चीन और दक्षिण कोरिया ने खोला है फास्ट-प्रविष्टि सिस्टम

2020-06-10 08:00:00
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn
1/3

विश्व में कोविड-19 के प्रकोप में चीन और दक्षिण कोरिया ने संयुक्त रोकथाम की सहयोग प्रणाली के ढांचे में विश्व दायरे में सर्वप्रथम फास्ट- प्रविष्टि सिस्टम खोला है, ताकि दोनों देशों के व्यापार करने, रसद, उत्पादन और तकनीक सेवा आदि कर्मचारियों के सीमा पार करने को सुविधा दे सके। 10 मई को चार्टर विमान पर सवार होकर चीन आने वाली दक्षिण कोरिया की सैमसंग कंपनी के 200 से अधिक कर्मचारी इस तरीके से चीन में आने वाले पहले दक्षिण कोरियाई उद्यमों के लोग हैं।

29 अप्रैल को कोविड-19 से निपटने के लिए चीन और दक्षिण कोरिया ने दूसरी संयुक्त वीडियो बैठक बुलायी और पहली मई से फास्ट-प्रविष्टि सिस्टम लागू करने पर मंजूरी दी। इस सिस्टम के मुताबिक चीन और दक्षिण कोरिया के व्यापारी स्वास्थ्य जांच करने के लिए वीजा का आवेदन दे सकते हैं और जल्द ही दूसरे देश में प्रवेश कर सकते हैं। साथ ही दक्षिण कोरिया के लोग इस तरीके से चीन में प्रवेश करने के बाद सिर्फ एक या दो दिनों के लिए पृथक रहने की जरूरत है, जबकि चीनी लोगों को दक्षिण कोरिया में प्रवेश करने के बाद केवल न्यूक्लिक एसिड टेस्ट करने की आवश्यक्ता है और पृथक रहने की जरूरत नहीं है। इस सिस्टम के लागू होने से चीन और दक्षिण कोरिया के लोगों के पुनःउत्पादन के लिए सुविधा मिलेगी। जिससे दोनों देशों के आर्थिक व व्यापारिक सहयोग की रक्षा की जाएगी, दोनों देशों की उद्योग श्रृंखला और सप्लाई श्रृंखला की स्थिरता को सुनिश्चित किया जाएगा।

दक्षिण कोरिया के विदेश मंत्रालय के आर्थिक व राजनयिक अधिकारी ली सोंग-हो ने कहा कि दक्षिण कोरिया और चीन आर्थिक बहाली के अहम वक्त पर रहे हैं। दोनों देशों के बीच इस सिस्टम की स्थापना से विश्व को अहम अच्छी सूचना दी है। उन्हें विश्वास है कि और अधिक उद्यम इस सिस्टम से लाभ हासिल कर सकेंगे।

दक्षिण कोरिया की सैमसंग कंपनी के उपाध्यक्ष ली वू-जोंग ने कहा कि सैमसंग कंपनी चीनी बाजार को बड़ा महत्व देती है। चीन में उस कंपनी का बड़ा निवेश है। इस सिस्टम का खुलना दोनों देशों के व्यापारियों के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। उन के मुताबिक,दक्षिण कोरिया और चीन के लिए हाल के सहयोग की स्थिति बहुत महत्वपूर्ण है। हालांकि कोविड-19 ने दोनों के आर्थिक संपर्क में बाधा डाली है, फिर भी इस अहम वक्त पर दोनों देशों की सरकारों ने फास्ट- प्रविष्टि सिस्टम खोला है, जो आर्थिक और वाणिज्य लोगों के लिए मददगार है।

दक्षिण कोरिया स्थित चीनी राजदूत शिन हाईमिंग ने कहा कि चीन और दक्षिण कोरिया के बीच इस सिस्टम की स्थापना दोनों देशों के नेताओं द्वारा संपन्न सहमति के कार्यान्वयन की यथार्थ कार्यवाई है, जो कोविड-19 की पृष्ठभूमि में उठाया गया एक नया कदम है। उन के मुताबिक,पहले दोनों देशों ने विदेश मंत्रियों के नेतृत्व में विभिन्न विभागों की भागीदारी संयुक्त रोकथाम प्रणाली की स्थापना की। फिर अब यह नया सिस्टम भी लागू हो गया है। इस ने हमारे आर्थिक, वाणिज्य, वैज्ञानिक व तकनीक आदि लोगों के आने-जाने के लिए स्थितियां तैयार की है, जो दोनों देशों की आर्थिक बहाली और विकास में अहम भूमिका अदा कर सकेगा। साथ ही यह सिस्टम विश्व के लिए भी अच्छा नमूना है।

चीनी राजदूत शिन हाईमिंग ने आगे कहा कि चीन वैश्विक अर्थतंत्र के विकास की प्रेरणा शक्ति है। चीनी अर्थतंत्र पर महामारी का प्रभाव अस्थायी है। चीन में आर्थिक विकास की बुनियादी स्थिति अच्छी रहेगी।

शेयर