चीन का सबसे बड़ा पानी देवता मंदिर----चीतू मंदिर

2020-02-13 10:00:00
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn
2/3

मध्य चीन स्थित ह नान प्रांत के ची युआन शहर का चीतू मंदिर का इतिहास कोई एक हजार चार सौ साल पुराना है और वह चीन में सब से अच्छी तरह संरक्षित एक ऐसा मंदिर है, जहां पानी देवता की पूजा की जाती है। साथ ही वह राष्ट्रीय प्राथमिकता प्राप्त प्राकृतिक परिरक्षित क्षेत्रों में से भी एक है। ची तू मंदिर में न सिर्फ हजार वर्ष पुरानी पानी देवता की मूर्ति रखी गयी है, बल्कि अतीत के कई राजवंशों के श्रेष्ठ निर्माण भी वहां सुरक्षित हैं। इसलिए चीनी वास्तु शास्त्रियों ने इस प्राचीन मंदिर को चीनी प्राचीन वास्तु अजायबघर की संज्ञा भी दी है।

ह नान प्रांत की राजधानी चंगचो शहर से कार पर सवार होकर डेढ़ घंटे में ची युआन शहर के उपनगर में स्थित ची तू मंदिर पहुंचा जा सकता है। ची तू मंदिर का क्षेत्रफल 80 हजार वर्गमीटर बड़ा है। इस मंदिर का अगला भाग चौकोर है, जबकि पिछला भाग गोलाकार है। इस पानी देवता मंदिर के इस प्रकार के आकार-प्रकार से इस बात का पता चलता है कि पुराने जमाने में चीनी लोगों की मान्यता में पृथ्वी चौकोर थी और अंतरिक्ष गोलाकार था।

ची तू मंदिर में तू का अर्थ है समुद्र में जा मिलने वाला पानी। पुराने जमाने में लोगों की मान्यता थी कि चीन में केवल यांग्त्सी नदी यानी छांग च्यांग नदी, पीली नदी, ह्वेइ ह नदी और ची श्वी नदी का पानी ही समुद्र में मिलने लायक था। इसलिए ची श्वी नदी के तट पर निर्मित इस मंदिर का नाम ची तू मंदिर रखा गया। ची तू मंदिर में पानी देवता की पूजा के लिए आयोजित पूजा प्रार्थना को सब से उच्च दर्जे की पूजा माना जाता था। ची तू मंदिर का रखरखाव चीन में सब से बढ़िया है।

ची तू मंदिर के मुख्य द्वार से सीधे आगे बढ़कर कई मोटी लकड़ियों के बने दरवाजे देखने को मिलते हैं। फिर इस से होकर और कोई दो सौ मीटर पुराने पत्थरों के रास्ते पर आगे जाने के बाद ची तू मंदिर का सब से भव्यदार भवन दिखाई देने लगता है। यहीं है पानी देवता का सोने का भवन। लकड़ियों से तैयार इस भवन का क्षेत्रफल कोई सौ वर्गमीटर से अधिक है। पानी देवता की बड़ी मूर्ति की आकृति बेहद विनम्र और दयालु नजर आती है और वह बड़े शांतचित सुन्दर नक्काशीदार पलंग पर लेटे हुए दिखाई देते हैं तथा उन की लम्बी काली दाढ़ी भी तकिये के पास पड़ी हुई है। जबकि उन की तीन पत्नियां भवन के गेट के पास खड़ी हुई दिखाई देती हैं, मानो पानी देवता की नींद खराब न होने देने के लिए पहरे पर खड़ी हों।

चीन के भीतरी इलाके में बौद्ध धर्म और ईसाई धर्म की बहुत सी धार्मिक शाखाओं में सुप्त मूर्ति की पूजा बहुत कम देखने को मिलती है। लेकिन ताऊ धर्म में विशेष तौर पर सुप्त ची तू देवता की पूजा की जाती है। तत्कालीन स्थानीय लोगों की मान्यता थी कि यदि ची तू देवता ची श्वी नदी के तट पर निश्चिंत रूप से सोते रहेंगे, तो यहां के आम लोग सुख चैन से जीवन बिता सकते हैं।

पानी देवता के सोने वाले भवन के पीछे ची नदी का उद्म स्थल है। यहां का प्राकृतिक दृश्य बहुत चमत्कारपूर्ण है। विशाल समतल मैदान में अचानक कई चश्मे फूटकर निकले हुए दिखाई पड़ते हैं और पिछले हजारों वर्षों से वे इसी तरह बह रहे हैं। ये झरने पूर्व की ओर मध्य चीन के ह नान और शानतुंग दोनों प्रांतों में एक हजार किलोमीटर की यात्रा के बाद सीधे समुद्र में जा मिले हैं। कुछ लोकाचार विद्वानों का कहना है कि चीश्वी की यह अद्म भावना ही ची तू मंदिर में पिछले हजार वर्षों से पानी देवता की पूजा करने का प्रमुख कारण है।

पानी देवता के सोने वाले भवन और ची श्वी पानी का उद्म स्थान देखने के बाद अब हम चलते हैं ची तू मंदिर में सुरक्षित प्राचीन वास्तु निर्माण देखने। ची तू मंदिर की एक अलग पहचान यह है कि इस मंदिर में चीन के सुंग, युआन, मिंग और छिंग जैसे अनेक राजवंशों के काल में निर्मित वास्तु भवन बड़े ढंग से सुरक्षित हैं। इन में कुछ भवन एक हजार वर्ष से भी अधिक पुराने हैं और इन भवनों में चीन के अलग अलग राजवंशों की विशे, वास्तु शैलियां अभिव्यक्ति हुई हैं।

ची तू मंदिर का मुख्य द्वार भी बड़ा अजीब सा लगता है। इस द्वार के ऊपर तीन बड़े कमरों से अधिक बड़ी छत केवल चार मोटे लकड़ी के खंभों पर टिकी हुई है और उसका इतिहास आज से कोई पाँच सौ साल पुराना हो गया है। ची श्वी नदी के उद्म स्थल पर और एक लिन युआन नामक द्वार है, उस का निर्माण सात सौ से अधिक वर्ष पहले के युआन राजवंश काल में हुआ था। इस द्वार के बगल में एक प्राचीन मंडप यानी ड्रेगन मंडप अपना अलग स्थान रखता है, क्योंकि इस छोटे मंडप का आधार एक हजार वर्ष पहले के सुंग राजवंश का है। खंभे सात सौ साल वर्ष पहले युआन राजवंश के हैं, जबकि छत चार पाँच सौ वर्ष पहले के मिंग राजवंश में पुनर्निर्मित हुई है। यह ड्रैगन मंडप चीनी वास्तु शैलियों का नमूना माना जाता है।

ची श्वी नदी के उद्म स्थल पर और एक शिला बाड़ बेहद ध्यानाकर्षक है और वह वर्तमान चीन में सब से अच्छी तरह सुरक्षित सुंग राजवंश में बनी एक मात्र शिला बाड़ है। इस हजार वर्ष पुरानी शिला बाड़ पर सूक्ष्म शिल्पकला के साथ साथ बौद्ध धार्मिक चित्रों का चित्रण भी हुआ है। इस से जाहिर है कि तत्कालीन युग में बौद्ध धर्म और चीनी ताऊ धर्म एक दूसरे को आत्मसात कर रहे थे।

ची तू मंदिर में अब दसेक ताऊ धर्म के पुरोहित रहते हैं और वे मंदिर के साधारण पूजा कार्य को देखते हैं। आम लोग यहां आकर दुआ मांगने के लिए पानी देवता की पूजा करते हैं। उन्हें विश्वास है कि पानी देवता उन की रक्षा करने में समर्थ है। यहां साल में प्रार्थना समारोह और अन्य प्रकार के धार्मिक आयोजन किये जाते हैं।

चीनी पंचाग के अनुसार हर साल छः फरवरी को पानी देवता का जन्म दिवस मनाया जाता है। मौके पर ची तू मंदिर में भव्य रूप से विविधतापूर्ण धार्मिक आयोजन किये जाते हैं और आसपास के हजारों स्थानीय लोगों को आमंत्रित किया जाता है। कुछ साल पहले ची तू मंदिर की फिर से मरम्मत की गयी है। अब यह मंदिर बिल्कुल नयी सूरत में लोगों के लिए खुल गया है। पर्यटक इस मंदिर में सुरक्षित प्राचीन पेड़ या पत्थर देखकर उस के पीछे छपी मजेदार ऐतिहासिक कहानी की याद कर सकते हैं।

शेयर