मैक्सिको में चीनी डाइविंग कोच मा चिन की कहानी

2019-08-26 10:57:24
Comment
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn
2/7

दोस्तों, मैक्सिको के खेल जगत में एक प्रसिद्ध चीनी डाइविंग कोच हैं, जिन का नाम है मा चिन। मैक्सिको के खिलाड़ी हमेशा स्नेह से उन्हें चीनी मां बोलते हैं। इस वर्ष के जुलाई में इटली के नेपल्स में आयोजित 30वें विश्व विश्वविद्यालय ग्रीष्मकालीन खेल में मा चिन के नेतृत्व में मैक्सिको डाइविंग टीम ने 4 स्वर्ण पदक, 6 रजत पदक और 1 कांस्य पदक प्राप्त किये। यह मैक्सिको डाइविंग टीम द्वारा विश्वविद्यालय ग्रीष्मकालीन खेलों के इतिहास में प्राप्त सब से अच्छा रिकॉर्ड है। साथ ही मैक्सिको में प्रशिक्षण देने के बाद मा चिन के नेतृत्व में मैक्सिको टीम द्वारा अंतर्राष्ट्रीय मैचों में प्राप्त पदकों की संख्या 217 तक पहुंच गयी है।

वर्ष 2003 में चीनी राष्ट्रीय खेल आयोग ने मैक्सिको को मदद देने के लिए कुल 31 चीनी प्रशिक्षकों को मैक्सिको में भेजा। मा चिन उनमें से एक हैं। 16 सालों में मा चिन और उनकी टीम ने मैक्सिको के डाइविंग स्तर को व्यापक रूप से उन्नत करने के लिए उल्लेखनीय योगदान दिया। उन्होंने मैक्सिको के लिए डाइविंग राजकुमारी पौला एसपिनोसा समेत कुछ विश्व स्तरीय श्रेष्ठ डाइविंग खिलाड़ियों को प्रशिक्षित किया। उन के नेतृत्व वाली मैक्सिको डाइविग टीम को भी सपने की टीम माना जाता है।

संवाददाता को इन्टरव्यू देते समय मा चिन ने कहा कि मैक्सिको में प्रशिक्षण देना उन के लिये एक मौका है। मैक्सिको में लोगों की शारीरिक गुणवत्ता डाइविंग के लिए उचित है। साथ ही यहां डाइविंग का इतिहास भी बहुत लंबा है। वर्ष 1948 के लंदन ओलंपिक खेल में मैक्सिको ने पदक प्राप्त किया। लेकिन चीनी कोच के मैक्सिको पहुंचने से पहले मैक्सिको में डाइविंग का स्तर इतना ऊंचा नहीं था। मा चिन के प्रशिक्षण के जरिये मैक्सिको की डाइविंग टीम ने अच्छा प्रदर्शन किया। मैक्सिको का खेल विभाग भी डाइविंग इवेंट पर ज्यादा से ज्यादा ध्यान देता है। साथ ही मा चिन भी मैक्सिको के खेल जगत में एक सितारा बन गयी। बहुत श्रेष्ठ खिलाड़ी उन के पीछे दौड़ने लगे। मैक्सिको सरकार ने भी मा चिन के नेतृत्व वाली डाइविंग टीम का उच्च मूल्यांकन किया। वर्ष 2012 में मैक्सिको सरकार ने चीन-मैक्सिको के बीच खेल व संस्कृति के आदान-प्रदान में मा चिन द्वारा दिये गये उल्लेखनीय योगदान के लिये उन्हें एज़्टेक ईगल पदक दिया। एज़्टेक ईगल पदक मैक्सिको सरकार द्वारा विदेशी लोगों के लिए दिया गया सर्वोच्च सम्मान होता है। मा चिन यह पदक प्राप्त करने वाले पहले चीनी कोच हैं। इस की चर्चा में उन्होंने कहा,मैक्सिको आने के बाद यहां चार राष्ट्रपति बदल गये। पहले तीन राष्ट्रपतियों ने मुझ से भेंट की, और मुझ से प्राप्त उपलब्धियों की बड़ी पुष्टि की। साथ ही मुझे एज़्टेक ईगल पदक भी दिया गया, जो विदेशी लोगों के प्रति सब से बड़ा सम्मान ही है। यह पदक प्राप्त करके मुझे लगता है कि मेरी सभी कोशिश करने के योग्य है।

विदेश में काम करने वालों के प्रति सभ्यता की भिन्नता से कुछ न कुछ तकलीफ़ मिलती है। मा चिन पेइचिंग की हैं, जिन्हें तेजी से काम करना पसंद है। लेकिन मैक्सिको लैटिन अमेरिकी देश है, यहां के लोग आराम से काम करना पसंद करते हैं। मा चिन के अनुसार मौसम, भोजन की अपेक्षा मैक्सिको में प्रशिक्षण देते समय उन की सब से बड़ी चुनौती स्थानीय लोगों के काम करने के तरीके से है। पर मा चिन ने धीरे धीरे मैक्सिकन खिलाड़ियों के लिये प्रशिक्षण का एक उचित तरीका ढूंढ़ पायी। उन के अनुसार,मैंने सीधे चीन के प्रशिक्षण का तरीका यहां नहीं ला सकी। क्योंकि चीन का प्रशिक्षण तरीका यहां नहीं चल सकता। इसलिये सब से पहले मैंने यहां के लोगों को समझने व अनुकूल बनाने की कोशिश की। यहाँ के खिलाड़ी हर दिन निश्चित समय पर खूब अभ्यास नहीं कर सकते, और लंबे समय तक भी अभ्यास नहीं कर सकते। मैं गिनती थी कि वे एक हफ्ते तक जारी नहीं कर सकते थे। इसलिये मैंने प्रशिक्षण को कम किया। कभी कभी प्रशिक्षण के दौरान वे शायद कहते हैं कि क्या हमें एक फिल्म देखनी चाहिये? ऐसी स्थिति में मैंने जवाब दिया कि ठीक है। फिर प्रशिक्षण के बाद हम सिनेमा में जाकर फिल्म देखते हैं। मेरे ख्याल से यह समस्या विदेश में काम करने वाले सभी चीनी कोचों को मिलती होगी। अगर इस का समाधान अच्छी तरह से नहीं किया जा सके, तो विदेशी खिलाड़ियों का प्रशिक्षण मुश्किल से चलता है।

मा चिन ने कहा कि विदेश में काम करने के दौरान प्रशिक्षक का अच्छा व्यावसायिक स्तर होने के साथ व्यक्तिगत व्यापक क्षमता भी चाहिये। मैक्सिको की टीम को प्रशिक्षण देते समय मा चिन ने मेहनत से अभ्यास करने पर बल नहीं दिया। पर खिलाड़ियों को उचित प्रशिक्षण के साथ आनंद भी देने की कोशिश की। उन के अलावा उन्होंने भिन्न-भिन्न खिलाड़ियों के प्रति प्रशिक्षण की भिन्न-भिन्न योजना बनायी। इस की चर्चा में उन्होंने कहा,प्रशिक्षण विभिन्न खिलाड़ियों के प्रति अलग अलग होना चाहिये। एक ही तकनीक हर खिलाड़ी को नहीं सिखायी जा सकती। मुझे भिन्न-भिन्न खिलाड़ी के प्रति अलग अलग योजना बनानी पड़ती है। इस के दौरान प्रशिक्षक की क्षमता को उन्नत करनी होती है।

प्रशिक्षण के अवकाश समय में मा चिन ध्यान से खिलाड़ियों के जीवन पर ख्याल रखती हैं। दोलोरेस हेर्नांदेज़ मैक्सिको की प्रसिद्ध डाइविंग महिला खिलाड़ी हैं। वर्ष 2014 के मध्य अमेरिका और कैरेबियन खेल समारोह, वर्ष 2015 के पैन अमेरिकन गेम्स, और वर्ष 2017 के विश्व विश्वविद्यालय ग्रीष्मकालीन खेल समारोह में उन्होंने स्वर्ण पदक जीते। 12 वर्ष की उम्र से 22 वर्ष की उम्र तक वे लगातार दस साल से प्रशिक्षक मा चिन से शिक्षा लेती हैं। उन के मुंह में मा चिन गंभीर शिक्षक के साथ स्नेहपूर्ण मां भी हैं। उन्होंने कहा,हालांकि कभी कभार वे बहुत गंभीर होती हैं, लेकिन वे हमेशा हमारा ख्याल रखती हैं। और मां की तरह हमारी देखभाल करती हैं। अगर हमें स्कूल में समस्या आने पर वे ज़रूर हमारी मदद देने के लिये पूरी कोशिश करती हैं।

मा चिन ने संवाददाता से कहा कि हालांकि वे मातृभूमि से बहुत दूर हैं, लेकिन वे हमेशा यह बात याद रखती हैं कि वे चीनी लोगों की ओर से यहां आयी हैं। इसलिये वे चीन की छवि का प्रतिनिधित्व करती हैं, और दोनों देशों के बीच सांस्कृतिक दूत की भूमिका भी अदा करती हैं। सामान्य जीवन व प्रशिक्षण में वे खिलाड़ियों को चीन की परंपरागत संस्कृति को बताती हैं, और चीनी लोगों के विचारों का परिचय देती हैं।

17 वर्षीय रेंदाल विल्लार्स वर्ष 2018 में आयोजित युवा ओलंपिक में पुरुष दस मीटर प्लेटफार्म इवेंट के चैंपियन हैं। नौ वर्ष की उम्र से वे प्रशिक्षक मा चिन से प्रशिक्षण लेने लगे। उन्होंने इस बात को समझाया कि क्यों मैक्सिको डाइविंग टीम के सभी खिलाड़ी मा चिन को चीनी मां बोलते हैं। उन के अनुसार,काम के प्रति वे बहुत उत्साहित हैं। चाहें खेल में या जीवन में उन्हें आशा होती है कि हम सब से अच्छा कर सकेंगे। वे हमें बहुत सुझाव देती हैं। ताकि हम गलती न करें। मैंने प्रशिक्षक मा चिन के साथ सात वर्ष बिताए हैं। वे अकसर घर में चीनी भोजन बनाकर हमें खिलाती हैं, या हमें लेकर चीनी रेस्टोरेंट में जाती हैं। साथ ही वे हमें लेकर चीनी सांस्कृतिक गतिविधि में भी भाग लेती हैं। जिससे हम जानते हैं कि चीनी लोग कैसे नये साल की खुशियां मनाते हैं।

शेयर