महामारी की स्थिति में अलगाव होने की परेशानी कैसे मिटेगी? नासा के विशेषज्ञ आप को बताते हैं

2020-07-08 10:00:00
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn
1/3

बीबीसी की रिपोर्ट के मुताबिक कोविड-19 के प्रकोप के दौरान विश्व में अनेक लोग अलगाव में रहे हैं। हाल में बीबीसी ने अमेरिकी नासा के दो विशेषज्ञों के साथ साक्षात्कार किया और उन्होंने लोगों को कुछ सुझाव पेश किये।

 अंतरिक्ष यात्री केचेल लिदग्रेन ने 2015 में अन्य कुछ अंतरिक्ष यात्रियों के साथ आईएसएस में 141 दिनों के लिए ठहरे थे। इंजीनियरिंग चोसलिन दुन अंतरिक्ष अन्वेषण सिमुलेशन मिशन का एक भाग होने के नाते स्वयं सेवकों के साथ एक शिविर में 8 महीनों के लिए रह चुकी थी। उनके सुझाव निम्न हैं।

1. खुद को व्यस्त रखें और एक समय तिथि बनाएं

 केचेल लिदग्रेन ने कहा कि अगर घर में काम कर सकते हैं, तो बहुत अच्छा मौका होगा। अनेक लोगों के पास ऐसा मौका नहीं है। इस के अलावा, कुछ रुचिकर काम करने से समय जल्दी से गुजर सकता है। आईएसएस में रहने वाले अंतरिक्ष यात्रियों के लिए यह बहुत सौभाग्य की बात है। हाल में लिदग्रेन अपनी पत्नी और तीन बच्चों के साथ घर में रहते हैं। हर हफ्ते वे बच्चों के साथ साकार करने वाले लक्ष्य पर चर्चा करते हैं, ताकि पढ़ाई के अलावा समय निकालकर इन लक्ष्यों को पूरा किया जा सके।

चोसलिन दुन ने एक दिन में कई भागों में विभाजित करने का सुझाव पेश किया, जिन के बीच कुछ आराम का समय होना चाहिए, ताकि व्यायाम या घूमना कर सकें। उन्होंने कहा कि जब लोग घर में काम करते हैं, तो बहुत आसानी से हमेशा के लिए काम करेंगे और हमेशा के लिए आराम नहीं करेंगे।

2. कुप्रभाव पर ज्यादा न सोचें और खुद की गलती माफ करें

केचेल लिदग्रेन ने याद करते हुए कहा कि उन्होंने एक्सपिडिशन44/45 (Expedition 44/45) में पूरे तीन घंटे में व्यायाम उपकरणों की मरम्मत की। लेकिन अंत में उन्हें एहसास हुआ कि उन का तरीका ठीक नहीं है।उस समय वे बहुत निराश थे। लेकिन पृथ्वी पर लोगों ने उन्हें बहुत अच्छा सुझाव दिया। लोगों ने उन्हें बताया कि हरेक आदमी उन की गलती से कुछ न कुछ पा सकते हैं। लोगों ने उन्हें आगे बढ़ाने के लिए प्रेरित किया। यह रुख आईएसएस में अंतरिक्ष यात्रियों के लिए मददगार है।

3. रूममेटों को अपनी प्रतीक्षा बताएं

केचेल लिदग्रेन ने कहा कि अहम बात यह है कि अपने रूममेट या टीममेट के साथ खुद की प्रतीक्षा बताना, इस का अच्छी तरह प्रबंध करना और नियमित रूप से इन प्रतीक्षा पर चर्चा करना।

अंतरिक्ष अन्वेषण सिमुलेशन मिशन के शिविर में चोसलिन दुन और उन के साथियों को घरेलू कार्य भी करना है। उन्हें हर रविवार को समय निकालकर पिछले हफ्ते में स्थिति के बारे में रिपोर्ट देनी है। वे पिछले हफ्ते में किये गये कामों का सिंहावलोकन करते थे और अगले हफ्ते में चुनौतियों का अंदाजा भी करते थे।

4. साथियों के साथ दिलचस्प काम करते हैं, साथ ही अकेलेपन का आनंद भी उठाएं  

केचेल लिदग्रेन ने कहा कि अंतरिक्ष में काम करते समय रूसी अंतरिक्ष यात्री  सप्ताहांत में अकसर समय निकालकर खेल खेलते हैं। जबकि अमेरिकी अंतरिक्ष यात्री आम तौर पर फिल्म देखकर समय बिताते हैं।

पृथ्वी पर रहते समय लिदग्रेन अकसर परिवार के सदस्यों के साथ विविध  सामाजिक गतिविधियों में हिस्सा लेते हैं। उदाहरण के लिए वे वीडियो बैठक के साथ अपने दोस्तों से संपर्क बरकरार रखते हैं।

चोसलिन दुन ने कहा कि परिवारजनों के साथ लम्बे समय के लिए रहने के अलावा अकेलेपन का आनंद भी उठाने की जरूरत है। अंतरिक्ष अन्वेषण सिमुलेशन मिशन के शिविर में रहने की एक बड़ी उपलब्धि है कि सीमित स्थिति में अकेलेपन के महत्व को जानना है। उन्हें 30 मिनट तक शांत रहना है या डायरी लिखना है, या किसी से बातें न करनी हैं।   

5. व्यायाम करें

अब केचेल लिदग्रेन हर हफ्ते अंतरिक्ष यात्रियों के साथ वीडियो में एक बार सामूहिक व्यायाम करते हैं। व्यायाम करना अति महत्वपूर्ण है। खास तौर पर जब हम निहित दबाव का सामना करते हैं, तो व्यायाम करना शारीरिक और मानसिक रिहाई मानी जाती है।

6.  दबाव सहने के स्तर की टेस्ट करें

अध्ययन का एक भाग होने के नाते, चोसलिन दुन ने 8 महीनों के अलगाव की स्थिति में दबाव के स्तर की रिकॉर्टिंग की। उन के अनुसंधान से जाहिर है कि शरीर के दबाव को मापने के लिए हृदय की गति एक अच्छा संकेतक है। यदि जागते समय हृदय की गति तेजी रही, तो हमें संभवतः सुधार करने के लिए कदम उठाना है।

केचेल लिदग्रेन ने कहा कि उन्हें स्वेच्छा से पृथक रहने का विकल्प चुना, लेकिन अब विश्व के लोगों को विवश होकर पृथक करना है। यही सब से बड़ी भिन्नता है। इस बार पूरे समाज के लोगों ने पृथक करने की तैयारी नहीं की, तो तुरंत कठिन स्थिति में फंसा है। इसलिए लोगों को दबाव का तुरंत निपटारा करने से सीखना पड़ता है। लोगों को मनोवैज्ञानिक रूप से लंबी अवधि के लिए तैयार करना चाहिए। लोग खुद की देख-भाल करनी चाहिए और अपनी स्थिति को सब से अच्छा बनाने की कोशिश करनी चाहिए। यह न सिर्फ परिवार के लिए लाभदायक है, बल्कि पूरी कम्युनिटी के लिए भी हितकारी है।

महामारी के मुकाबले में हम अकेले नहीं हैं। हम एकजुट होकर महामारी के प्रभाव को कम करने का प्रयास करें।

शेयर