पाकिस्तानी कृषि उत्पाद व्यापारी मोहम्मद यासीन और चीन की कहानी

2020-11-11 09:54:22

पाकिस्तानी कृषि उत्पाद व्यापारी मोहम्मद यासीन और चीन की कहानी

चालू साल चीन की 13वीं पंचवर्षीय योजना का अंतिम साल है । पाँच साल में चीन के आर्थिक और सामाजिक विकास में बड़ी ऐतिहासिक उपलब्धियां हासिल हुई हैं ।इस  दौरान चीन ने जनजीवन सुधारने के साथ विश्व के साथ विकास का मौका भी साझा किया है ।विश्व के विभिन्न देशों की जनता और चीन के बीच संपर्क अधिक घनिष्ठ हो रहा है ।आज के इस कार्यक्रम में हम पाकिस्तानी कृषि उत्पाद व्यापारी मोहम्मद यासीन और चीन की कहानी सुनाएंगे ।

मोहम्मद यासीन चीन में सुधार और खुलेपन की नीति लागू होने के बाद पढ़ाई के लिए चीन आये पहले जत्थे के पाकिस्तानी छात्रों में से एक हैं ।1986 से 1990 तक उन्होंने उत्तरी चीन के थ्येनचिन शहर में स्थित नान काई विश्वविद्यालय के जैविक इंजीनियरिंग सेंटर में पढ़ाई की ।स्नातक होने के बाद उन्होंने चीन और पाकिस्तान के बीच कृषि उत्पादों का व्यापार शुरू किया ।लंबे समय तक चीन के साथ व्यापार करने से वे धारा प्रवाह चीनी भाषा बोल सकते हैं ।उन्होंने सीएमजी के संवाददाता को बताया कि शुरू में वे चीन के कृषि उत्पादों को पाकिस्तान में बेचते थे ।उन्होंने कहा ,उस समय मैंने देखा कि चीन में कृषि उत्पादों के दाम बहुत नीचे थे ,सो मैं चीन के साथ कृषि उत्पादों का व्यापार करने लगा ।पहले मैं दक्षिण अमेरिका और एशिया के अन्य देशों से अनाज का आयात करता था ।लेकिन चीन की तुलना में उन देशों के कृषि उत्पादों की लागत अधिक थी ।चीनी कृषि उत्पादों की कीमतों का लाभ था ।हमें चीन में व्यापार करने का मौका मिला ।

मोहम्मद यासीन ने कहा कि वर्ष 2000 के बाद उन्होंने पाकिस्तान के फल और चावल जैसे कृषि उत्पादों को चीन में निर्यात कर बेचना शुरू किया ।

चीन में पाकिसतानी कृषि उत्पादों का निर्यात करते समय उन्होंने पाया कि पाकिस्तानी कृषि उत्पादों की गुणवत्ता अच्छी है ,लेकिन किसानों को प्रसंस्करण प्रौद्योगिकी का ज्ञान नहीं है और उन के उत्पाद लंबी दूरी के परिवहन के अनुकूल नहीं हैं ।इधर कुछ साल उन्होंने चीन के कई कृषि प्रसंस्करण कारखानों का दौरा किया और उन से प्रसंस्कण प्रौद्योगिकी सीखी ।यासिन ने न सिर्फ इन तकनीकों का अपने कृषि उत्पादों के पैकिंग और परिवहन में इस्तेमाल किया ,बल्कि संबंधित पाकिस्तानी किसानों को भी सिखाया ।उन्होंने बताया ,चीन में कृषि प्रसंस्करण उद्योग बहुत विकसित हैं ।पाकिस्तान में प्रसंस्करण प्रौद्योगिकी के अभाव से 20 प्रतिशत से 30 प्रतिशत फल बेकार हो जाते हैं ।पाकिस्तान में खेती से बाजार तक परिवहन के दौरान बड़ी समस्या भी है ।बहुत फल सड़ जाते हैं ।हमें किसानों को फलों की पैकिंग ,फ्रेश काल बढ़ाने ,कोल्ड भंडारण और कोल्ड चेन परिवहन जैसे तकनीक सिखानी चाहिए ।

व्यापार करने के दौरान यासीन ने यह भी देखा कि चीनी कृषि उत्पादों की उत्पादन क्षमता साल दर साल उन्नत होती रही है ।इसलिए उन्होंने चीन में कृषि उत्पादों के बीजों का आयात करने की योजना सोची ।उन्होंने कहा ,चीन की कृषि तकनीक खासकर बीज अच्छे से अच्छी हो रहे हैं ।सो मैं पाकिस्तान में बीज प्रौद्योगिकी का अध्ययन करना चाहता हूं ।हम चीनी अध्ययनकर्ताओं को आमंत्रित कर सकते हैं ।पाकिस्तान में प्रति यूनिट कृषि उत्पादों की पैदावार बहुत कम है ।मैं चीन के साथ सहयोग से पाकिस्तान के कृषि उत्पादों की उत्पादन मात्रा उन्नत करना चाहता हूं ।अब अधिकांश बुनियादी कार्य शुरू हो चुका है।

इधर के कुछ साल यासीन ने चीन में विभिन्न कृषि सहयोग संगोष्ठी में भाग लेते समय कई चीनी कृषि विशेषज्ञों से संपर्क किया और कुछ चीनी विशेषज्ञ पाकिस्तान की खेती में बीजों का परीक्षण करने पर सहमत हुए हैं।

अब मोहम्मद यासीन पेइचिंग में बस गए हैं।उन के चार बच्चे चीनी स्कूल में पढ़ते हैं ।वे साल भर चीन और पाकिस्तान के बीच आते -जाते हैं ।उन्होंने कहा कि अधिकाधिक पाकिस्तानी लोग इस कार्य में शिरकत करेंगे और आशा भी है कि चीन की प्रगतिशील कृषि तकनीकों से अधिकतर पाकिस्तानी लोगों को लाभ मिलेगा ।

(वेइतुंग)

लोकप्रिय कार्यक्रम
रेडियो प्रोग्राम
रेडियो_fororder_banner-270x270