ड्रैगन नाव की दौड़ प्रतियोगिता

2020-06-26 10:00:00
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn
1/3

ड्रैगन नाव की प्रतियोगिता द्वान वू त्योहार की प्रमुख प्रथा है। कहा जाता है कि प्राचीन काल में देशभक्त महा कवि छ्यू य्येन को पानी में से बचाने के लिए छु राज्य के लोगों ने फटाफट नाव खेते हुए नदी के प्रवाह के साथ चप्पा चप्पा छान लिया। लेकिन तुंग थिंग झील तक भी उस की छाया नहीं मिली। इस के बाद हर साल के पंचम माह की 5 तारीख को लोग ड्रैगन नाव चलाने की गतिविधि से इस घटना की याद करते थे। लोग ड्रैगन नाव खेने के जरिए नदी में मछलियों को भगा देते थे, ताकि मछलियां छ्यू य्येन के शरीर को नहीं खा सकें। यह प्रथा प्राचीन चीन के वू, य्येई व छु राज्यों में खूब प्रचलित रहती थी।

वास्तव में ड्रैगन नाव दौड़ की प्रतियोगिता युद्धरत काल से ही शुरू हुई थी। ढोलों की ऊंची ऊंची आवाज़ में लोग ड्रैगन के आकार वाली नाव चलाते हुए प्रतियोगिता करते थे और देवता व मनुष्य दोनों को मनोरंजन देते थे, इस प्रकार के यज्ञ कर्म में आधा धार्मिक एवं आधा मनोरंजन स्वभाव निहित था।

बाद में ड्रैगन नाव की दौड़ प्रतियोगिता में छ्यू य्येन की स्मृति करने के अलावा विभिन्न स्थानों में त्योहार के भिन्न भिन्न अर्थ भी गर्भित होते हैं।

चे च्यांग प्रांत में ड्रैगन नाव खेने में यह विषय भी जोड़ा गया है कि इस आयोजन से आधुनिक लोकतांत्रिक क्रांतिकारिणी छोंग चिन की याद की जाती है। रात्रि में ड्रैगन की नावें रंगबिरंगीन लालटेनों और झालरों से सुसज्जित होती  हैं और पानी में तैरती दौड़ती हैं। रात्रि रोशनी और परछाइयों के मेल से बड़ा समां बंध जाता है। क्वेई चो प्रांत की म्याओ जाति के लोग चंद्र पंचांग के अनुसार पंचम माह की 25 से 28 तारीख तक ड्रैगन नाव उत्सव का आयोजन करते हैं, जिससे धान के पौधों के रोपन में सफलता मनायी जाती है और अच्छी सफ़ल की कामना की जाती है। युन्नान प्रांत की ताई जाति के लोग जल-छिड़काव उत्सव के समय प्राचीन वीर येन हुंगवो की स्मृति में ड्रैगन नाव दौड़ की प्रतियोगिता करते हैं। विभिन्न जातियों व क्षेत्रों में ड्रैगन नाव चलाने की भिन्न भिन्न कथाएं चलती हैं। आज तक दक्षिण चीन की अनेक नदियों, तालाबों या समुद्र के तटीय क्षेत्रों में हर साल के द्वान वू त्योहार में अपनी अपनी विशेषता वाली ड्रैगन नाव प्रतियोगिताओं का आयोजन किया जाता है।

छिंग राजवंश के सम्राट छ्येन लुंग के शासनकाल के 29वें वर्ष(सन् 1736) में थाईवान में ड्रैगन नाव दौड़ प्रतियोगिता का आयोजन करना शुरू हुआ था। उस समय थाईवान के गवर्नर च्यांग युनच्वन ने थाई नान शहर की फ़ाह्वा मठ में बान य्येईछी तालाब में ड्रैगन नाव दौड़ की मैत्रीपूर्ण प्रतियोगिता का आयोजन किया था। अब तक हर साल के पंचम माह की 5 तारीख को थाईवान में ड्रैगन नाव दौड़ प्रतियोगिता का आयोजन परंपरा बनता है। हांगकांग में भी ड्रैगन नाव प्रतियोगिता आयोजित होती है।

चीन के अलावा ड्रैगन नाव चलाने की प्रथा क्रमशः पड़ोसी देश जापान व वियतनाम और ब्रिटेन तक पहुंच गयी। सन् 1980 में ड्रैगन नाव दौड़ प्रतियोगिता चीनी राष्ट्रीय खेल प्रतियोगिता इवेंटों की सूची में शामिल की गयी। हर साल चीन में“छ्यू य्येन कप”ड्रैगन नाव दौड़ की प्रतियोगिता का आयोजन होता है। 16 जून 1991 को (चीनी चंद्र पंचांग के अनुसार पंचम माह की 5 तारीख) छ्यू य्येन की दूसरी जन्मभूमि हू नान प्रांत के य्येई यांग शहर में प्रथम अंतर्राष्ट्रीय ड्रैगन नाव उत्सव आयोजित किया गया। प्रतियोगिता शुरू  होने से पहले“ड्रैगन का सिर”नामक यज्ञ कर्म भी किया गया जिसमें पारंपरिक रस्म और नये आधुनिक तत्व जोड़े गए हैं। यज्ञ में पहले“ड्रैगन का सिर”छ्यू ज़ ( छ्यू य्येन) मंदिर में लाया गया, फिर खिलाड़ियों ने ड्रैगन के सिर पर लाल रंग का फीता बांध लिया। यज्ञ रस्म के आयोजक ने यज्ञ का पाठ पढ़कर सुनाया, और ड्रैगन के सिर पर आंखें लगायीं। फिर यज्ञ कांड में भाग लेने वाले सभी लोगों ने तीन बार झुककर नमन किया। अंत में ड्रैगन के सिर को मीरो नदी पर ड्रैगन नाव दौड़ के मैच स्थल पर पहुंचाया गया। इस आयोजन में 6 लाख से ज़्यादा लोगों ने प्रतियोगिता, मेले व समारोह में भाग लिया, जो बहुत शानदार तथा अभूतपूर्व था। तभी से हूनान प्रांत में नियमित रूप से अंतर्राष्ट्रीय ड्रैगन नाव उत्सव का आयोजन किया जाता है। ड्रैगन नाव दौड़ विश्व में प्रचलित होगी।

शेयर