सूचना:चाइना मीडिया ग्रुप में भर्ती

विदेशों में द्वान वू त्योहार

cri 2017-05-28 14:32:41
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

विदेशों में द्वान वू त्योहार

जापान

दूसरे विश्व युद्ध से पहले जापान में द्वान वू त्योहार को बालक त्योहार भी कहलाता था, असल में वह लड़कों का त्योहार था। उस दिन, जिस परिवार में लड़का था, उसी परिवार के लोग बधाई के लिए कार्प मत्स्य रूपी झंडा फहराते थे और ज़ुंग ज़ व सरू के पत्तों से बने केक खाते थे। कार्प मछली वाला झंडा फहराने में बच्चों के कार्प की तरह स्वस्थ रूप से पलने बढ़ने की आशा बंधी है, जो चीन में "वांग ज़ छेंग लुंग"(बच्चों से ड्रैगन (प्रतिभा) बनने की अभिलाषा) के बराबर है। नीचे से ऊपर की ओर कार्प मत्स्य झंडे को देखे, तो लगता है मानो झंडा नीले आसमान में कार्प की भांति पानी में तंदुरुस्त से तैर रहा हो। इस के अलावा अनिष्ट से बचने के लिए जापानी लोग कैलमस को छज्जे के नीचे टांगते हैं या कैलमस को पानी में डालकर लोग उससे नहाते हैं। कहा जाता है कि पुराने जमाने में फिंग शू नाम के एक राजा ने एक अवफ़ादार मंत्री को मार डाला। बाद में वह मंत्री एक जहरीले सांप में बदला और निरंतर मानव को क्षति पहुंचाता रहता था। सांप को वशीभूत करने के लिए एक बुद्धिमान मंत्री ने सिर पर सांप का लाल सिर पहनकर शरीर पर कैलमस का शराब छिड़का, उस दुष्ट सांप वाले मंत्री से घमासान लड़ा और अंततः जहरीले सांप को पराजित कर दिया। इस के बाद द्वान वू त्योहार के वक्त कैलमस टांगने, मुगवर्ट जलाने, कैलमस शराब पीने की प्रथा चली और फैलकर परंपरा बन गयी। जापानी लोगों का कहना है कि"मुगवर्ट का झंडा मंगल को बुला लाता है और कैलमस का तलवार हज़ार भूतों को मार गिराता है"। द्वान वू की प्रथा जापान के फेआन काल के बाद चीन से जापान में पहुंची थी।

कोरिया गणराज्य

दक्षिण कोरिया में कांग लेन में चलने वाला द्वान वू यज्ञ द्वान वू त्योहार के परम्परागत सांस्कृतिक रिवाज को ग्रहण कर विकसित करने के लिए आयोजित समारोह है। कांग लेन का द्वान वू यज्ञ-कर्म डेग्वांग रेंग में देवता की पूजा करने से शुरू होता है। समारोह के दौरान विभिन्न जादू व यज्ञ की विविध रस्मों का आयोजन किया जाता है और रस्सी फांदने और मास्क बनाने आदि के परम्परागत खेलों व अनोखे ओझाई अभिनय, मास्क नृत्य और हास्य-विनोद प्रोग्राम प्रस्तुत किये जाते हैं।

दक्षिण कोरिया में कांग लेन का द्वान वू यज्ञ बहुत मशहूर है। हर साल के द्वान वू यज्ञ के दौरान कोरिया गणराज्य और विश्व के विभिन्न स्थलों से आए 10 लाख से ज़्यादा दर्शक इस में आते हैं। इसी वजह से यह त्योहार कांग लेन संस्कृति और कोरिया गणराज्य की राष्ट्रीय भावना का प्रतीक बना है। वह एक अमूर्त सांस्कृतिक विरासत है, जिस का उपभोग मानव जाति कर सकता है। वह बाहरी दुनिया के लिए दक्षिण कोरिया की संस्कृति और कांग लेन के रीति-रिवाज को जानने समझने की एक खिड़की बन गयी है।

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories