विश्व कारखाने से शक्तिशाली आर्थिक देश, बड़ा विज्ञान व तकनीक देश और बड़ा नवाचार देश बन गया है चीन

2019-01-16 10:00:00
Comment
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn
1/8

सामान्य चीनियों के लिए पिछले 40 सालों में उनके जीवन और देश के विकास में भारी परिवर्तन आया है। चीन एक बड़े कृषि देश से विकसित होकर बड़ा उद्योग देश बन चुका है। चीन विश्व कारखाने से शक्तिशाली आर्थिक देश, बड़ा विज्ञान व तकनीक देश और बड़ा नवाचार देश बन गया है। चीन ने वैश्विक विकास के लिए भारी योगदान दिया है। इस प्रक्रिया में गांव से शहरों तक, कारखाने से प्रयोगशालाओं तक चीनी अर्थतंत्र का निरंतर विकास हुआ है।

1978 के सर्दियों के मौसम में आनह्वेई प्रांत की फंगयांग काउंटी की श्याओकांग गांव के 18 किसानों ने लाल हाथ की छाप दबायी और चीनी ग्रामीण क्षेत्र का सुधार शुरू किया। इस साल इन में से एक किसान येन चिनछांग 75 साल के हो चुके हैं। उन के मुताबिक, पहले योजना अर्थव्यवस्था थी। सरकार हमें क्या उगाना है इस बारे में बताती थी, हम वैसा ही करते थे। किसानों के पास कोई स्वायत्तता नहीं थी। इसलिए हम चाहते थे कि जमीन को हरेक परिवार में बांट दिया जाय। और ज्यादा धान की फसल करने और भरपेट खाने को प्राप्त करने के लिए हमने जमीन को हरेक परिवार में बांट दिया, ताकि अधिक काम करने वाले किसान अधिक पैसे कमा सकें।

श्याओकांग गांव में इस नीति के लागू होने के दूसरे वर्ष बड़ी फसल हुई। इस के बाद के 40 सालों में किसान शहर जाकर मजदूर बने। चीनी समाज में निजी कारोबार आदि नयी स्थिति भी नजर आने लगी। 2005 से श्याओकांग गांव ने जमीन को इकट्ठा कर शक्तिशाली कंपनियों को आधुनिक कृषि चलाने के लिए सौंपा। येन चिनछांग ने गर्व से पत्रकार से कहा कि उन का जीवन पहले से और बेहतर हो चुका है। उन के मुताबिक, मेरे कुल 7 बच्चे हैं, जिन में 5 बेटे और 2 बेटियां हैं। अब बेटियों की शादी हो चुकी है। एक बेटा खुद रेस्तरां चलाता है, एक बेटा सुपर मार्केट चलाता है, जबकि अन्य एक का स्नानागार है। सब लोग सुखमय जीवन बिताते हैं। वास्तव में हमारे पास बहुत अधिक पैसे नहीं हैं, फिर भी हमारे पास पैसे की कमी नहीं है। हमारे गांव के हरेक परिवार के पास निजी गाड़ी है। सरकार की अच्छी नीति से हमें लाभ मिला है।

येन चिनछांग का परिवार चीनी ग्रामीण क्षेत्र में भारी परिवर्तन की एक झलक है। पिछले 40 सालों में चीन में ग्रामीण गरीब आबादी में 70 करोड़ की कटौती आयी है, जो इस क्षेत्र में विश्व के गरीबी उन्मूलन कार्य में चीन की योगदान दर 70 प्रतिशत से अधिक हुई है। चीन के लाखों गांवों की तरह आज की श्याओकांग गांव भी देश के ग्रामीण क्षेत्रों के पुनरुत्थान की रणनीति में आधुनिक कृषि का विकास कर रही है। श्याओकांग गांव की सीपीसी पार्टी के महा सचिव श्वू क्वांगयो ने कहा, श्याओकांग गांव के आधुनिक कृषि विकास स्तर को उन्नत करने के लिए सरकार ने हमारे लिए दो इवेंटों के निर्माण की मंजूरी दी। पहला, श्याओकांग गांव का आधुनिक ग्रामीण विज्ञान व तकनीक उद्यान का निर्माण है। इस का कार्यान्वयन होने के बाद मौजूदा अनाज उत्पादन तकनीक स्तर, कृषि उत्पादकों के उत्पादन तकनीक स्तर और कृषि उत्पादकों के प्रोसेसिंग तकनीक स्तर को बड़े हद तक उन्नत होगा। दूसरा गांव को शक्तिशाली व समृद्धि बनाने की इवेंट है। अब संबंधित कार्यों का अच्छे ढंग से विकास हो रहा है।

श्याओकांग गांव ने चीन का ग्रामीण सुधार शुरू किया। ग्रामीण क्षेत्रों से शहरों व कस्बों तक सुधार व खुलेपन युग की प्रमुख धारा बन चुका है।

पूर्वी चीन के मशहूर शहर वनचो में पत्रकार ने जंगथाई ग्रुप के पारदर्शी कारखाने में देखा कि 250 एचडी कैमरे उपयोगकर्ताओं को उत्पादन की पूरी प्रक्रिया का लाइव प्रॉडकास्टिंग कर रहे हैं। हरेक डेटा ग्रुप के बड़े डेटा केंद्र में रिकॉर्डिंग की गयी है। ये डेटा अंत में चार्ट के रूप में परिवर्तित किया जाएगा, ताकि उपयोगकर्ता हर समय पर देख या जांच कर सकें। 2016 से जंगथाई ग्रुप ने जर्मन कारखाने से सहयोग कर फोटोवोल्टिक मॉड्यूल उत्पादन का अंतर्राष्ट्रीयकरण किया। जंगथाई नवीन ऊर्जा की उप निदेशक ह्वांग हाईयेन ने कहा कि फैक्ट्री ऑटोमेशन से उत्पादकता बढ़ती है, साथ ही ऊर्जा की किफायत की जाती है। श्रमिकों में दो तिहाई की कटौती आयी है, जबकि उत्पादन क्षमता में इजाफा हुआ है। पहले एक मजदूर एक साल में करीब 1 मेगावाट का उत्पादन करता था, अब तीन गुना हो चुका है। बराबर संसाधनों के खर्च के बावजूद लागत कम हो चुकी है।

पिछली शताब्दी के 80 के दशक के अंत से 90 के दशक की शुरूआत में जंगथाई ग्रुप सिर्फ वनचो शहर का एक छोटा सा कारखाना था। अब वह फोटोवोल्टिक विनिर्माण प्लस इंटरनेट के फार्मूले में परिवर्तित किया गया। कंपनी हर साल 4 से 12 प्रतिशत की बिक्री रकम को अनुसंधान कार्य में प्रयोग करती है। आज निजी कारोबार जंगथाई ग्रुप ने राष्ट्रीय तकनीक केंद्र की स्थापना करने के अलावा यूरोप, उत्तरी अमेरिका और मध्य पूर्व आदि स्थलों में अनुसंधान संस्थाओं की स्थापना की और विविधतापूर्ण और खुली अनुसंधान सिस्टम की स्थापना की गयी।

चीनी राष्ट्रीय विकास और सुधार कमेटी से मिले आंकड़े बताते हैं कि हाल में चीन की नयी ऊर्जा के बिजली उत्पादन की क्षमता, नयी ऊर्जा की मोटर गाड़ियों की बिक्री, स्मार्ट मोबाइल फोनों की बिक्री सब विश्व के पहले स्थान पर रहा। नयी पीढ़ी के मोबाइल संचार, न्यूक्लियर बिजली, फोटोवोल्टिक विद्युत, बुलेट ट्रेन और एप आदि क्षेत्रों में चीन के पास विश्व समुन्नत अनुसंधान स्तर और प्रयोग क्षमता है।

चीन के दो बड़े न्यूक्लियर उद्यमों द्वारा संयुक्त रूप से विकसित ह्वालोंग नम्बर 1 चीन द्वारा विभिन्न देशों को सुरक्षा व स्वच्छ ऊर्जा देने, स्थानीय पर्यावरण संरक्षण और रोजगारी को बढ़ावा देने और सहयोग से साझी जीत पाने का नामकार्ड है। चाइना जनरल न्यूक्लियर पॉवर ग्रुप(सीजीएन) के प्रेस प्रवक्ता ह्वां श्याओफेई ने कहा कि सुधार व खुलेपन ने प्रत्यक्ष रूप से चीन के न्यूक्लियर बिजली के विज्ञान व तकनीक नवाचार को आगे बढ़ाया है। ह्वा के मुताबिक, पिछले 30 सालों में हम हमेशा विज्ञान व तकनीक पर कायम रहे हैं। पिछले दसों सालों में हमने बड़ी मात्रा में पूंजी दी। हमें मालूम है कि शुरू में हमें लाभांश नहीं मिल सकता, लेकिन पिछले दसों सालों के निरंतर पूंजी देने से इधर के सालों में हमारी वैज्ञानिक व तकनीक उपलब्धियां उभरने लगीं।

अब चीन विश्व का दूसरा बड़ा आर्थिक समुदाय है, पहला निर्यातक देश और दूसरा आयातक देश है। पिछले 40 सालों में चीन के कार्गो के आयात निर्यात की कुल रकम में 198 गुना बढ़ोतरी हुई है, सेवा व्यापार की आयात निर्यात रकम भी 147 गुना पहुंची है। चीन में सेवा उद्योग के भारी परिवर्तन से वैश्विक उपभोक्ताओं को भी लाभ मिला है। चीन के चच्यांग प्रांत के ईवू शहर में इलेक्ट्रॉनिक दुकानों की संख्या 2.5 लाख को पार कर चुकी है और करीब सौ थीमॉल गांव हैं। गत वर्ष इलेक्ट्रॉनिक व्यापार मंच पर व्यापारिक राशि 2.22 खरब चीनी युआन तक पहुंची थी।

सुधार व खुलेपन की नीति के लागू होने के 40 सालों के बाद चीनियों के जीवन में बड़ा परिवर्तन आया है। इलेक्ट्रॉनिक व्यापार से चीज़ें खरीदने के लिए लोगों को बाहर जाने की जरूरत नहीं है। आज चीनियों के लिए विश्व के माल खरीदना और विश्व को उत्पाद बेचना एक सपना नहीं है। चीन का बाजार अपनी मनोहरता व निहित शक्ति से विश्व के प्रचालकों को आकर्षित कर रहा है। विश्व के लोग चीन के विकास से लाभ पाते हैं। चीन में मशहूर ई-कॉर्मस प्लेटफार्म टीमॉल ग्लोबल उप मैनेजर वेई छंग ने कहा, टीमॉल ग्लोबल का व्यवसाय करने के बाद हमने देखा कि विश्व के मशहूर ब्रांड वाले उत्पादों के प्रति चीनी उपभोक्ताओं में बड़ी रुचि है। लेकिन इधर के सालों में चीनी उपभोक्ताओं ने मालों की गुणवत्ता पर और बड़ा ध्यान दिया। वे लोग न सिर्फ मशहूर ब्रांडों के मालों का इस्तेमाल करते हैं, बल्कि अच्छी गुणवत्ता वाले कुछ छोटे ब्रांड वाले उत्पादकों का प्रयोग भी करते हैं। विदेशों में छोटो ब्रांड वाले उत्पादक आसानी से टीमॉल ग्लोबल के जरिए चीनी बाजार में प्रवेश कर सकते हैं।

चीनी कस्टम के आंकड़ों के मुताबिक इस साल के पहले दस महीनों में सीमा-पार इलेक्ट्रॉनिक व्यापार मंच पर खुदरा विक्रेता की आयात रकम करीब 67.2 अरब युआन थी, जो पिछले साल की इसी अवधि की तुलना में 53.7 प्रतिशत अधिक है। इस साल से चीन सीमा-पार इलेक्ट्रॉनिक व्यापार मंच की खुदरा विक्रेता की आयात निगरानी नियमावली लागू करेगा। यह चीन द्वारा द्वार को और बड़ा खोलने और उपभोक्ताओं की निहित शक्ति को प्रेरित करने का अहम कदम माना जाता है, साथ ही विदेशी श्रेष्ठ उत्पादकों के आयात के लिए भी लाभदायक होगा।

चीन में सुधार व खुलेपन की प्रक्रिया में न जाने कितने आश्चर्यजनक उत्पादों की रचना की गयी है। आज चीन उच्च गुणवत्ता वाले विकास के नये दौर में प्रवेश कर रहा है। भविष्य में चीन नवोन्मेष, समन्वय, ग्रीन, खुला और शेयर समेत विकास की पांच अवधारणाओं के आधार पर नये दौर के सुधार व खुलेपन को आगे बढ़ाएगा। सुधार व खुलापन कभी समाप्त नहीं होगा। यह हरेक चीनी की सहमति है।

शेयर