अमेरिका के प्रतिबंध से ईरान के पास खुद का ऐप स्टोर

2019-01-10 10:00:00
Comment
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

अमेरिका के प्रतिबंध से ईरान के पास खुद का ऐप स्टोर

अमेरिका के प्रतिबंध से ईरान के पास खुद का ऐप स्टोर

अमेरिकी प्रतिबंध की वजह से ईरान के हजारों मोबाइल फोन के उपयोगकर्ता लम्बे अरसे से सामान्य रूप से गूगल प्ले, एपल स्टॉर आदि अंतर्राष्ट्रीय प्रमुख ऐप की सेवा का इस्तेमाल नहीं कर पाते। इस से ईरानी इंटरनेट कर्मचारियों ने खुद ऐप स्टोर का विकास किया। केफे बाजार इन में से सब से बड़ा ऐप स्टोर है।

उत्तरी तेहरान स्थित एक 6 मंजिली नयी इमारत में केफे बाजार के सीईओ अमिन अमिरशरिफी और उन की प्रबंध टीम ने हाल में सीआरआई को इंटरव्यू दिया। अमिन ने कहा कि केफे बाजार की स्थापना अमेरिका के प्रतिबंध से प्रत्यक्ष संबंध है।

उन्होंने कहा कि सात साल पहले ईरानी मोबाइल उपयोगकर्ताओं के गूगल और प्ले स्टोर का इस्तेमाल न करने की समस्या का हल करने के लिए ईरान के शरीफ प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के पाँच विद्यार्थियों ने केफे बाजार की स्थापना की, जो खास तौर पर स्थानीय मोबाइल उपयोगकर्ताओं को ऐप डॉनलोड सेवा देता है। आज केफे बाजार ईरान का प्रमुख ऐप स्टोर बन चुका है, जिस की बाजार दर 85 प्रतिशत तक पहुंची है। अमिन के मुताबिक, पहले संस्करण के केफे बाजार में सिर्फ गूगल से आए कई मुफ्त विदेशी मोबाइल ऐप थे। उस समय अमेरिका के प्रतिबंध से गुगल और प्ले स्टॉर ईरान के उपयोगकर्ताओं को सेवा नहीं दे सकते थे, इसलिए गूगल ने भी इस समस्या का हल नहीं किया। इसलिए ईरान के शरीफ प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय से आए 5 विद्यार्थियों ने केफे बाजार ऐप स्टोर की स्थापना करनी शुरू की। उन्होंने फ़ारसी नव वर्ष के पहले दिन में इस प्लेटफार्म का प्रचलन शुरू किया। शुरू में केफे बाजार के उपयोगकर्ताओं की संख्या में वृद्धि उपयोगकर्ताओं द्वारा अपने मित्रों के बीच सिफारिश करने के जरिए हुई थी, फिर इस का तेज़ विकास हुआ। अब हमारे पास 3.7 करोड़ डॉउनलोड हैं और हर महीने 2.9 करोड़ जीवित उपयोगकर्ता हैं। हमारे ऐप स्टोर में 1.8 लाख से ज्यादा ऐप हैं।

अमिन ने पत्रकार से कहा कि पिछले सात सालों के विकास के बाद केफे बाजार एक ऐप स्टोर, इंटरनेट वर्गीकृत विज्ञापन, ऑनलाइन पेई और समय पर नेविगेशन चार प्रमुख व्यवसाय होने वाली इंटरनेट कंपनी में विकसित हो चुकी है। इस कंपनी की कर्मचारियों की संख्या भी शुरू की 5 से आज की 270 तक पहुंच चुकी है। इस के अलावा कंपनी के आउटसॉसिंग व्यवसाय ने भी और 200 रोजगार प्रदान किए हैं।

अमेरिका के प्रतिबंध से ईरान के पास खुद का ऐप स्टोर

अमेरिका के प्रतिबंध से ईरान के पास खुद का ऐप स्टोर

अमिन ने कहा कि यदि अमेरिका का प्रतिबंध नहीं होता, तो केफे बाजार संभवतः नहीं पैदा होता। हालांकि अब ईरान के उपयोगकर्ता गूगल प्ले की सेवा का प्रयोग कर सकते हैं, फिर भी केफे बाजार अनिर्वार्य भी हो चुका है। अमिन के मुताबिक, अब ईरानियों के लिए गूगल प्ले का प्रयोग करने का कोई कारण नहीं रहा। चूंकि ईरानी उपयोगकर्ताओं के लिए केफे बाजार न सिर्फ सुविधापूर्ण है, बल्कि अच्छा भी रहा। केफे बाजार में अनेक ईरानियों के लिए उपयोगी ऐप हैं। यह गुगल प्ले की तुलना में केफे बाजार की सब से बड़ी श्रेष्ठता है। इस के अलावा, हमारे पास ईरानी बैंकिंग सिस्टम और कई मोबाइल ऑपरेटरों का भुगतान सिस्टम होता है।

केफे बाजार के बिक्री व साझेदारी संबंध मंत्रालय के प्रधान मोहम्मद मोआलेमी ने कहा कि अभी तक केफे बाजार ने कुल मिलाकर करीब 2.1 करोड़ से ज्यादा अमेरिकी डॉलर के मुनाफे की रचना की। हालांकि अमेरिका सरकार ने इस नवम्बर माह में ईरान के खिलाफ प्रतिबंध की बहाली की, फिर भी केफे बाजार के अंतर्राष्ट्रीय गेम्ज़ वितरण व्यवसाय पर कोई असर नहीं पड़ा। मोहम्मद मोआलेमी के मुताबिक, मुझे नहीं लगता है कि अमेरिका के प्रतिबंध से हम पर असर पड़ सकता है। कारण यह है कि आईटी व्यवसाय की कंपनी होने के नाते हमारे अमेरिका प्रतिबंध से कोई संबंध नहीं है। अमेरिकी वित्त मंत्रालय द्वारा बनायी गयी प्रतिबंध की सूची के किसी व्यक्ति से कोई संबंध नहीं है। इसलिए चाहे अमेरिका ईरान के खिलाफ प्रतिबंध की बहाली करता है, तो भी हम और फिनलैंड की गेम्ज़ कंपनी के बीच सहयोग जारी रहेगा। इस में कोई समस्या नहीं होती है।

मोहम्मद मोआलेमी ने कहा कि हाल में 3 से 4 चीनी कंपनियों ने भी केफे बाजार से सहयोग करती हैं। हाल में ईरान में सब से लोकप्रिय पहले पाँच गेम्ज़ों में एक चीन से आया है। केफे बाजार चीनी कंपनियों से सहयोग को मजबूत करना चाहता है।

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories