सूचना:चाइना मीडिया ग्रुप में भर्ती

वसंतोत्सव

2020-01-22 10:00:00
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

वसंतोत्सव

वसंतोत्सव चीनी चंद्र पंचांग के अनुसार सन् के पहले दिवस पर मनाया जाता है, यह नव वर्ष का त्योहार होता है, जो चीनी परम्परागत त्योहारों में सब से महत्वपूर्ण और सब से उत्साह देने वाला त्योहार भी है। चीनी पंचांग का नव वर्ष शीत काल के अंत और वसंत काल के शुरू में पड़ता है, इसलिए चीनी लोग उसे “छ्वनच्ये” यानी वसंतोत्सव कहलाते हैं।

चीनियों में वसंतोत्सव मनाने के अनेक परम्परागत रीति-रिवाज़ और प्रथाएं हैं। साल के अंतिम माह की 23वीं तारीख से ही लोग वसंतोत्सव मनाने की तैयारियां करने लगते हैं। इस के दौरान नये साल के आगमन के स्वागत में घर घर में सफ़ाई की जाती है, त्योहार की चीज़ें खरीदी जाती हैं, खिड़की पर काग़ज़ कटिंग तथा दीवार पर वसंतोत्सव चित्र लगाए जाते हैं, वसंतोत्सव के शुभ सूचक सुलेखन लिखे जाते हैं और त्योहार के लिए स्वादिष्ट खाना पकाया जाता है।

वसंत त्योहार की पूर्वरात्रि को “छूशी” कहा जाता है, यह पारिवारिक मिलन की वेली होती है, सभी लोग एक साथ घर का सब से अच्छा रात्रि भोजन करते हैं, इसके बाद गपशप मारते और खेल क्रीड़ा करते रहते हैं। नव नर्ष के पहले दिन की प्रतीक्षा में सुबह तक जागते रहते हैं, इसे “शोस्वेइ”( नये साल का इंतजार) कहा जाता है। आधी रात शून्य बजने पर लोग “च्याओची” यानी डम्पलिंग खाते हैं। प्राचीन समय में आधी रात के 23 बजे से दूसरे दिन के एक बजे तक “ज़ीशी” कहा जाता था, जबकि आधी रात के बारह बजे यानी शून्य बजे को “ज़ीजङ” कहलाता है। वसंत त्योहार की पूर्ववेली “ज़ीजङ” ठीक नव वर्ष और बीते वर्ष की संधि वेली पर होती है और च्याओची खाने का अर्थ नए साल के पुराने साल का स्थान लेने से है। इसी वजह है कि डम्पलिंग का नाम च्याओची रखा गया है।

वसंत त्योहार की पूर्ववेली मनाने के बाद नव वर्ष का प्रथम दिन आता है। इसी दिन से चीनी लोग रिश्तेदारों व दोस्तों के घर जाकर बधाई देते है। चीनी में यह “पाईन्येन” कहा जाता है। “पाईन्येन” वसंतोत्सव की महत्वपूर्ण प्रथा होती है, ऐसे मौके पर लोग एक दूसरे को ढेरों शुभकामनाएं देते हैं।

पटाखा छोड़ना वसंतोत्सव के दौरान बच्चों का सब से पसंदीदा खेल है। कहते थे कि पटाखों की आवाज से भूत-प्रेत तथा दुष्ट-अनिष्ट को भगाया जा सकता है। इस तरह हर वर्ष वसंतोत्सव की पूर्व रात्रि से ही चीन भर में पटाखों की आवाज़ गूंज़ उठती है, आतिशबाजियों की रंगारंग छटा चमकती है, इससे त्योहार के माहौल में आनंद और उल्लास का रंग बढ़ जाता है।

वसंतोत्सव के दौरान बहुतेरी जगहों में मेला आयोजित किया जाता है, जिस में प्रदर्शित ड्रैगन नृत्य और शेर नृत्य बहुत दिलचस्प लगता है। मेले में लोग भांति भांति के कलात्मक वस्तुएं खरीद सकते हैं और विभिन्न क्षेत्रों के जायेकदार पकवान भी चखाते हैं। मेले में बेशुमार लोग आकर्षित होते हैं।

हालांकि इधर के दसियों वर्षों में वसंतोत्सव की रीति प्रथा में भारी परिवर्तन आया है, फिर भी चीनियों या विदेशों में रह रहे चीनी राष्ट्र की संतानों के दिल में हमेशा यह सब से महत्वपूर्ण त्योहार ही है। पटाखा और च्याओची इस त्योहार के सब से महत्वपूर्ण प्रतीकत्व भी है।

1234...MoreTotal 5 pagesNext

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories