सूचना:चाइना मीडिया ग्रुप में भर्ती

विश्व में नया साल मनाने के रीति रिवाज

2020-01-01 10:00:00
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

1 जनवरी को चीनी लोग युआन तान कहते हैं। प्राचीन काल से चीन में युआन तान का उत्सव मनाया जाता रहा है। लोग आम तौर पर इसे छोटा वसंत त्योहार मानते हैं। प्राचीन काल से चीन का युआन तान उत्सव चीनी पंचांग के अनुसार साल के पहले महीने का पहला दिन था, लोग सम्राट श्वन और राओ की स्मृति में गतिविधियां करते थे। चीन के सम्राट उस दिन पूर्वजों की पूजा करते थे। लोग ड्रैगन नृत्य करने, पटाखा छोड़ने और भोजन करने आदि तरीकों से युआन तान मनाते थे। 1949 के 27 सितंबर को चीनी जन राजनीतिक सलाहकार सम्मेलन(सीपीपीसीसी) के पहले पूर्णाधिवेशन ने यह निर्णय लिया कि पश्चिमी पंचाग के अनुसार 1 जनवरी को चीन का युआन तान उत्सव बनाया। इस तरह चीन विश्व में 12वां देश बना, जो नया साल मनाने लगा है।

विश्व के अधिकांश देशों ने हर साल के 1 जनवरी को युआन तान उत्सव तय किया, जबकि चूंकि हरेक देश की भूस्थिति अलग अलग हैं, कुछ देशों के लिए युआन तान की तिथि भी अलग है। तो विश्व के विभिन्न देशों में लोग युआन तान को कैसे मनाते हैं। आज के प्रोग्राम में हम कुछ जानकारी देंगे।


चीन की तरह डीपीआरके में नये साल पर खिड़कियों में स्टीकर लगाने का रीति रिवाज है। कुछ लोग द्वार पर देवता या परियों के चित्र भी लगाते हैं और प्रार्थना करते हैं कि भगवान उन्हें सुखमय दें। युआन तान के तड़के, लोग कुछ पैसों को घास से बनायी गयी मूर्ती में लगाकर चौराहे पर रखते हैं, ताकि बुराई को दूर करें और भाग्य का स्वागत करें। नये साल में डीपीआरके की महिलाएं नये कपड़े पहनती हैं। लड़कियां खास टोपी और रंगीन कपड़े पहनकर झूला झूलने की प्रतियोगिता करती हैं, वे आम तौर पर एक पेड़ को निशाना बनाती हैं। जो लड़की पहले इस पेड़ को छू लेती हैं, वहीं विजेता बनती है। कभी कभार वे ऊंचे स्थान पर घंटी लगाती हैं। जो लड़की पहले घंटी बजाती है तो वह जीतती है। नव वर्ष के दौरान डीपीआरके के लोग स्वादिष्ट व्यंजन खाने और शराब पीने के अलावा मीठा चावल भी पकाते हैं, जिस का प्रतीक है कि परिवार के लोग मीठा जीवन बिता सकें।


दक्षिण एशिया के अफगानिस्तान में वसंत विषुव को युआन तान तय किया गया, जबकि यहूदी लोग शरद विषुव को युआन तान मनाते हैं। जबकि एस्किमो लोग के लिए युआन तान एक निश्चित दिन नहीं होता। वे साल में पहली बारिश को युआन तान मनाते हैं। थाईलैंड में परम्परागत नया साल जल-छिड़काव महोत्सवहै, जो हर साल के 13 से 16 अप्रैल तक होता है। मिस्र में नील नदी के पानी बढ़ने के पहले दिन को नया साल मानते हैं। वे आम तौर पर द्वार पर एक मेज़ रखते हैं, जिस पर बीज़, आटा और कुछ हरे पौधों के बीज रखे जाते हैं। यह सब समृद्धि का प्रतीक होता है।

भारत में हर साल फरवरी से मार्च के बीच होली का त्योहार मनाते हैं, जिसे भारत का नया साल माना जाता है। लोग लाल रंग को लेकर बाहर जाते हैं। रास्ते में जो भी मिले उस पर लाल रंग डाला जाता है। यह शुभ और सुखमय का प्रतिबिंबित होता है।

उत्तर एशिया के मंगोलिया में वृद्ध लोग चरवाहे के रूप में हाथ में रस्सी बांधते हैं और इसे निरंतर मारकर और ऊंची आवाज़ देते हैं। यह इस का द्योतक है कि बुराई को मिटाना और शुभकामना देना।

ब्राजील के लोग युआन तान के दिन में मशाल उठाकर पहाड़ों पर चढ़ते हैं। स्विजरलैंड के लोग युआन तान में व्यायाम शाला जाते हैं। ग्रीस में युआन तान के अवसर पर हर परिवार में एक बड़ा केक बनाया जाता है, जिस में एक चाँदी का सिक्का रखा जाता है। जिस व्यक्ति को खाते समय सिक्का का पता चल जाता है, उसे सौभाग्यशाली मानते हैं। प��किस्तान में लोग युआन तान का दिन लाल पाउडर के साथ बाहर जाते हैं और नये साल की शुभकामना देने के लिए एक दूसरे को लाल पाउडर लगाते हैं। बुल्गेरिया में यदि कोई मेहमान युआन तान का खाना खाते समय छींकता है, तो मेजबान उसे एक भेड़, गाय या घोड़ा देगा, चूंकि वह पूरे परिवार के लिए सौभाग्य लाया है। परागुआ के लोग हर साल के अंतिम पाँच दिनों में ठंडा व्यंजन उत्सव मनाते हैं। इन पाँच दिनों में चाहे राष्ट्रनेता या आम लोग, सब सिर्फ़ ठंडा व्यंजन खाते हैं। फिर नव वर्ष का पहला दिन ही खाना पका सकते हैं।

ब्रिटेन में नया साल क्रिसमस की तरह इतना धूमधाम से नहीं मनाया जाता है, फिर भी स्थानीय लोग अपनी रीति-रिवाज से विविध गतिविधियां भी करते हैं। साल के अंतिम दिन की आधी रात ब्रिटिश लोग केक व शराब लेकर परिजनों के घर जाते हैं। कहा जाता है कि नये साल में कमरे में कदम बढ़ाया गया पहला आदमी बहुत सौभाग्यशाली होता है। यदि घर में आया पहला मेहमान एक काले बाल वाला पुरुष हो, या एक सुखमय व समृद्ध आदमी होता है, तो मेजबान पूरे साल में बहुत सौभाग्य होगा। लेकिन पहला मेहमान एक पीले बाल वाली महिला या एक गरीब आदमी हो, तो नये साल में मेजबान दुर्भाग्य होगा। आधी रात को परिवारजनों में आने के बाद बातचीत करने से पहले लोगों को चिमनी में आग लगानी होती है, जिसका अर्थ है मेजबान को शुभकामना देना है।

उधर फ्रांस के लोगों को नये साल आने से पहले घर में सभी शराब को पीना पड़ता है, जिससे अनेक लोग नशे में आते हैं। उन का मानना है कि अगर युआन तान में घर में और शराब बची हो, तो नया साल अशुभ होगा। साथ ही फ्रांसीसी लोग यह भी मानते हैं कि युआन तान का मौसम नये साल के भाग्य का प्रतीक है। युआन तान की सुबह वे सड़कों पर जाकर हवा की दिशा की जांच करते हैं। दक्षिण की ओर हवा चलने से पूरे साल में शुभ माना जाता है, पश्चिम की ओर हवा चलने से फसल का वर्ष माना जाता है, जबकि उत्तर की ओर हवा चलने से फसल अच्छी न होने का प्रतीक कहते हैं।

जर्मनी में नया साल पूरे एक हफ्ते के लिए मनाया जाता है। इस दौरान हरेक परिवार में पेड़ रखा जाता है, जिस पर रेशमी फूल लगाये जाते हैं। बच्चे नये कपड़े पहनकर हारमोनिका और अकॉर्डियन पकड़े गली में बजाते हैं। जर्मन के ग्रामीण क्षेत्रों में पेड़ पर चढ़ाने की प्रतियोगिता भी प्रचलित है, जिस का प्रतीक है कि नये साल में पदोन्नति पा सकना।

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories