पेकिंग यूनिवर्सिटी के कुलपति के दस सुझाव

2020-07-31 16:43:22
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

चीन के प्रसिद्ध विश्वविद्यालय पेकिंग यूनिवर्सिटी के कुलपति ने ग्रेजुएट छात्रों को दस सुझाव दिए हैं।

पहला, दो मित्र बनाने चाहिये। एक है खेलकूद मैदान, और एक है पुस्तकालय। खेलकूद के मैदान में कसरत करो, और अपने शरीर को तंदुरुस्त बनाओ। पुस्तकालय में किताबें पढ़ो, लगातार जानकारी हासिल करो।

दूसरा, दो कुङफ़ू का अभ्यास करो। एक है अच्छा चरित्र, एक है अच्छी क्षमता। उज्ज्वल भविष्य के निर्माण में इन दो कुङफ़ू पर निर्भर रहना पड़ेगा।

तीसरा, दो स्थिति को स्वीकार कर मज़े लो। एक है प्रतिकूल परिस्थिति, और एक है कठोर परिस्थिति। क्योंकि काम करने में तुम्हें शायद लगातार ऐसी स्थिति मिलती रहेगी।तो इसे स्वीकार करने के लिए तैयार रहना चाहिए।

चौथा, दो शक्तियां इकट्ठा करो। एक है विचार करने की शक्ति, और एक है कार्रवाई करने की शक्ति। महान फ्रांसीसी रणनीतिज्ञ व राजनीतिज्ञ नेपोलियन बोनापार्टे ने कहा था कि विचार करने की शक्ति कार्रवाई करने की शक्ति से और महत्वपूर्ण है। एक आदमी का विचार जितना दूर जा सकता है, वह व्यक्ति उतना ही दूर जा सकेगा।

पांचवां, दो संगतियों के पीछे दौड़ करो। एक है शौक और काम-काज की संगति, और एक है प्रेम व शादी की संगति। शौक व काम-काज की संगति से तुम अपनी निहित शक्ति का बड़ी दह तक प्रयोग कर सकोगे। जर्मनी के महान विचारक, दार्शनिक, रिवोल्यूशनरी, व शिक्षक फ़्रिएट्रिक वोन अंगेल्स ने कहा था कि शादी का आधार प्रेम है। प्रेम के अभाव की शादी अनैतिक शादी है, साथ ही वह मजबूत शादी भी नहीं होगी।

छठा, दो पंख होने चाहिये। एक है सपना, एक है दृढ़ता। अगर एक आदमी के ये दो पंख हैं, तो वह ज़रूर और ऊंचा व दूर उड़ सकता है।

सातवां, दो स्तंभों की स्थापना करो। एक है विज्ञान और एक है संस्कृति। चीन के महान वैज्ञानिक छैन श्वेएसन ने बल देकर कहा था कि चीनी अक्षर आदमी दो अंगों से गठित है। एक है विज्ञान और एक है संस्कृति। ये दो स्तंभों के सहारे से मानव का शानदार इतिहास बनाया जा सकता है।

आठवां, स्वास्थ्य के लिये दो डॉक्टर चाहिये। एक है खेलकूद, और दूसरा है आशावाद। खेलकूद करने से तुम्हारा शरीर स्वस्थ होगा। और आशावाद से तुम्हारा मन स्वस्थ होगा। पेकिंग यूनिवर्सिटी के कुलपति ने कहा कि मेरे कोई खास शौक नहीं हैं, दसेक वर्षों में मैं केवल हर दिन दस हजार कदम उठाता हूं, और रात को दस पेजों की किताब पढ़ता हूं।

नौवां, दो गुप्त सूत्रों की याद करो। एक है स्वास्थ्य का सूत्र सुबह से जुड़ा हुआ है। और दूसरा है सफलता का सूत्र रात से जुड़ा हुआ है। सुबह जल्द उठकर कसरत करो, और स्वास्थ्य के साथ 50 सालों तक काम करने की कोशिश करो। रात को किताब पढ़ो, विचार करो और लेख लिखो। विश्व प्रसिद्ध महान वैज्ञानिक अलबेर्त एइनस्टेन ने कहा था कि व्यक्तियों के बीच फ़र्क खाली समय से पैदा होता है। खाली समय में एक आदमी महान बन सकता है, या बर्बाद भी हो सकता है।

दसवां, दो चरम बिंदुओं के पीछे दौड़ो। एक है अपनी निहित शक्ति को एक चरमबिंदु तक पहुंचाने की कोशिश करो, और दूसरा है अपनी उम्र की लंबाई को एक चरमबिंदु तक पहुंचाने की कोशिश करो। वर्तमान में लोग केवल अपनी निहित शक्ति के 3 से 5 प्रतिशत तक का प्रयोग करते हैं। इसलिये तुम्हें बड़ी हद तक अपनी निहित शक्ति का प्रयोग करना चाहिये।

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories