क्या 6जी 5जी को पार कर आगे विकास कर सकता है?

2020-08-26 10:00:00
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

इस साल से दक्षिण कोरिया, जापान आदि देशों ने क्रमशः छठी पीढ़ी की मोबाइल टेलिकॉम तकनीक (6जी) के विकास को तेज करने की योजना बनायी। विशेषज्ञों का मानना है कि 5जी की तुलना में अनेक मुख्य संकेतक में 6जी की भारी उन्नति होगी। तो क्या हम 5जी चरण को छोड़कर सीधे 6जी में प्रवेश कर सकते हैं?विशेषज्ञों का मानना है कि यह बहुत कठिन होगा, क्योंकि 6जी के विकास को 5जी तकनीक का मजबूत आधार होने की जरूरत है।

परिचय के मुताबिक, 6जी की डेटा ट्रांसफर गति 5जी की तुलना में 50 गुना अधिक है, जबकि समय 5जी का सिर्फ 10 प्रतिशत है। साथ ही पीक दर, देरी, यातायात घनत्व, कनेक्शन घनत्व, गतिशीलता, स्पेक्ट्रम दक्षता, स्थिति क्षमता आदि क्षेत्रों में भी 5जी से बेहतर होता है। इधर के वर्षों में दक्षिण कोरिया, जापान, फिनलैंड और अमेरिका ने लेआउट करना शुरू किया है।

सेमसंग इकॉनोमिक कंपनी और एलजी इकॉनोमिक कंपनी ने 2019 में 6जी अनुसंधान केंद्र की स्थापना की। दक्षिण कोरिया की समाचार एजेंसी की रिपोर्ट के मुताबिक, सेमसंग इकॉनोमिक कंपनी ने हाल में एक श्वेत पत्र जारी कर 6जी की दूरदृष्टि पर प्रकाश डाला, जिससे तकनीक अध्ययन से प्रतिस्पर्द्धा में विजय पाने का इरादा प्रकट किया गया। दक्षिण कोरिया ने अनुमान लगाया कि वह 2025 में 6जी तकनीक को मापदंड बनाएगा और 2028 में इसे वाणिज्य प्रयोग में देगा। जबकि 2030 में 6जी औपचारिक रूप से सेवा प्रदान करेगा।

उधर, जापान भी 6जी क्षेत्र में विकास कर रहा है। इस साल के 8 अप्रैल को जापानी गृह मंत्रालय ने 2025 में देश में 6जी प्रमुख तकनीक के सामरिक लक्ष्य की स्थापना करने की घोषणा की। आशा है कि 2030 में 6जी सेवा में इस्तेमाल कर सकेगा। साथ ही जापान जापानी सूचना टेलिकॉम अनुसंधान संस्था के केंद्र वाले कारोबारो, सरकार और उच्च शिक्षालयों के संयुक्त सहयोग से एक नये संगठन की स्थापना करेगा और 6जी संबंधी अंतर्राष्ट्रीय मापदंड बनाने की चर्चा का नेतृत्व कर सकेगा।

यूरोप में फिनलैंड ने पहले ही 6जी का अनुसंधान शुरू किया था। 2018 में नोकिया बेर प्रयोगशाला ने फिनलैंड ओलु विश्वविद्यालय, फिनलैंड राष्ट्रीय तकनीक अनुसंधान केंद्र आदि ने सहयोग कर 6जी का समर्थन करने वाले वायरलेस स्मार्ट समाज और पारिस्थितिकी प्रणाली प्रोजेक्ट को अमलीजामा पहनाने का एलान किया। रिपोर्ट के मुताबिक, यह प्रोजेक्ट आगामी 8 वर्षों में कुल 25 करोड़ यूरो की अनुसंधान पूंजी पाएगा। इस साल के जून माह में ओलु विश्वविद्यालय ने 6जी विकास श्वेत पत्र जारी किया, जिसमें 6जी और एज इंटेलिजेंस एवं मशीन लर्निंग आदि अनेक क्षेत्र शामिल हैं।

अमेरिका की कुछ अनुसंधान संस्थाएं भी 6जी का विकास करने में संलग्न रही हैं। अमेरिकी राष्ट्रीय विज्ञान व तकनीक कोष की नवाचार योजना ने अमेरिका में वायरलेस स्पेक्ट्रम रिसर्च सेंटर की स्थापना करने का सुझाव पेश किया, जिसका मकसद 5जी आदि तकनीक को पराजित करना है, ताकि भविष्य में विज्ञान और इंजनीयरिंग क्षेत्र में वायरलेस तकनीक, सिस्टम और प्रयोग में अमेरिका की नेतृत्व की भूमिका को सुनिश्चित कर सके। 2019 में अमेरिकी फेडरल टेलिकॉम कमेटी ने 95GHz से ऊपर स्पेक्ट्रम के साथ परीक्षण करने की पुष्टि की, यानी कि उसने 6जी नेट सेवा के लिए "THz" स्पेक्ट्रम खोला, ताकि इनोवेटर्स नए उत्पादों और सेवाओं का परीक्षण करने में मदद कर सके।

अमेरिकी अंतरिक्ष खोज तकनीक कंपनी के संस्थापक एलोन मस्क की योजना के अनुसार अमेरिका बाहरी अंतरिक्ष की नीची कक्ष उपग्रह से भूमि पर उपयोगकर्ताओं की ब्रॉडबैंड सेवा देगा। भविष्य में यह अमेरिका के 6जी विकास में भी मदद दे सकेगा।

लेकिन कुछ विशेषज्ञों का मानना है कि लोग 5जी तकनीक को छोड़कर सीधे 6जी को साकार नहीं कर पाते हैं। इस तरह का युगांतर विकास नामुमकिन है। कारण यह है कि प्रथम पीढ़ी मोबाइल टेलिकॉम तकनीक 1जी से हरेक पीढ़ी मोबाइल टेलिकॉम तकनीक का विकास पहली पीढ़ी तकनीक के आधार पर किया जाता था।

पेकिंग विश्वविद्यालय के शनचन अनुसंधान संस्था के 5जी अध्ययन ग्रुप के प्रभारी डॉक्टर हु क्वोछिंग ने शिनहुआ समाचार एजेंसी के साथ एक विशेष साक्षात्कार में कहा कि 6जी इंटरनेट जरूर मौजूदा 5जी तकनीक के आधार पर विकसित किया जाता है, जिसमें आसमान, समुद्री और पृथ्वी के एकीकरण वाले नेटवर्क और "THz" कम्युनिकेशंस आदि नयी तकनीक शामिल है। इसलिए 5जी के भूमि-आधार को पारकर सीधे 6जी इमारत का निर्माण करना नामुमकिन है।

उन्होंने कहा कि अमेरिका की योजना वास्तव में सिर्फ 5जी की आपूर्ति के रूप में मौजूद हो सकती है। चूंकि उपग्रह का बहुत ऊँचा खर्चा है, साथ ही सिग्नल ट्रांसमिशन वायुमंडलीय स्थितियों और अन्य कारकों से आसानी से प्रभावित होता है। भविष्य में चाहे इस का निर्माण पूरा हो, तो भी समुद्र, रेगिस्तान जैसे 5जी के फैलाव न करने वाले क्षेत्रों की आपूर्ति बन सकता है। वह 5जी के फैलाव करने वाले क्षेत्रों में 5जी पर प्रतिस्पर्द्धा की धमकी नहीं दे सकता है।

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories