डब्ल्यूएचओ रोगाणुरोधी प्रतिरोध के संकट पर ध्यान देता है

2020-11-21 17:23:36

विश्व स्वास्थ्य संगठन के महानिदेशक टेड्रोस अधनोम घेब्रेयसस ने 20 नवंबर को आयोजित नियमित संवाददाता सम्मेलन में विभिन्न देशों से कार्रवाई कर रोगाणुरोधी प्रतिरोध के संकट पर ध्यान देने की अपील की। साथ ही डब्ल्यूएचओ समेत अंतर्राष्ट्रीय संगठनों ने उसी दिन संबंधित संस्था की स्थापना करने का ऐलान भी किया। ताकि एक साथ रोगाणुरोधी प्रतिरोध के संकट का मुकाबला किया जा सके।

रोगाणुरोधी प्रतिरोध में तेजी से वृद्धि दुनिया भर में मानव, पशु, पौधे और पर्यावरणीय स्वास्थ्य के सामने सबसे आपात धमकियों में से एक है। जिससे भोजन सुरक्षा, अंतर्राष्ट्रीय व्यापार और आर्थिक विकास में असर पड़ता है। साथ ही इसने अनवरत विकास के लक्ष्य को पूरा करने में भी बाधा डाली है। इसके अलावा रोगाणुरोधी प्रतिरोध ने चिकित्सा खर्च, अस्पताल में भर्ती दर, उपचार की विफलता दर, गंभीर बीमारियों और मौतों में भी वृद्धि की है, और दुनिया भर में कई संक्रमणों के इलाज की मुश्किलों को भी बढ़ाया है।

टेड्रोस ने उसी दिन आयोजित संवाददाता सम्मेलन में कहा कि कोविड-19 महामारी के प्रकोप से हमने स्पष्ट रूप से मानव, पशु व पृथ्वी के बीच घनिष्ठ संबंध देखा है। अगर हमने पशुओं व पर्यावरण संरक्षण पर ध्यान नहीं दिया, तो हम मानव के स्वास्थ्य की रक्षा व मजबूत नहीं कर पाएंगे। अब रोगाणुरोधी प्रतिरोध इस युग में स्वास्थ्य के प्रति सबसे बड़ी धमकियों में से एक है।

चंद्रिमा

लोकप्रिय कार्यक्रम
रेडियो प्रोग्राम
रेडियो_fororder_banner-270x270