सूचना:चाइना मीडिया ग्रुप में भर्ती

ली च्यांग के सू ह कस्बे की यात्रा

2020-01-29 10:00:00
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

सू ह प्राचीन कस्बा ली च्यांग प्राचीन नगर के उत्तर में स्थित है। ऐसा कहा जाता है कि ली च्यांग आने के बाद अगर आप सू ह प्राचीन कस्बा नहीं जाते हैं तो ली च्यांग का भ्रमण भी अधूरा ही माना जाता है। सू ह के चारों तरफ घने जंगल हैं और कस्बे के पास सड़कों के पास कलकल बहती हुई नहरों की आवाज भी सुनी जा सकते हैं। सुबह-सुबह इस प्राचीन कस्बे के शांत मार्ग पर घूमते हुए ऐसा लगता है जैसे आप इतिहास के किसी पन्ने पर दूर निकल गये हों। लकड़ी के बने हुए घर, पत्थरों वाली गलियां, घरों के सामने बैठे हुए बूढ़े लोग सभी इस कस्बे की प्राचीन स्थिति से अवगत कराते हैं। आन ह्वी प्रांत से आए वांग भी इस कस्बे की सुंदरता में खो गये हैं।

वे पहली बार ली च्यांग आये हैं। यहां आने से पहले अपने मित्रों से सुना था कि यहां के बार बहुत ही आकर्षक होते हैं। बार का माहौल बहुत ही उत्साहजनक होता है। उन्हें भी इसने बहुत आकर्षित किया है। लेकिन यहां आने के बाद उन्हें पता चला कि उन्हें यहां के प्राचीन इमारतों से ज्यादा लगाव हो गया है। यहां के प्राचीन इमारतों का रख-रखाव बहुत अच्छे तरीके से किया गया है। यहां घूमने के दौरान बहुत शांति व अमन महसूस होता है। यहां उन्हें बहुत आरामदेह महसूस होता है। यहां के लोग भी काफ़ी मिलनसार और ईमानदार हैं।

वास्तव में प्राचीन चाय-घोड़ा मार्ग के एक महत्वपूर्ण पड़ाव के रूप में सू ह प्राचीन कस्बा का इतिहास भी बहुत शौर्यपूर्ण रहा है। वह कभी एक समृद्ध जगह थी, अब चीन के प्रथम चाय-घोड़ा मार्ग से संबंधित संग्रहालय यहीं पर स्थित है। इस संग्रहालय के संबंधित कर्मचारी पाय ची युआन ने हमें बताया कि सू ह प्राचीन कस्बा चाय-घोड़ा मार्ग पर स्थित एक महत्वपूर्ण व्यापारिक पड़ाव है। सू ह कस्बा युनान प्रांत व तिब्बत के बीच एक सीमांत इलाका है। युनान प्रांत के दक्षिण भाग से उत्तर-पश्चिम की ओर जाने वाले हरेक यात्री को इसी कस्बे से होकर गुजरना पड़ता है। सन् 690 से लेकर 1949 तक एक हजार से भी ज्यादा साल तक यहां पर लोग घोड़े की मदद से व्यापार करते आते थे। जबकि सू ह कस्बा यहां पर एक महत्वपूर्ण व्यापारिक पड़ाव के रूप में बहुत अहम था।

कहा जाता है कि पुराने जमाने में यहां पर व्यापारी बड़ी संख्या में आते जाते थे। यात्रियों के ठहरने के सरायों और तरह तरह की दुकानों की संख्या तीस के आसपास पहुंची थी। इसी स्थल पर पले-बढ़े श्रीमान शि को अभी भी इस प्राचीन कस्बे के वैभव की याद है। उन्होंने कहा कि वे बचपन में जब घंटी की आवाज सुनते थे तो पता चल जाता था कि जरूर किसी व्यापारी का काफिला आ पहुंचा है। खास कर दोपहर बाद अकसर घोड़ों के काफिलों की तांता लगती थी। जब यहां पर व्यापारियों का काफिला रूकता था तब दोपहर बाद यहां पर चहल-पहल बढ़ जाता था। जैसे-जैसे रात ढलती थी यहां रौनकता और ज्यादा बढ़ जाती थी। पहले के जमाने में न तो बिजली होती थी, ना ही केरोसिन की लालटेन थी। लोग मशाल की रोशनी में खरीद-बिक्री करते थे। सू ह कस्बे में अनेक मनोहर परिदृश्य देखने को मिलते थे, रात्रि बाजार उनमें से एक था, रात में मशाल की रोशनी में मेला लगने का दृश्य बहुत ही आकर्षक था और तत्काल की समृद्धि का साक्षी भी था। श्रीमान शि ने तत्काल घोड़ा हांकने वालों के जीवन की याद में कहा, पहले के जमाने के लोग बहुत ही कठिन जीवन जीते थे। लोग जबतक घोड़े पर सवारी करते थे तब तक तो आराम महसूस होता था लेकिन जब घोड़ा आराम करता था, तब उन्हें पैदल ही यात्रा करना पड़ता था। वहीं किसी जगह रूककर खाना बनाना और घोड़ा चराना पड़ता था और पानी भी ले जाना पड़ता था। इसलिए उस समय घोड़ा हांकने वाले लोग बहुत ही कष्टदायक जीवन बिताते थे।

अब प्राचीन कस्बे का कायापलट हो गया है। प्राचीन काल का दुर्गम मार्ग अब आधुनिक काल के सुगम मार्ग में परिवर्तित हो गया है, लेकिन हम उस समय के व्यापारियों की कष्टदायक यात्रा की कल्पना कर सकते हैं। वे लोग डकैती व महामरी जैसे अनेकों खतरों से जूझते हुए चाय-घोड़ा मार्ग पर व्यापार करने के लिए आते थे। महीनों सघन जंगल से गुजरते चलते थे, तेज़ धार वाली नदी में चमड़े की नावों पर सवार तैरते थे, खुली हवा में खाते और सोते थे। जीवन इतना दूभर था कि उनमें से बहुत से लोग अपने प्राण भी गवां देते थे। उस समय लोग रस्सी की सहायता से नदी पार करते थे। उस समय यहां आने वाले व्यापारियों के बीच एक कहावत प्रसिद्ध था कि चाय-घोड़ा मार्ग पर सिर्फ चूहे और पक्षी ही घने जंगल को पार कर सकते हैं। लेकिन उन लोगों ने साहस पूर्वक सघन जंगलों में भी रास्ता बना दिया था। घोड़े के गले में बंधी हुई घंटियों की आवाज के सहारे उन्होंने इस दुर्गम जंगल को पार करते हुए लोगों के लिए एक नया द्वार खोल दिया, जिससे ली च्यांग बाह्य दुनिया से जुड़े गया था।

उन के मुताबिक, उस समय व्यापारियों का काफिला बाहर जाकर व्यापार करते थे और वहां से कुछ नयी चीज़ें लेकर आते थे, जिससे स्थानीय लोगों का जनजीवन भी प्रभावित होता था। साथ ही वे लोग वहां के रीति-रिवाज़ों को भी सीख कर आते थे। चाय भी बाहर से आया है। चाय पीना गरम पानी पीने से ज्यादा बेहतर है। और यह हरा पत्थर, यह भी बाहर से यहां आया है। उस समय भी हमें इस रंग का पत्थर देखने के बाद बहुत आश्चर्य होता था क्योंकि ली च्यांग में इस रंग का पत्थर नहीं पाया जाता है।

नासी जाति के लड़कों के फैशनेबल पोशाक से हम लोगों को समय के परिवर्तन का पता चला है, लेकिन उन के हावभाव में अभी भी वही प्राचीन रीति-रिवाजों की झलक दिखाई जाती है। प्राचीन चाय-घोड़ा मार्ग एक अविस्मरणीय हतिहास है जिससे कभी भी भूला नहीं जा सकता है। यह मार्ग बाहरी दुनिया से संपर्क का एक महत्वपूर्ण मार्ग है। अगर यह मार्ग नहीं होता तो उन्हें हान जाति की संस्कृति से संपर्क नहीं हो पाता। अगर यह मार्ग नहीं होता, घोड़ों का काफिला नहीं होता तो आज यह जीवन भी इस तरह का नहीं होता। यह प्राचीन सभ्यता भी नहीं होती।

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories