जकार्ता-बांडुंग हाई-स्पीड रेलवे और चीन-लाओस रेलवे आपसी लाभ वाले सहयोग के प्रतीक

2022-09-06 16:39:00

चीनी विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता माओ निंग ने 6 सितंबर को आयोजित नियमित संवाददाता सम्मेलन में कहा कि जकार्ता-बांडुंग हाई-स्पीड रेलवे बेल्ट एंड रोड सहयोग में चीन और इंडोनेशिया के बीच महत्वपूर्ण परियोजना है। निर्माण पूरा होने के बाद यह इंडोनेशिया, यहां तक कि दक्षिण-पूर्वी एशिया का पहला हाई-स्पीड रेलवे बनेगा। इससे इंडोनेशिया के आर्थिक और सामाजिक विकास में नई उम्मीद जगेगी। पावर्ड कार ट्रेन-सेट और टेस्ट ट्रेन हाल में इंडोनेशिया पहुंचाए गए। इससे जाहिर है कि जकार्ता-बांडुंग हाई-स्पीड रेलवे के संचालन की तैयारी में कुंजीभूत उपलब्धि मिली।

माओ निंग ने कहा कि चीन-लाओस रेलवे पर यातायात शुरू होने के बाद पिछले 9 महीनों में 67 लाख 10 हजार यात्रियों और 71 लाख 70 हजार टन के माल का परिवहन किया गया। इसकी गोल्डन चैनल की भूमिका नजर आई। क्षेत्रीय देशों ने इसका स्वागत किया।

माओ निंग ने कहा कि जकार्ता-बांडुंग हाई-स्पीड रेलवे और चीन-लाओस रेलवे बेल्ट एंड रोड पहल के प्रस्तुत होने के बाद 9 सालों में चीन और दक्षिण-पूर्वी एशियाई देशों के बीच सहयोग के प्रतीक हैं। चीन विभिन्न पक्षों के साथ बेल्ट एंड रोड सहयोग का उच्च गुणवत्ता वाला विकास बढ़ाना चाहता है, ताकि समान विकास और समृद्धि साकार होने के साथ और घनिष्ठ चीन-आसियान भाग्य समुदाय के निर्माण में योगदान किया जा सके।

(ललिता)

रेडियो प्रोग्राम