पीठ में चाकू घोंपने वाला अमेरिका संभवतः ब्रिटेन और ऑस्ट्रेलिया को बेच सकेगा

2021-09-17 18:53:58

पीठ में चाकू घोंपने वाला अमेरिका संभवतः ब्रिटेन और ऑस्ट्रेलिया को बेच सकेगा_fororder_yang-2

17 सितंबर को फ्रांस अमेरिका के साथ सैपिक बे की लड़ाई की 240वीं समुद्री युद्ध मनाना चाहता था, लेकिन एक दिन पहले अमेरिका, ब्रिटेन और ऑस्ट्रेलिया ने अचानक हिंद-प्रशांत सुरक्षा लीग की स्थापना करने की घोषणा की और चीन के खिलाफ परमाणु पनडुब्बी तकनीक को साझा करने और बनाने के समझौते पर हस्ताक्षर किया, जिससे फ्रांस और ऑस्ट्रेलिया के बीच संपन्न परमाणु पनडुब्बी अनुबंध बेकार हो गया। बड़ा गुस्सा होने की वजह से फ्रांस ने पहले तय अनुबंध को रद्द किया।

कुछ नेटिज़न्स ने अमेरिका को "दोस्तों पर पैसा चुनना, शांति के लिए युद्ध" के रूप में वर्णित किया। कई वर्षों में अमेरिका ने यूरोपीय गणमान्य व्यक्तियों का बड़े पैमाने पर वायरटैपिंग किया, कोविड-19 महामारी के प्रकोप के बाद यूरोपीय महामारी रोधी सामग्रियों को छीनना, अफगानिस्तान से सेना हटाते समय गठबंधन मित्र देशों की परवाह नहीं की। अमेरिका प्रथम के विचार में अमेरिका ने गठबंधन मित्र देशों को राजनीतिक लाभ की खोज करने का माध्यम बनाया।

पंच आंखें संघ के दायेरे में इस बार अमेरिका ब्रिटेन और औस्ट्रेलिया के साथ चीन विरोधी लोहा त्रिकोण बनाना चाहता है। लेकिन वास्तव में उन के बीच मतभेद भी ज्यादा मौजूद रहे। ब्रिटिश अंतर्राष्ट्रीय विश्लेषक थॉम फूदी ने कहा था कि यूरोप की सच्ची धमकी वाशिंग्टन से आती है। अमेरिका- ब्रिटेन और अमेरिका-ऑस्ट्रेलिया के बीच हितों के विवाद मौजूद रहे हैं।

ब्रिटेन और ऑस्ट्रेलिया को इस पर विचार करना चाहिए कि अमेरिका जैसे सहयोगी के लिए जो बार-बार विश्वासघाती है, यह ध्यान देने योग्य है कि अपने स्वयं के राष्ट्रीय हितों से उसके लिए काम करना लायक है या नहीं?

(श्याओयांग)

लोकप्रिय कार्यक्रम
रेडियो प्रोग्राम
रेडियो_fororder_banner-270x270