अपने हाथों से गरीबी से दूर हो

2020-01-08 08:48:14
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn
1/6

चीन के हपेई प्रांत के छांगचो शहर में शू आईजू नाम की एक वरिष्ठ महिला कारीगर रहती हैं। वे 20 वर्षों में एक बेरोजगार महिला मज़दूर से नये धंधे खोलने वाली महिला उद्यमी बन गयीं। उन्होंने न सिर्फ़ हाथ की बुनाई इस चीनी परंपरागत तकनीक का प्रयोग करके हाथ की अर्थव्यवस्था बनायी, बल्कि स्थानीय तीन हज़ार से अधिक बेरोज़गार महिला मज़दूरों और ग्रामीण महिलाओं का नेतृत्व करके गरीबी से दूर जाने का सपना भी पूरा किया।

वर्ष 1997 में 28 वर्षीय शू आईजू कारखाने के पुनर्गठन से बेरोज़गार हो गयीं। पैसे कमाने के लिये उन्होंने पेइचिंग में जाकर मेज़पोश बेचने की कोशिश की। आरंभिक समय में वे पेइचिंग और वहां के लोगों से परिचित नहीं थीं। उन्हें बहुत मुश्किलें हुईं, यहां तक कि वे तलघर में भी रहती थीं। लेकिन उन्होंने हार नहीं मानी। उनकी दृष्टि से इन अनुभवों से वे ज्यादा मज़बूत बनीं। इसकी चर्चा में शू आईजू ने कहा,अगर तुम्हारे पास एक सौ उपाय होते हैं। तो तुम्हें पहले 99 उपायों का प्रयोग करके हार नहीं मानना है। क्योंकि शायद और एक उपाय का प्रयोग करके तुम सफल होगे। खास तौर पर नये धंधे खोलने में मैंने इसके बारे में खूब सीखा। हर बार जो काम मैंने किया, मैंने सौ प्रतिशत कोशिश करके इसे किया है, और आसानी से हार नहीं मानी।

इस दृढ़ भावना से शू आईजू को नये धंधे खोलने में एक छोटी सफलता मिली। कई वर्षों के बाद उन्होंने पेइचिंग के तुंगडाछाओ क्षेत्र में एक दुकान की स्थापना की। साथ ही उन्होंने अपना बिक्री चैनल भी ढूंढ़ लिया। चीन के अलावा उनके मेज़पोश रूस और दक्षिण कोरिया के बाज़ार में पहुंचाये गये। शू का व्यापार रास्ता ज्यादा से ज्यादा चौड़ा बन गया।

बाद में छांगचो शहर के महिला संघ द्वारा बेरोज़गार महिलाओं के लिये आयोजित एक प्रशिक्षण में शू आईजू को पता लगा कि बहुत सी स्थानीय महिलाएं बेरोज़गारी को लेकर अपने भविष्य पर बहुत चिंतित हैं। शू उन महिलाओं के सामने मौजूद मुश्किलों को खूब समझती हैं। उनकी मदद करने के लिये वर्ष 2005 में शू आईजू ने एक टेक्सटाइल कंपनी की स्थापना की। फिर आई यांग यांग नाम के एक ब्रांड का पंजीकरण भी किया गया। उनका लक्ष्य है प्रेम से सुन्दर जीवन को बुनना और सूरज की रोशनी हर कोने में पहुंचाना। इस कंपनी की स्थापना से शू ने घर में बेरोज़गार महिलाओं के लिये बिना दीवार वाले एक कारखाने का निर्माण किया है।

शू आईजू की नज़र में हाथ से बने उत्पाद अन्य उत्पादों की तरह नहीं हैं। जो हाथ से मन की भावना दिखाने वाली वस्तुएं हैं। इसमें प्रेम और कोमलता शामिल है। इसलिये बुनाई कौशल पर जोर देने के साथ शू ने महिला मजदूरों के सांस्कृतिक स्तर और सौंदर्यबोध की क्षमता को उन्नत करने पर बड़ा ध्यान दिया। वे अक्सर विशेषज्ञों को आमंत्रित करके महिलाओं को रंग के मिलान और फैशन के रुझान का प्रशिक्षण देती हैं, और सभी महिलाओं को अपने क्षितिज को व्यापक बनाने के लिये घर से बाहर जाने का प्रोत्साहन देती हैं। ताकि उत्पादों का स्तर और गुणवत्ता उन्नत की जा सके।

अच्छे उत्पाद केवल बाज़ार की स्वीकार्यता पाकर मूल्यवान चीज़ बन सकेंगे। पर यह आसान बात नहीं है। बिक्री चैनल का विस्तार करने के लिये शू आईजू इधर-उधर जाती थीं, और अपने उत्पादों का प्रसार-प्रचार करने के लिये पेइचिंग, शांगहाई और क्वांगतुङ जैसे बड़े शहरों में भी गयीं। पैसे बचाने के लिये वे हमेशा अकेले से आती जाती थीं। वे सबसे सस्ती हरे रंग वाली ट्रेन में सवारी करती थीं, सबसे सस्ते होटल में रहती थीं। उन्होंने अपनी कोशिश से एक एक आर्डर पाया। शू आईजू के विचार मेंसे बाज़ार के विस्तार का परिणाम न सिर्फ़ उनसे जुड़ा हुआ है, बल्कि उनके पीछे हजारों महिलाओं से भी जुड़ा हुआ है। इसकी चर्चा में उन्होंने कहा,जब मैंने पेइचिंग में नया धंधा खोला, तो उस समय केवल मैं अकेली थी, थोड़ा आराम था। लेकिन अब मेरे पीछे बहुत सारी बहनें खड़ी हुई हैं। वे मेरी प्रतीक्षा में हैं। इसलिये हर बार मैं ज्यादा से ज्यादा ऑर्डर लेने की कोशिश करती हूं। अगर थकी हूं, तो मैं बैठकर ज़रा आराम करके कुछ पानी पीकर आगे बढ़ती हूं।

