टोक्यो में 12वीं चीनी ब्रिज का क्वालीफायर मैच आयोजित

2019-08-15 14:26:34
Comment
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

दोस्तों, 12वीं चीनी ब्रिज नामक विश्व मिडिल स्कूलों के विद्यार्थियों की चीनी भाषा प्रतियोगिता के अधीन पूर्वी जापान का क्वालीफायर मैच 21 जुलाई के दोपहर बाद कोगाकुइन यूनिवर्सिटी के कंफ्यूशियस कॉलेज में आयोजित हुआ। इस बार के मैच का विषय था, चीनी भाषा का हाथ पकड़कर भविष्य में सपना पूरा करें। पूर्वी जापान स्थित पाँच हाई स्कूलों से आए 11 विद्यार्थियों ने चीनी भाषा में भाषण देने, चीन से जुड़ी ज्ञान प्रश्नोत्तरी देने, और अपनी कलात्मक प्रतिभा दिखाने आदि की प्रतिस्पर्धा में भाग लिया।

इस बार पूर्वी जापान के क्वालीफायर मैच का आयोजन कोगाकुइन यूनिवर्सिटी, जे.एफ़.ओबेर्लिन यूनिवर्सिटी समेत चार जापानी विश्वविद्यालयों के कंफ्यूशियस कॉलेजों और सेंडाई इकुएइ कंफ्यूशियस कक्षा द्वारा संयुक्त रूप से किया गया। इस मैच के आयोजन से पूर्वी जापान के मिडिल स्कूलों में चीनी भाषा सीखने वाले विद्यार्थियों के लिये पढ़ाई में प्राप्त उपलब्धियों को दिखाने का एक मंच तैयार किया गया। ताकि चीनी भाषा सीखने और चीनी संस्कृति को समझने में उन के उत्साह को बढ़ावा मिल सके। कोगाकुइन यूनिवर्सिटी के कंफ्यूशियस कॉलेज की प्रधान केइको ताकाहाशी ने कहा कि,मैच में भाग लेने वाले विद्यार्थी न सिर्फ़ चीनी भाषा में अच्छी तरह से भाषण दे सकते हैं, बल्कि उन्हें चीनी संस्कृति के बारे में भी कुछ न कुछ पता है। साथ ही अपने कलात्मक प्रदर्शन से इस क्षमता को दिखाना पड़ा। ये सभी अंक प्राप्त करने के तत्व हैं। क्योंकि भाषण देने के अलावा चीनी ज्ञान प्रश्नोत्तरी व कलात्मक प्रदर्शन भी चीनी ब्रिज की प्रतियोगिता में शामिल हुए हैं।

“चीनी भाषा का हाथ पकड़कर भविष्य में सपना पूरा करें” इस विषय पर विद्यार्थियों ने अपने अपने भाषण में अपनी आंखों में चीन, चीनी भाषा सीखने में प्राप्त अनुभव और चीनी लोगों के साथ मैत्रीपूर्ण आदान-प्रदान की कहानियां साझा की। सेंडाई इकुएइ गाकुएन हाई स्कूल से आई नागिसा अबे ने अपने भाषण में चीन के प्रति उन की समझ बतायी, और चीनी भाषा लगातार सीखने की इच्छा भी प्रकट की। उन के अनुसार,क्योंकि मुझे चीनी संस्कृति से बहुत लगाव है। मैं चीन की संस्कृति व इतिहास के बारे में ज्यादा से ज्यादा जानकारियां प्राप्त करना चाहती हूं, साथ ही चीन के लंबे इतिहास की सुन्दरता को महसूस करना चाहती हूं। मुझे आशा है कि भविष्य में मैं विश्वविद्यालय में भी चीनी भाषा सीख सकूंगी। ताकि मुझे चीनी लोगों के साथ आदान-प्रदान के ज्यादा से ज्यादा मौके मिल सकें। मुझे उम्मीद है कि मेहनत से चीनी भाषा सीखने के माध्यम से मैं वास्तविक ढंग से चीन को समझ सकूंगी, और आसपास के लोगों को वास्तविक चीन के बारे में बता सकूंगी।

चीनी ब्रिज विश्व मिडिल स्कूलों के विद्यार्थियों की चीनी भाषा प्रतियोगिता के अधीन पूर्वी जापान के क्वालीफायर मैच के आयोजन से जापानी विश्वविद्यालय के अंतर्राष्ट्रीय संबंध कॉलेज के प्रोफ़ेसर, पूर्वी जापान के चीनी भाषा शिक्षक संघ के अध्यक्ष वू छ्वान लगातार इस मैच के रेफ़री बने। उन के ख्याल से चीनी भाषा सीखने पर जापानी युवाओं का जोश दिन-ब-दिन बढ़ रहा है। साथ ही उन की चीनी बोलने की क्षमता भी उन्नत हो रही है। इस की चर्चा में उन्होंने कहा,आशा है ज्यादा से ज्यादा लोग युवावस्था से ही यानी मिडिल स्कूल या हाई स्कूल में चीनी भाषा सीख सकेंगे, और चीनी संस्कृति से संपर्क रखेंगे। ताकि चीन-जापान दोनों देशों के युवाओं के बीच आदान-प्रदान मजबूत किया जा सके, और चीन-जापान संबंधों में सुधार हो सके। मैं उन की बड़ी प्रतीक्षा में हूं।

जापान की चीनी भाषा की प्रसिद्ध अनुवादक विशेषज्ञ तामिको कानज़ाकी ने संवाददाता से कहा कि मुझे बहुत खुशी हुई कि चीनी भाषा की शिक्षा स्थापित करने वाले हाई स्कूलों की संख्या धीरे धीरे बढ़ रही है। पर उन्होंने यह भी कहा है कि क्योंकि विद्यार्थियों के चीनी सीखने का समय बहुत कम है, इसलिये उन के स्तर को उन्नत करने की ज़रूरत है। उन्होंने कहा,उच्चारण बहुत स्पष्ट न बोलने की स्थिति में अगर बातें करने की गति बहुत तेज है, तो चीनी समझने में बहुत मुश्किल होगी। आशा है विद्यार्थी सीखने की शुरूआत में धीरे धीरे बोल सकेंगे, और हर अक्षर के उच्चारण पर ध्यान देंगे। ताकि चीनी भाषा सीखने में एक अच्छा आधार तैयार किया जा सके।

तीव्र प्रतिस्पर्धा के बाद आईसीयू से आये विद्यार्थी डैकी मुराकोशी इस क्वालीफायर मैच के पहले स्थान पर रहे। वे पूर्वी जापान की मिडिल स्कूलों के विद्यार्थियों की ओर से चीन के खुङमिंग शहर में आयोजित होने वाली चीनी ब्रिज़ विश्व मिडिल स्कूलों के विद्यार्थियों की चीनी भाषा प्रतियोगिता में भाग लेंगे। इस की चर्चा में उन्होंने कहा,मुझे आशा है कि भविष्य में मैं भाषा की बाधा को दूर करके एक अंतर्राष्ट्रीय प्रतिभा बन सकूंगा। मैं इस मूल्यवान मौके पर बड़ा ध्यान देता हूं, और चीन में आयोजित होने वाली चीनी ब्रिज़ विश्व मिडिल स्कूलों के विद्यार्थियों की चीनी भाषा प्रतियोगिता के लिये मेहनत से तैयारी करूंगा।

जापान स्थित चीनी दूतावास के कॉसिलर हू चीफिंग ने प्रतियोगिता के पुरस्कार वितरण समारोह में भाग लिया। भाषण देते समय उन्होंने कहा कि इस वर्ष चीन-जापान युवाओं के बीच आदान-प्रदान का पदोन्नति वर्ष है। दोनों देशों की सरकारों ने आगामी पाँच सालों में 30 हजार युवाओं का प्रबंध करके चीन व जापान के बीच आदान-प्रदान व आपसी यात्रा करने का फैसला किया। इस बार मैच में भाग लेने वाले 11 जापानी विद्यार्थियों को चीन की अल्पकालिक यात्रा करने का निमंत्रण दिया जाएगा।

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories