सपना संस्थापक का दृढ़ संकल्प

2020-05-13 16:18:15
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

सौ वर्षीय परियोजना में शिक्षा को प्राथमिक स्थान पर रखना चाहिये। चीनी कम्युनिस्ट पार्टी की 18वीं राष्ट्रीय कांग्रेस के बीच सीपीसी की केंद्रीय कमेटी के महासचिव शी चिनफिंग ने कई बार स्कूलों में प्रवेश करके शिक्षकों को देखा। उन्होंने शिक्षकों के कार्य पर बड़ी आशा जताई है। शी चिनफिंग ने कहा कि आज के विद्यार्थी भविष्य में चीनी राष्ट्र के महान पुनरुत्थान सपने को पूरा करने की मुख्य शक्ति है। और व्यापक शिक्षक इस शक्तिशाली टीम के संस्थापक हैं।

मेरा नाम मा इंगस्वेई है। मैं चोंगई गांव प्राइमरी स्कूल की एक चीनी शिक्षक हूं।

वर्ष 2002 में 18 वर्षीय मा इंगस्वेई नॉर्मल विश्वविद्यालय से स्नातक होने के बाद छुंगछिंग शहर की शीचू काऊंटी में वापस लौटी। वह यहां की चोंगई गांव प्राइमरी स्कूल में शिक्षा देने लगी। यह स्कूल भी उनका अल्मा मेटर है। वर्ष 1936 में स्थापित चोंगई गांव प्राइमरी स्कूल में पहाड़ी क्षेत्र की पीढ़ी दर पीढ़ी बच्चे यहां पढ़ते हैं। सुश्री मा के बचपन में यह स्कूल केवल पहाड़ में स्थित एक छोटा कच्चा मकान ही है। लेकिन अब स्कूल में पांच मंजिल वाली इमारत बन चुकी है। खेल का विस्तृत मैदान भी मौजूद है। उन के अलावा पुस्तकालय, संगीत रूम, कंप्यूटर रूम आदि विशेष क्लासरूम भी बने हैं।

गत वर्ष के 15 अप्रैल को महासचिव शी चिनफिंग ने छुंगछिन का दौरा किया। उन का पहला पड़ाव चोंगई गांव का प्राइमरी स्कूल है। यहां उन्होंने गरीबी पहाड़ी क्षेत्रों में बच्चों की शिक्षा गारंटी समस्या का अध्ययन किया। शी चिनफिंग से मिलते ही सुश्री मा ने अपने मन की बातें उन्हें बतायीं। उन्होंने कहा,स्नातक होने के बाद मैं यहां वापस लौटकर 17 वर्षों तक काम कर चुका हूँ। मैंने अपनी आंखों से यह देखा है कि यहां का जीवन दिन-ब-दिन बेहतर बन रहा है। स्कूल की स्थिति भी ज्यादा से ज्यादा सुधर गयी है। मैं लगातार यहां काम करूंगी, और अपने जन्मस्थान की जनता के लिये अपना योगदान दूंगी।

शी चिनफिंग को यह सुनकर बहुत खुशी हुई। उन्हें आशा है कि ज्यादा से ज्यादा शिक्षक गरीब क्षेत्रों में काम कर सकेंगे, और चीन के ग्रामीण शिक्षा कार्य के लिये अपना योगदान दे सकेंगे। शी ने कहा कि,यह बहुत अच्छा है। मुझे आशा है कि ज्यादा से ज्यादा ग्रामीण शिक्षक गरीब क्षेत्रों में काम कर सकेंगे, और हमारे देश व जन्मस्थान के लिये सुयोग्य व्यक्तियों का प्रशिक्षण दे सकेंगे। यह काम बहुत सार्थक है।

एक साल बीत चुका है। चोंगई गांव प्राइमरी स्कूल में नया बदलाव फिर आया है। उन विद्यार्थियों ने, जिन के घर स्कूल से बहुत दूर हैं, नये छात्रावास में रह चुके हैं। खेल का मैदान प्लास्टिक रनवे से ढंका हुआ है। भोजनालय भी एक दो मंजिल वाली इमारत बन चुकी है। दूरस्थ शिक्षा प्रणाली ने बच्चों के लिये बाहर दुनिया जानने के लिये एक खिड़की खोली। और एक महत्वपूर्ण बात यह है कि स्कूल में पांच नये शिक्षक आये हैं। छुंगछिंग विश्वविद्यालय से आए ग्रेजुएट ली वानल्यांग बच्चों को कंप्यूटर शिक्षा देते हैं। उन के अनुसार, अगले साल में मैं बच्चों को यह सिखाना चाहता हूं कि कंप्यूटर केवल गेम खेलने का उपकरण ही नहीं है, वह बाहर को जानने के लिये एक महत्वपूर्ण उपकरण भी है। ताकि बच्चों की क्षितिज को विस्तृत किया जा सके।

चोंगई गांव प्राइमरी स्कूल में महासचिव शी चिनफिंग ने कहा कि हमें बच्चों के लिये मुश्किलों को दूर करना चाहिये, और शिक्षा में ज्यादा पूंजी लगानी चाहिये। गरीब क्षेत्रों में रहने वाले बच्चों के लिये शिक्षा लेना सुनिश्चित करना चाहिये। ताकि उन्हें एक सुखमय व खुशहाल बचपन मिल सकें। हाल ही में बच्चों का सुखमय बचपन देखा जा सकता है।

वर्ष 2015 के सितंबर में ल्यू ई समेत क्वेईचो प्रांत की प्राइमरी स्कूलों के 45 शिक्षकों ने महासचिव शी चिनफिंग को एक पत्र भेजा। इस पत्र में यह लिखा हुआ है कि गरीब क्षेत्रों में शिक्षा कार्य बहुत महत्वपूर्ण है। हर बच्चे को जीवित शिक्षा लेनी चाहिये। हर बच्चे को अपना सपना पूरा करने का मौका देना चाहिये। ताकि वे पहाड़ से बाहर जाकर अपनी सुन्दर जिन्दगी बना सकें।

जल्द ही उन्हें महासचिव शी का जवाब मिला। ल्यू ई ने कहा,बहुत जल्द से हमें जवाब मिला। यह हमारे लिये एक बहुत उत्तेजित बात है। वह भी शिक्षक दिवस पर हमें मिला सब से अच्छा उपहार है।

गौरतलब है कि वर्ष 2014 के शिक्षक दिवस से पहले महासचिव शी चिनफिंग ने उच्च गुणवत्ता वाले शिक्षकों के हिंडोरा पेइचिंग नॉर्मल विश्वविद्यालय का दौरा किया। उसी समय क्वेईचो प्रांत से आए प्राइमरी स्कूल के शिक्षक वहां प्रशिक्षण ले रहे थे। शी चिनफिंग ने क्लासरूप में प्रवेश करके उन के साथ आदान-प्रदान किया। शी ने कहा,अब हमारी शिक्षा में कमजोरी कहां पर है?वह पश्चिमी चीन और ग्रामीण क्षेत्रों में स्थित है। आप लोग मध्य व पश्चिमी चीन, ग्रामीण क्षेत्रों, खास तौर पर कुछ गरीबी क्षेत्रों, अल्पसंख्यक जातीय क्षेत्रों में काम करने वाले शिक्षक हैं। मैं आप लोगों को प्रणाम करता हूं। मुझे आशा है कि आप लोग मेहनत से अपना काम कर सकेंगे, और अच्छी तरह से बच्चों को शिक्षा देंगे। अगर युवा शक्तिशाली हों, तो देश शक्तिशाली बनेगा। अगर मध्य व पश्चिमी चीन शक्तिशाली हो, तो सारा चीन शक्तिशाली बनेगा।

अपने पद पर वापस लौटकर एक साल के बाद उन शिक्षकों ने महासचिव शी को पत्र भेजकर अपने काम की रिपोर्ट दी। जवाब पत्र में शी चिनफिंग ने कहा कि गरीबी उन्मूलन कार्य में शिक्षा देना बहुत महत्वपूर्ण है। गरीब क्षेत्रों में रहने वाले बच्चों को अच्छी शिक्षा देना गरीबी उन्मूलन कार्य में एक अहम कर्तव्य ही है। वह भी गरीबी को दूर करने का एक महत्वपूर्ण उपाय है। इस की चर्चा में शिक्षक यांग चिनह्वा ने कहा कि,पत्र में महासचिव शी ने हमें प्रोत्साहन दिया कि हमें शिक्षा सुधार के प्रमोटर, शिक्षा से गरीबी उन्मूलन करने के सर्जक, और बच्चों के निर्देशक बनना चाहिये। मुझे लगता है कि हर समय पर एक शिक्षक, खास तौर पर गरीबी क्षेत्रों में काम करने वाले शिक्षक के रूप में हमें अपने कर्तव्य व जिम्मेदारी की याद करनी चाहिये।

वर्ष 2018 में चीनी राष्ट्रीय शिक्षा महासभा में भाग लेते समय शी चिनफिंग ने फिर एक बार बताया कि,शिक्षक एक बहुत शानदार करियर है। हर शिक्षक को इस गौरव पर ध्यान देना चाहिये, अपने काम को प्यार करना चाहिये, और लगातार अपना सुधार करना चाहिये। यह काम करने में शिक्षा के प्रति गहरा प्रेम और दृढ़ता होनी चाहिये।

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories