केन्याई बच्चों का फुटबाल सपना

2019-09-02 19:12:45
Comment
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn
3/5

दोस्तों, यह कहा जा सकता है कि फुटबाल प्रेमी विश्व के हर कोने में हैं। केन्याई व्यक्ति गोदफ्रेय मासोलो एक पेशेवर फुटबाल खिलाड़ी थे। अब वे राजधानी नैरोबी में एक फुटबाल स्कूल चलाते हैं। यहां आधे से ज्यादा बच्चे अनाथालयों व छोटी बस्तियों से आए हैं। पर उन्हें फुटबाल से बेहद लगाव है और उन्हें आशा है कि फुटबाल से उनकी जिन्दगी बदल जाएगी।

इस वर्ष 45 वर्षीय फुटबाल कॉच गोदफ्रेय मासोलो 365 नामक एक फुटबाल स्कूल चलाते हैं। वे एक फुटबाल खिलाड़ी थे, जो जर्मनी में सेमी प्रोफेशनल लीग में फुटबाल खेलते थे। पैर में चोट लगने के बाद वे सेवानिवृत्त हो गये। केन्या वापस लौटने के बाद उन्होंने आठ सालों तक नैरोबी में स्थित संयुक्त राष्ट्र के कार्यालय में काम किया। पर उनके दिल में हमेशा से फुटबाल का सपना बसा हुआ था। उन्हें आशा है कि ज्यादा से ज्यादा केन्याई बच्चों को फुटबाल खेलने का मौका मिल सकेगा। उन के अनुसार,आज हम यहां 5 से 18 साल तक के बच्चों को फुटबाल खेलना सिखाते हैं। वे मुख्य तौर पर किकुयू व आसपास के बच्चे हैं। मुझे उम्मीद है कि वे हिंसा, अपराध व ड्रग्स से जुड़ी गतिविधि में फंसने के बजाय फुटबाल खेल सकेंगे।

मासोलो की फुटबाल स्कूल में लगभग 60-70 विद्यार्थी भर्ती हुए हैं। उनमें आधे से ज्यादा बच्चे अनाथालयों व छोटी बस्तियों से आए हैं। यहां वे फ्री में फुटबाल खेलना सीखते हैं। पूंजी इकट्ठा करने के लिये मासोलो अकसर शॉपिंग मॉल जैसी जगहों में धन उगाहने की गतिविधि आयोजित करते हैं। उन्हें आशा है कि फुटबाल खेलने से गरीब परिवार से आए बच्चों की जिन्दगी बदल जाएगी। उन्होंने कहा,मैं बच्चों को यह बताना चाहता हूं कि उन के पास प्रतिभा है। फुटबाल तो एक बहुत अच्छा मंच है। अगर वे मेहनत से काम करेंगे, तो अच्छा जीवन बिता सकेंगे। वे अपने परिवार की स्थापना भी कर सकेंगे, यहां तक कि अन्य बच्चों की मदद भी कर सकेंगे।

19 वर्षीय लड़की डामारिस मवौरा तो अनाथालय से आई हैं। हाई स्कूल से स्नातक होने के बाद वे यहां फुटबाल खेलने लगी। उन्होंने संवाददाता को बताया कि उनके प्यारे सितारे मेस्सी हैं। उन्हें आशा है कि किसी न किसी दिन वे मेस्सी की तरह अपने देश के लिये फुटबाल खेल सकेंगी। उन के अनुसार,मुझे आशा है कि मैं ज्यादा दूर देशों में फुटबाल खेल सकूंगी, और एक लड़की के रूप में केन्या के लिये मैच खेलूंगी।

12 वर्षीय लड़के ट्रेवोर मासोलो ने पाँच वर्ष की उम्र से फुटबाल खेलना शुरू किया। आज के फुटबाल मैदान में वे साथियों के साथ अच्छी तरह से सहयोग करके फुटबाल खेलने में खूब माहिर हैं। अपने पिता के प्रभाव से उन के सब से पसंदीदा फुटबाल सितारे रोनाल्डो हैं। उन का सपना भी एक पेशेवर फुटबाल खिलाड़ी बनना है। इस की चर्चा में उन्होंने कहा,मुझे उम्मीद है कि मैं एक पेशेवर फुटबाल खिलाड़ी बन सकूंगा। क्योंकि पेशेवर खिलाड़ी बनने के बाद मैं प्रसिद्ध होने के साथ-साथ बहुत सारे पैसे भी कमा सकूंगा।

विश्व के अन्य फुटबाल प्रेमियों की तरह केन्याई बच्चों के लिये फुटबाल मैदान केवल व्यावसायिक मैदान ही नहीं, सड़क के पास भूमि मैदान, समुद्र के तटीय क्षेत्र, घास के मैदान सभी उन के मंच ही हैं। मासोलो ने परिचय देते हुए कहा कि उन की 365 फुटबाल स्कूल के बच्चों में कुछ लोग विदेश के फुटबाल क्लब में खेलते हैं। उन के अनुसार,हमारे कुछ बच्चे दक्षिण सूडान व दक्षिण कोरिया में फुटबाल खेलते हैं। मैंने उन की सूचनाएं सोशल मीडिया पर डाल दी। फिर उन देशों की फुटबाल क्लब ने उन्हें चुन लिया।

शेयर