायु प्रदूषण के बढ़ने की समस्या पर ध्यान देना चाहिए। श्री केल्ली के विचार में सार्वजनिक परिवहन का विकास करने से शहर की परिस्थिति सुंदर बनायी जा सकती है।

रहने योग्य शहर, मेरे विचार में, एक बहुत बढिया सार्वजनिक परिवहन व्यवस्था वाला शहर है। विश्व में हम बहुत उदाहरण देख सकते हैं। सिंगापुर, पेरिस और लंदन में तो सुविधापूर्ण मेट्रो हैं। मेरे विचार में हम इन शहरों के विकास के अनुभव से लाभ उठा कर वास्तविक स्थिति के अनुसार विकास का सब से अच्छा रास्ता चुन सकेंगे।

अच्छा श्रोता दोस्तो, आज का शांगहाई विश्व मेला कार्यक्रम यहीं समाप्त होता है। अब पवन को आज्ञा दें, नमस्कार । (पवन)

संदर्भ आलेख
आप की राय लिखें
सूचनापट्ट
• वेबसाइट का नया संस्करण आएगा
• ऑनलाइन खेल :रेलगाड़ी से ल्हासा तक यात्रा
• दस सर्वश्रेष्ठ श्रोता क्लबों का चयन
विस्तृत>>
श्रोता क्लब
• विशेष पुरस्कार विजेता की चीन यात्रा (दूसरा भाग)
विस्तृत>>
मत सर्वेक्षण
निम्न लिखित भारतीय नृत्यों में से आप को कौन कौन सा पसंद है?
कत्थक
मणिपुरी
भरत नाट्यम
ओड़िसी
लोक नृत्य
बॉलिवूड डांस


  
Stop Play
© China Radio International.CRI. All Rights Reserved.
16A Shijingshan Road, Beijing, China. 100040