ज्यादा से ज्यादा बेरोज़गार महिलाओं को सहायता देने के लिये शू आईजू हमेशा से अपनी कंपनी में बेरोज़गार महिलाओं या ग्रामीण महिलाओं को शामिल करने पर कायम रहती हैं। दसेक वर्षों में उन्होंने क्रमशः छांगचो शहर के यूनहो क्षेत्र, शिनह्वा क्षेत्र, हाईशिंग काऊंटी, येनशान काऊंटी, यहां तक कि शानतुङ प्रांत की कई काऊंटियों में कंपनी की 16 शाखाओं की स्थापना की। और तीन हजार से अधिक महिलाओं की रोजगार समस्या का समाधान किया। उनमें दो सौ से अधिक विकलांग महिलाएं भी शामिल हुई हैं।

65 वर्षीय वांग चिनइंग हाईशिंग काऊंटी में स्थित एक छोटे गांव में रहती हैं। उन्हें अपने हाथों से बुनाई करना बहुत पसंद है। अवकाश में वे अक्सर टोपी, स्वेटर जैसी चीज़ें बुनकर बाजार में बेचती थीं। वांग चिनइंग की याद में उसी समय टोपी और स्वेटर बेचने से हर महीने उन्हें दो सौ य्वान मिलते थे। वर्ष 2009 में वे शू आईजू हाथ से बुनाई नाम के बड़े परिवार में शामिल हुई। इस के बाद हर महीने उनकी आय दो हजार से अधिक य्वान तक पहुंच गयी। आज वांग चिनइंग एक शाखा की प्रधान बन गयीं। वे 130 से अधिक बहनों का नेतृत्व करके अपने खुश जीवन की बुनाई कर रही हैं। उन्होंने कहा,उस समय ग्रामीण जीवन बहुत कठोर था। शू ने मेरी बड़ी मदद दी। फिर मैंने देखा कि आसपास की बहनें भी मेरी तरह गरीबी में जीवन बिताती थीं, तो मैंने भी उनकी सहायता की। हाथ से बुनाई करने के बाद मैंने अपनी आंखों से यह देखा कि उनका जीवन दिन-ब-दिन बेहतर बन रहा है। इसलिये मुझे बहुत खुशी हुई। क्योंकि मैंने दूसरों की सहायता दी।

शू आईजू हमेशा महिलाओं को कारीगर की भावना से कारीगर बनने का प्रोत्साहन देती हैं। उन्हें आशा है कि ज्यादा से ज्यादा महिलाएं अपने कार्य शुरू कर सकेंगी। उन्होंने कहा,अगर तुम केवल बुनाई की तकनीक सीखती हो, लेकिन तुम्हारे पास सपना नहीं है, तो ऐसे लोगों का भविष्य भी उज्जवल नहीं होगा। इसलिये जब मैं महिलाओं को प्रशिक्षण देती हूं और आदान-प्रदान करती हूं, तो इस दौरान मैं उनके बीच इस विचार का प्रसार-प्रचार भी करती हूं। ताकि वे अपना काम धंधा शुरु कर सकें।

गौरतलब है कि 15 वर्षों के विकास के बाद शू आईजू द्वारा स्थापित कंपनी का बड़ा विकास हुआ है। अब उत्पादों में घरेलू सामान, हाथ से बुनी टोपी, कपड़े, गुड़िया जैसी सजावट समेत चार प्रकारों के कई हजार किस्मों वाले उत्पाद शामिल हुए हैं। साथ ही उन्हें नौ राष्ट्रीय पेटेंट प्राप्त हैं। आजकल वे छिंगह्वा विश्वविद्यालय के कला कॉलेज, और पेइचिंग कपड़ा कॉलेज आदि श्रेष्ठ डिजाइन टीमों के साथ सहयोग कर रही हैं, और उच्च स्तरीय राष्ट्रीय बाजार और अंतर्राष्ट्रीय बाज़ार का विकास करने की कोशिश कर रही हैं। गत वर्ष नवंबर में शू आईजू ने अपने उत्पादों को लेकर दूसरे आयात मेले में भाग लिया और बांग्लादेश और श्रीलंका आदि बेल्ट एंड रोड के तटीय देशों के व्यापारियों के साथ सहयोग के समझौतों पर हस्ताक्षर किये। शू आईजू को आशा है कि एक दूसरे से सीखकर बुनाई तकनीक का विकास करने से विश्व मंच पर चीन की परंपरागत हस्त कला की सुन्दरता को दिखाया जा सकेगा।

शेयर