भारत ने चीनी सामानों पर रोक लगाई, दिल्ली के व्यापारियों ने दंश झेला

2020-08-19 10:00:00
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

नवभारत टाइम्स की हालिया रिपोर्ट के मुताबिक कोविड-19 के प्रकोप से भारत की राजधानी नयी दिल्ली के व्यापारियों को भारी नुकसान पहुंचा है। फिर भारत सरकार ने आत्म-निर्भरता मुहिम चलाने की प्रेरणा दी और आयातित चीनी मालों को कम करने की अपील की। खासतौर पर सीमांत क्षेत्र में चीन और भारत के सैनिकों के बीच हिंसक मुठभेड़ होने के बाद भारत सरकार ने चीनी मालों पर निर्भरता को कम करने का आह्वान किया।

लेकिन दिल्ली के व्यापारी असमंजस में है कि चीनी सामानों का आयात करना उचित है या नहीं। उन्होंने शिकायत की कि मोटर गोड़ी, मोबाइल फोन, टीवी, कंप्यूटर आदि इलेक्ट्रॉनिक उत्पादों की बिक्री में भारी गिरावट आयी है। चीनी मालों को बेचने वाले दिल्ली के व्यापारियों पर मुसीबत के बादल फूट पड़े हैं। एक तरफ़ वे भारत सरकार की आत्म-निर्भरता की अपील का समर्थन करना चाहते हैं, जबकि दूसरी तरफ वे और अधिक नुकसान झेल नहीं पा रहे हैं।

मौजूदा समय में, भारत चीन से करीब 3000 किस्मों के उत्पादों का आयात करता है, जिनमें कच्चा माल, कलपुर्जे, प्रौद्योगिकी उपकरण आदि शामिल हैं। चीनी वस्तुओं के आयात पर एकदम पाबंदी लगाना दिल्ली के व्यापारियों के लिए एक भारी झटका है।

कोविड-19 के प्रकोप से भारत सरकार ने अभूतपूर्व रक्षा कदम उठाये हैं, जिन्होंने गंभीर रूप से नेहरू प्लेस के बाजार की आर्थिक गतिविधियों पर असर पड़ा है। यहां एशिया का सबसे बड़ा कंप्यूटर और इलेक्ट्रॉनिक मार्किट है। दिल्ली के एक व्यापारी जिनका उपनाम अग्रवाल है, ने कहा कि इस समय चीन विरोधी लहर चरम पर है। चीन से आयी आपूर्ति श्रृंखला में समस्या आयी है और उनका व्यापार भी कठिन स्थिति में फंस चुका है।

उन्होंने कहा, “भारत सरकार ने चीन से आयातित मालों के टैरिफ पर 30 प्रतिशत की बढ़ोतरी की है। अब इलेक्ट्रॉनिक भागों और कंप्यूटर भागों को खरीद चुके लोग हवाई अड्डे से उन के पैकेज नहीं हासिल कर पाते हैं।”

साथ ही भारत सरकार ने टिक-टॉक आदि लोकप्रिय चीनी एप्स पर पाबंदी लगा दी है, लेकिन डॉक्टर चिंतित हैं कि यह संभवतः कुछ युवाओं में अवसाद और अन्य समस्याओं का कारण हो सकता है। पिछले महीने दिल्ली विश्वविद्लाय के 18 साल के एक छात्र ने आत्महत्या कर ली, जो पहले टीकटॉक पर बहुत लोकप्रिय था। भारतीय मीडिया की रिपोर्ट के मुताबिक उसका आत्महत्या करना संभवतः टीकटॉक बैन होने से प्रेरित हो सकता है।

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories