बूढ़ेपन अर्थव्यवस्था विश्व में लोकप्रिय रही

2018-11-23 10:00:00
Comment
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn
1/5

डिजिटल युग में क्या बूढ़े आदमी आराम से स्मार्ट फ़ोन का इस्तेमाल कर सकते हैं?बूढ़े लोगों के शॉपिंग करने और मित्र से मिलने को क्या सुविधा दे सकते हैं? अकेलापन बुजुर्ग जीवन को कैसे रंग-बिरंगा बना सकते हैं?

 ……

विश्व में बूढ़ेपन की समस्या के दिन ब दिन गंभीर होने के साथ उपरोक्त सवालों के अपने जवाब होते हैं। हाल में विश्व के कई देश जोरदार तरीके से बूढ़ेपन अर्थव्यवस्था का विकास कर रहे हैं। उन का मकसद है कि वृद्धावस्था के दबाव को कम करने के साथ आर्थिक विकास के लिए नये क्षेत्रों की खोज करना है। तो आज के प्रोग्राम में हम देखेंगे कि विश्व के विभिन्न देशों ने क्या क्या कदम उठाकर बूढ़ेपन समस्या का निपटारा किया है?

2013 में पेरिस में एक "सहयोगी" कार सेवा कंपनी की स्थापना हुई। वह फ्रांस में वृद्ध लोगों के बाहर जाने को सुविधा देने की सेवा करने वाली पहली कंपनी है। बूढ़े लोग घर में बैठे ही ड्राइवर घर आकर बूढ़े लोगों को गाड़ी पर लाकर उन्हें अस्पतालों, रेलवे स्टेशनों या अन्य स्थल भेजते हैं। यह अकेले में रहने वाले वृद्धों के बाहर जाने को बड़ी सुविधा देता है, जिस का बड़ा स्वागत मिला है।

ड्राइवरों के प्रति इस कंपनी की बहुत सख्त शर्तें हैं। अधिकांश ड्राइवर एम्बुलेंस चलाते थे, या विकलांग लोगों के लिए गाड़ी चलाते थे। उन का प्रचुर अनुभव है और उन्हें विशेष लोगों की देख-भाल करने में सक्षम हैं। वे आसानी से बूढ़े लोगों से विश्वसनीय संबंध की स्थापना कर सकते हैं। इसके अलावा ड्राइवर प्रशिक्षण से सामान्य जेरियाट्रिक बीमारियों को जानते हैं और संबंधित निपटारे के तरीकों को भी सीखते हैं।

अब जापान के बारे में जानते हैं। बूढ़े आदमियों के स्मार्ट समाज में शामिल करने को मदद देने के लिए जापान की तीन प्रमुख दूर संचार कंपनियों में से एक दोकोमो कंपनी ने खास तौर पर स्मार्ट मोबाइल फोन कक्षा खोली। वह वृद्ध आदमियों को स्मार्ट मोबाइल फोन का प्रयोग करने के लिए सिखाती है। जापान की अनेक कॉस्मेटिक्स कंपनियों ने खास तौर पर बूढ़े लोगों के लिए उत्पादों का अध्ययन किया। जापान की खाद्य श्रृंखला दुकानें वृद्ध लोगों के लिए निरंतर खास सॉफ्ट व्यंजनों की तैयारी करती हैं। जापान की स्पोर्टिंग सामान कंपनी वृद्धों के लिए खास जूते तैयार करती है। जापान के कई प्रांतों में 75 की उम्र के ऊपर के बूढ़े लोगों को यातायात की सेवा दी। यदि बूढ़े आदमी दो किलोमीटर की दूरी से नजदीक सुपरमार्केट जाना चाहते हैं, तो आने जाने के लिए सिर्फ 500 येन देने की जरूरत होती है। दो किलोमीटर के बाद हर 500 मीटर की दूरी के लिए वृद्ध लोगों को और 100 येन देने होते हैं। इस सेवा को स्थानीय वृद्ध लोगों का स्वागत किया गया।

थाईलैंड में बूढ़े लोगों के लिए स्कूल खोला गया। वह स्कूल उत्तरी बैंकार्क में स्थित है। बूढ़े लोग यहां एक हफ्ते में एक बार क्लास ले सकते हैं और पूरा सत्र तीन महीने में होता है। इस स्कूल के स्थानीय लोगों का बड़ा स्वागत मिला है। यहां वृद्ध लोग पढ़ने के साथ साथ नये मित्र से भी परिचित कर सकते हैं। लोग एक साथ कपशप करते हैं और खुशी से वक्त बिताते हैं।

अब अमेरिका पर नजर डालते हैं। अमेरिका की अनेक बड़ी दूर संचार कंपनियों ने वृद्ध लोगों के लिए खास उपभोग प्रस्ताव प्रस्तुत किया। उदाहरण के लिए फोन पर आपात राहत का बटन लगाया गया। कुछ कंपनियों ने अमेरिकी रिटायर कर्मियों के संघ के साथ सहयोग संबंध  स्थापना की और वे संघ के सदस्यों को हर महीने 5 प्रतिशत की फीस छूट देती हैं। इस के अलावा कंपनियां स्मार्ट फोनों पर वृद्धों को सुविधा देने वाले कुछ खास सुविधाएं भी प्रदान देती हैं। उदाहरण के लिए रिडींग क्लास और ब्लड प्रेशर ट्रैकिंग सॉफ्टवेयर इत्यादि। वृद्धों को चिकित्सा सेवा, पर्यटन, व्यायाम, खाद्य आदि के क्षेत्रों में दैनिक मांगों को पूरा करने के लिए अमेरिका की कंपनियों ने विविधतापूर्ण खास सेवाएं प्रदान की हैं, जिस ने अन्य देशों की बुढ़ापन अर्थव्यवस्था के लिए दिशा दिखायी है।

शेयर