सूचना:चाइना मीडिया ग्रुप में भर्ती

चीन की ऊर्जा नीति अंतर्राष्ट्रीय ऊर्जा चार्टर संधि के सिद्धांत से मेल खाता है

2017-12-13 14:49:16
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

चीन की ऊर्जा नीति अंतर्राष्ट्रीय ऊर्जा चार्टर संधि के सिद्धांत से मेल खाता है

चीन की ऊर्जा नीति अंतर्राष्ट्रीय ऊर्जा चार्टर संधि के सिद्धांत से मेल खाता है

अंतर्राष्ट्रीय ऊर्जा चार्टर संगठन के महासचिव उर्बन रुस्नक ने हाल में सीआरआई के पत्रकार के साथ साक्षात्कार में कहा कि चीनी कम्युनिस्ट पार्टी की 19वीं राष्ट्रीय कांग्रेस ने चीन द्वारा हरित विकास और स्वच्छ ऊर्जा का विकास करने के वचनों को दोहराना, चीन के नये आधुनिकीकरण की विचारधारा से मेल खाता है। उन्होंने कहा कि चीन की ऊर्जा नीति अंतर्राष्ट्रीय ऊर्जा चार्टर संधि के सिद्धांत से मेल खाता है, जो विश्व ऊर्जा सुधार को आगे बढ़ाने के लिए लाभदायक है। 

अंतर्राष्ट्रीय ऊर्जा चार्टर पश्चिम यूरोप, पूर्वी यूरोप और पूर्व के सोवियत संघ क्षेत्र के देशों और कनाडा, जापान व औस्ट्रेलिया आदि 52 सदस्य देशों से गठित एक सरकारी अंतर्राष्ट्रीय संगठन है। जो ऊर्जा संविधान संधि के आधार पर विभिन्न सदस्य देशों के बीच संबंधित ऊर्जा समस्या का अच्छी तरह निपटारा करने की गाइड करता है और एक खुलेपन, समानता और अपेक्षाकृत स्थिरता होने वाले अंतर्राष्ट्रीय ऊर्जा बाजार की स्थापना करता है। इस संगठन का स्थायी सचिवालय बेल्जियम की राजधानी ब्रसेल्स में स्थित है। संगठन के महासचिव उर्बन रुस्नक ने पत्रकार से कहा कि वह चीनी कम्युनिस्ट पार्टी की 19वीं कांग्रेस पर बड़ी नज़र रखते हैं। इस सम्मेलन में अंतर्राष्ट्रीय ऊर्जा चार्टर से संबंधित ऊर्जा नीति सहित चीनी आर्थिक विकास के गाइड सिद्धांतों पर स्पष्ट किया। उर्बन रुस्नक के मुताबिक,

मैं तीन विषयों पर नजर रखता हूं। पहला, एक पट्टी एक मार्ग का पहल। हम ने देखा कि चीन अंतर्राष्ट्रीय सहयोग, विशेषकर ऊर्जा क्षेत्र में सहयोग को मजबूत कर रहा है। जबकि ऊर्जा चार्टर संगठन इन में एक अहम गठित भाग है। दूसरा, हमने देखा कि चीन वायु गुणवत्ता को बड़ा महत्व देता है और जन-जीवन स्तर का सुधार करने में लगा है। इसलिए हम इस पर ध्यान देंगे कि चीन किस तरह घरेलू ऊर्जा के बंदोबस्त कर सकेगा। तीसरा, हमने यह भी देखा कि चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग के नेतृत्व में चीन वैश्विक ऊर्जा बंदोबस्त की प्रक्रिया में ज्यादा से ज्यादा उल्लेखनीय भूमिका अदा करेगा।

रुस्नक ने यह भी कहा कि 19वीं कांग्रेस की रिपोर्ट में चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने जोर दिया कि चीन सतत विकास के फार्मूले को साकार कर���गा, जिनमें एक हरित विकास है। चीन बाजार के नेतृत्व वाली हरित तकनीक नवाचार सिस्टम की रचना करेगा, हरे वित्त का विकास करेगा, ऊर्जा किफायत पर्यावरण उद्योग का विकास करेगा, स्वच्छ उत्पादन करेगा, स्वच्छ ऊर्जा उद्योग का विस्तार करेगा। साथ ही चीन ऊर्जा उत्पादन और उपभोग क्रांति को आगे बढ़ाएगा और स्वच्छ व कम कार्बन व सुरक्षित ऊर्जा सिस्टम की स्थापना करेगा। रुस्नक का मानना है कि चीन की ऊर्जा नीति  अंतर्राष्ट्रीय ऊर्जा चार्टर संधि के सिद्धांत से अच्छी तरह मेल खाती है, जो विश्व ऊर्जा सुधार को आगे बढ़ाने में मददगार सिद्ध होगा।

रुस्नक ने चीन के पर्यावरण प्रदूषण निपटारा कार्य की प्रशंसा भी की। उन्होंने कहा कि चीन पश्चिम यूरोप और पूर्वी यूरोप की विकास प्रक्रिया में प्राप्त सबक ला सकता है। हालांकि प्रदूषण का निपटारा जल्द ही पूरा नहीं किया जा सकता है, फिर भी चीन अपने लक्ष्य को साकार कर सकता है। उनके मुताबिक,पहले यूरोप क्षेत्र की अर्थव्यवस्था लम्बे अरसे से कोयला उत्पादन और भारी उद्योग पर निर्भर करती थी, जिसके फलस्वरूप गत् 60 के दशक में लोगों को गंभीर वायु प्रदूषण का सामना करना पड़ा था। जबकि 70 और 80 के दशक में यूरोप की वायु गुणवत्ता और पानी गुणवत्ता में बड़ा सुधार आया। अब हम देखते हैं कि यूरोप के आर्थिक ढांचे में सचमुच बड़ा परिवर्तन आया है। यह जरूरी बात है, जो हमें करनी चाहिए। इसलिए यदि यूरोप में नीला आसमान हो सकता है, तो चीन के पास भी हो सकता है।

12MoreTotal 2 pagesNext

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories