सूचना:चाइना मीडिया ग्रुप में भर्ती

छुंगछिंग की च्येइफांग सड़क के पांगपांग

2019-11-20 07:00:00
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

2019 के 1 अक्तूबर को चीन लोक गणराज्य की स्थापना की 70वीं वर्षगांठ थी। अगर आप चीन की यात्रा करते हैं, तो पता चलेगा कि चीन के अनेक शहरों में च्येइफांग(मुक्ति देना) या च्येनक्वो(देश की स्थापना) के नाम वाले मार्ग हैं। हाल में हमारे पत्रकार मध्य चीन के छुंगछिंग के च्येइफांग सड़क गए।

छुंगछिंग भारत के तमिलनाडु की राजधानी चेन्नई शहर का मैत्रीपूर्ण शहर है। छुंगछिंग में च्येइफांग सड़क शहर के मध्य में एक बहुत व्यस्त स्थल है। इस सड़क पर लोग अनेक पांगपांग देख सकते हैं, जिन के कंधे पर एक मीटर लम्बी बांस की लाठी होती है और लाठी के दोनों ओर रस्सी। वे हैं मानव कुली हैं, जबकि छुंगछिंग वासी उन्हें पांगपांग पुकारते हैं।मेरा नाम ल्यू श्याओश्याओ है। 1992 में मैं अपने जन्मस्थान से छुंगछिंग आया। शुरू में मैं सब्जियां बेचता था, अख़बार भेजता था। यहां मैं अनेक काम कर चुका हूं। फिर भी सब से लम्बे के लिए मैं पांगपांग का काम करता रहा।

ल्यू श्याओश्याओ अब छुंगछिंग के मशहूर उद्योगपति बन चुके हैं। लेकिन जवानी के दिनों में उन्हें पांगपांग का काम करना पड़ा। उन के मुताबिक,चीन में सुधार व खुलेपन की शुरूआत में पांगपांग का व्यवसाय शुरू हुआ था। पिछली शताब्दी के 80 के दशक में चीन के गांवों में अनेक श्रमिक शहरों में आएं। कुछ पेइचिंग, शांगहाई या क्वांगचो में काम करने गये, जबकि कुछ लोग आसपास के कई शहरों में काम करते थे। छुंगछिंग एक पहाड़ी शहर है। यहां की अधिकांश इमारतों में लिफ्ट नहीं थीं। इसलिए पांगपांग छुंगछिंग में बहुत लोकप्रिय हैं।

उस समय गांवों से आए मजदूर आम तौर पर अनपढ़ थे। उन के पास तकनीक भी नहीं थी। उन्हें एक बांस की लाठी से शहरों में माल पहुंचाना पड़ता था। कहा जाता है कि छुंगछिंग में एक बार 1 लाख पांगपांग थे।

चीन में सुधार व खुलेपन के पिछले 41 सालों में छुंगछिंग शहर में चीन के अनेक शहरों की तरह भारी परिवर्तन आया है। ल्यू श्याओश्याओ को भारी महसूस हुआ। उन के मुताबिक,पहले ये मकान नहीं थे। दोनों किनारे पुराने मकान थे। अनेक पांगपांग थे। अब यहां बहुत सुन्दर बन चुका है।

पहले च्येइफांग सड़क पांगपांग का एकमात्र क्षेत्र थी। अब पुराने घर खत्म होने के साथ साथ पांगपांग की संख्या भी कम होती रही है।

आजकल रोजगार के अनेक मौके हैं। जवान पांगपांग का काम नहीं करना चाहते हैं। शहरों के विकास ढांचे में भी भारी परिवर्तन आया है। उदाहरण के लिए छ्याओथ्येनमन बंदरगाह चीन में अपेक्षाकृत मशहूर थोक बाजार है, लेकिन अब इस का स्थानांतरण किया गया है। फिर छुंगछिंग में अनेक रेलवे स्टेशन बन चुके हैं, इसलिए च्येइफांग सड़क में इतनी भीड़ भाड़ नहीं रहती। सो यहां पांगपांग की संख्या में भी कटौती आयी है।

8 वर्षों के पांगपांग का काम करने के बाद 1998 में ल्यू श्याओश्याओ ने कई मित्रों के साथ छुंगछिंग पांगपांग सेवा कंपनी लिमिटेड की स्थापना की। पिछले 21 सालों में उन की कंपनी में कुल 20 और दसों कार्गो होने वाला लोडिंग और अनलोडिंग कंपनी बन गयी। ल्यू के मुताबिक,पांगपांग कंपनी की स्थापना का मेरा मकसद है, आसपास के लोगों की मदद करना। साथ ही दूसरी तरफ़ से उन पर असर डालूंगा।

पांगपांग की कंपनी के अलावा ल्यू श्याओश्याओ ने रियल इस्टेट और होटल बिजनेस ��ें भी निवेश किया है। वह पहले का पांगपांग नहीं रहा। उन्होंने कहा,शहर में प्रवेश करते समय यहां के लोग गांववासियों को नहीं स्वीकार करते थे। लेकिन आज वे उन की बिलकुल मान्यता दे चुके हैं। चूंकि गांवों से आए उन लोगों ने शहर के विकास में भारी योगदान किया है।

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories