सूचना:चाइना मीडिया ग्रुप में भर्ती

014 सांप का पैर

cri 2017-02-06 19:26:26
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

014 सांप का पैर

 सांप का पैर 画蛇添足

"सांप का पैर"नीति कथा को चीनी भाषा में"हुआ श थिआन चू"(huà shé tiān zú) कहा जाता है। इसमें"हुआ"का अर्थ है चित्र बनान, जबकि"श"का अर्थ है"सांप", "थिआन"का अर्थ है बढ़ाना और"चू"का अर्थ है पैर।

प्राचीन छुन राज्य वंश की कहानी है, किसी परिवार में पूर्वजों के लिए पूजा अनुष्ठान किया गया, पूजा समाप्त होने के बाद मालिक ने अपने नौकरों को एक मग मदिरा इनाम के रूप में दी।

नौकरों की संख्या अधिक थी, इसलिए उनमें शराब का ठीक ढंग से बंटवारा करना मुश्किल था। मदिरा के बंटवारे को लेकर नौकरों में बहुत बहस हुई, तभी एक नौकर ने यह सुझाव रखा:"एक मग मदिरा हमारे लिए सचमुच कम है, उसे बांटकर पीने से मजा नहीं आ सकता, शराब पीनी हो तो जी भर कर पीओ, तभी मजा आएगा।"

सभी लोग एक व्यक्ति को ही मदिरा पीने देने के सुझाव पर राजी हो गए, लेकिन कोई भी पीने का अधिकार छोड़ने को तैयार नहीं था। तो एक दूसरे नौकर ने सुझाव दिया:"बेहतर है कि हम सांप का चित्र खींचने की प्रतियोगिता करें, जो सबसे पहले सांप का चित्र बनाएगा, उसे पूरा की पूरा मग शराब दिया जाएगा।"

सभी लोग इस सुझाव पर भी राजी हो गए। फिर वे पेड़ की एक-एक पतली शाखा तोड़ कर लाए और जमीन पर सांप का चित्र खींचने बैठ गए। एक नौकर की गति बहुत तेज थी। थोड़ी देर में ही उसने सांप का सुन्दर चित्र बना दिया, उसने मग को उठाकर दूसरों पर एक नज़र डाल कर देखा, उसे बड़े घमंड का अनुभव हुआ:"उनकी चित्र बनाने की गति मेरे से सचमुच बहुत धीमी है।"सो उसने सभी से कहा:"अब मुझे सिर्फ सांप के पैर जोड़ने हैं, फिर भी मैं तुम लोगों से पहले चित्र पूरा कर सकता हूं।"

उसने तुरंत सांप पर पैर का चित्र जोड़ना शुरू किया। पैर का दूसरा चित्र बनाने के बीच ही किसी दूसरे नौकर ने भी अपना चित्र पूरा कर दिया, उसने झट से मदिरा का मग छीनते हुए कहा:"सांप में पैर नहीं है। आपका चित्र सांप का नहीं है। अतः मैंने सबसे पहले सांप का चित्र बनाया है। अब शराब मेरी है।"

उसका तर्क सुनकर सांप में पैर जोड़ने वाला नौकर अवाक रह गया और मदिरा पीने का मौका उसके हाथ से छूट गया।

"सांप का पांव"यानी चीनी भाषा में"हुआ श थिआन चू"(huà shé tiān zú) नाम की नीति कथा से हमें यह सीख मिलती है कि कोई भी काम करना हो, तो उसकी वास्तविकता के मुताबिक करना चाहिए। उसमें बेमतलब चीज़ मिलाने से काम खराब ही होता है।

12MoreTotal 2 pagesNext

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories