अमेरिका समेत कुछ देशों ने वायरस के स्रोत के अनुसंधान को राजनीतिक मुद्दा बनायाः चीन

2021-04-08 17:24:29

चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता चाओ लीच्येन ने 8 अप्रैल को आयोजित नियमित संवाददाता सम्मेलन में यूरोप, अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया और जापान के 24 वैज्ञानिकों व शोधकर्ताओं के खुले पत्र से जुड़े सवाल का जवाब दिया।

चाओ लीच्येन ने कहा कि पिछले 4 मार्च को एक बराबर तथाकथित खुला पत्र भी जारी किया गया। दोनों पत्रों का उद्देश्य डब्ल्यूएचओ और विशेषज्ञ दल पर दबाव डालना है। चीन ने संयुक्त विशेषज्ञ दल के वायरस के स्रोत के अनुसंधान में व्यापक समर्थन किया और विशेषज्ञों की मांग पूरी की। विशेषज्ञ दल ने चीन के खुले और पारदर्शी रवैये की प्रशंसा की।

चाओ लीच्येन ने कहा कि वायरस के स्रोत के अनुसंधान पर सचमुच राजनीतिक प्रभाव पड़ा, लेकिन यह प्रभाव चीन से नहीं, बल्कि अमेरिका समेत कुछ देशों से आया। उन्होंने वायरस के स्रोत के अनुसंधान को राजनीतिक मुद्दा बनाने की कोशिश की, चीन और डब्ल्यूएचओ के बीच सहयोग को नुकसान पहुंचाया, चीन पर कालिख पोती और वैज्ञानिकों की स्वतंत्रता व अनुसंधान निष्कर्ष को चुनौती दी। इससे न सिर्फ वायरस के स्रोत में वैश्विक सहयोग को नुकसान पहुंचा, बल्कि महामारी की रोकथाम में विश्व प्रयास पर भी बुरा असर पड़ा।

(ललिता)

लोकप्रिय कार्यक्रम
रेडियो प्रोग्राम
रेडियो_fororder_banner-270x270