तिब्बत : शांतिपूर्ण मुक्ति के बाद 70 वर्षों में उल्लेखनीय विकास हुआ

2021-08-19 19:37:21

तिब्बत : शांतिपूर्ण मुक्ति के बाद 70 वर्षों में उल्लेखनीय विकास हुआ_fororder_1629348744058_685

इस साल चीन का तिब्बत स्वायत्त क्षेत्र शांतिपूर्ण मुक्ति की 70वीं वर्षगांठ मना रहा है, जो इस क्षेत्र के इतिहास में एक महत्वपूर्ण मोड़ है। हालाँकि, कुछ पश्चिमी देशों ने हमेशा इस क्षेत्र को पूर्वाग्रह के चश्मे से देखा है और इसके विकास को बाधित करने की कोशिश की है, लेकिन स्थानीय लोगों के जीवन स्तर में सुधार के लिए किए गए जबरदस्त प्रयासों ने तिब्बत की एक पूरी नई तस्वीर पेश की है।

दरअसल, शांतिपूर्ण मुक्ति से पहले, तिब्बत में सामंती धर्मशासि‍त दासता का समाज था। कुल आबादी का केवल पाँच प्रतिशत दास मालिक थे, जबकि अन्य 95 प्रतिशत लोग कृषक दास थे, या आप उन्हें केवल गुलाम कह सकते हैं।

आज से 70 साल पहले, 14वें दलाई लामा तिब्बत के सर्वोच्च नेता और ल्हासा के वास्तविक शासक थे। इतने मजबूत राजनीतिक और धार्मिक प्रभाव के साथ, दलाई लामा सबसे अमीर और सबसे शक्तिशाली दास मालिक बन गये। 14वें दलाई लामा और उनके परिवार ने सीधे 27 जागीर, 36 चरागाहों, 102 घरेलू दासों को नियंत्रित किया। अकेले दलाई लामा के पास 1,60,000 टन सोना और 9.5 करोड़ टन चांदी थी।

एक फ्रांसीसी विद्वान अलेक्जेंड्र डेविड नील, जो कई बार पुराने तिब्बत जा चुके थे, ने अपनी पुस्तकों में लिखा: दलाई लामा और अन्य दास मालिक आलीशान महलों में रहते थे, उनके पास बहुत बड़ी संपत्ति और सैकड़ों दास थे, जबकि सभी किसान जीवन भर ऋणी थे और उनके पास अपनी कोई व्यक्तिगत आजादी नहीं थी।

यह सब शांतिपूर्ण मुक्ति के बाद बदल गया, क्योंकि तिब्बत में लोकतांत्रिक सुधार शुरू किए गए। सभी कृषक दासों को मुक्त कर दिया गया और उन्हें अपनी भूमि दे दी गई। अंततः दलाई का क्रूर शासन समाप्त हो गया।

आधिकारिक आंकड़े और तथ्य बताते हैं कि पिछले 70 वर्षों में तिब्बत की जीडीपी लगभग 1,500 गुना बढ़ी है। तिब्बत की जनसंख्या 1959 में 12.3 लाख से बढ़कर 2020 में लगभग 36.5 लाख हो गई है, जिसमें जातीय तिब्बती लोग कुल जनसंख्या का 86 प्रतिशत हिस्सा हैं। तिब्बती बौद्ध धर्म के अभ्यास के लिए 1787 स्थल हैं और तिब्बत में 46,000 से अधिक भिक्षु और भिक्षुणियाँ हैं।

अब, तिब्बत ने पूर्ण गरीबी को समाप्त कर दिया है। तिब्बत में पंजीकृत 6,28,000 पंजीकृत ग़रीबों और 74 नामित ग़रीब काउंटियों में से सभी ग़रीबी से ऊपर उठ चुके हैं। इस क्षेत्र के छात्र सार्वजनिक रूप से वित्त पोषित शिक्षा के 15 साल प्राप्त कर सकते हैं, यानी कि भीतरी क्षेत्र के छात्रों की तुलना में छह साल अधिक।

2020 में निवासियों का प्रति व्यक्ति निवास स्थान लगभग 40 वर्ग मीटर तक पहुंच गया, जबकि 1951 से पहले 90 प्रतिशत से अधिक तिब्बती निवासियों के पास निजी आवास नहीं थे। इसके अलावा, तिब्बत में औसत जीवन प्रत्याशा 2020 में बढ़कर 71.1 वर्ष हो गई, जो बढ़कर दोगुनी हो गई है।

बेशक, दुनिया ने पिछले सात दशकों में तिब्बत के विकास, आय, धन और कल्याण में वृद्धि देखी है। तिब्बत की शांतिपूर्ण मुक्ति ने इस क्षेत्र को एक नई यात्रा पर स्थापित कर दिया है।

(लेखक : अखिल पाराशर, चाइना मीडिया ग्रुप, बीजिंग)

लोकप्रिय कार्यक्रम
रेडियो प्रोग्राम
रेडियो_fororder_banner-270x270