काला आड़ू उद्यान में रहे सुखी परिवार

2022-07-19 15:04:31

तिब्बत के न्यिंगची क्षेत्र का काला गांव सुंदर आड़ू फूल से प्रसिद्ध है। एक साल पहले यानी जुलाई 2021 में चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने काला गांव का दौरा किया। गांववासी डावा चनछन के घर में शी चिनफिंग ने ध्यान से संरक्षित गेहूं, मेथी, जौ, रेपसीड, मटर और मक्का को देखा। वहीं, सुखा मांस और सुखा दूध रखे हुए थे। साथ ही, दीवार के पास घर में बनी शराब भी रखी हुई थी। रसोईघर बीफ और मटन से भरा था।

डावा चनछन का घर एक तिब्बती शैली का उद्यान है। आय में बढ़ोतरी होने के चलते उद्यान और सुंदर बन गया। शी चिनफिंग के निरीक्षण दौरे को करीब एक साल बीत चुका है, और काला गांव में बड़ा परिवर्तन हुआ है।

काला गांव समुद्री सतह से 2,900 मीटर पर स्थित है। हर वसंत ऋतु में यहां 1,200 से ज्यादा आड़ू फूल खिलते हैं, जो कि देखने में अत्यन्त सुंदर दिखाई देता है। इस विशेष संसाधन पर निर्भर रहते हुए काला गांव में पर्यटन और संस्कृति उत्सव आयोजित होता है। पिछले साल आड़ू उत्सव के दौरान 1.4 लाख पर्यटक आकर्षित हुए और पर्यटन आय 46 लाख युआन से अधिक रही। गांव के हर परिवार को करीब 1 लाख युआन का बोनस मिला। आड़ू उत्सव के बोनस, परिवहन, भूमि उपयोग अधिकार के हस्तांतरण, रोपण और प्रजनन के सहारे पिछले साल डावा चनछन के परिवार की आय 3.5 लाख युआन तक पहुंच गई।

एक साल की व्यस्तता का इनाम देने के लिए इस साल तिब्बती नववर्ष में डावा चनछन ने विविध वस्तुएं तैयार कीं, जैसा कि ताजा फल, बीफ, मटन और बच्चों के लिए स्नैक आदि। परिवार के सदस्यों ने इकट्ठा होकर नववर्ष की खुशियां मनाईं।

न सिर्फ डावा चनछन, काला गांव के हर गांववासियों के जीवन में परिवर्तन हुआ है। शी चिनफिंग के निरीक्षण दौरे के बाद काला गांव में ग्रामीण पुनरुत्थान का रास्ता और साफ हो गया। देश की उदार नीतियों के सहारे काला गांव में पारिस्थितिक श्रेष्ठता पर निर्भर रहते हुए 6.7 हैक्टेयर में फल-सब्जियां तोड़ने का उद्यान बना, जिसकी मुनाफा दर 40 प्रतिशत तक जा पहुंची। आड़ू उद्यान के निर्माण और रेपसीड, जौ व अन्य पौधे उगाने से पर्यटन उद्योग श्रृंखला का विस्तार हुआ। गांववासी पर्यटन आय से अमीर बन गए।

काला गांव में सुखमय जीवन तिब्बत में आर्थिक और सामाजिक विकास का प्रतीक है। शांतिपूर्ण मुक्ति के बाद पिछले 70 से अधिक सालों में तिब्बत में जीडीपी और प्रति व्यक्ति जीडीपी क्रमशः वर्ष 1951 में 12 करोड़ 90 लाख युआन और 114 युआन से बढ़कर वर्ष 2021 में 2 खरब 8 अरब 1 करोड़ 70 लाख युआन और 56,831 युआन तक जा पहुंची। विशेषकर 13वीं पंचवर्षीय योजना के दौरान तिब्बत में जीडीपी की सालाना वृद्धि दर 9 प्रतिशत रही, जो देश के औसत स्तर से 3.3 फीसदी अधिक है। देश की उदार नीतियों के कार्यान्वयन के जरिए तिब्बत में ग्रामीण पुनरुत्थान तेजी से फैल रहा है।

(ललिता)

रेडियो प्रोग्राम