मनीला आनंदमय बाल केंद्र की संस्थापक जोहन गो होक की कहानी

2019-06-30 18:27:11
Comment
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn
1/4

दोस्तों, 8 जून को फिलीपींस की राजधानी मनीला के इंट्रामुरोस में 《जैस्मीन》और《कृतज्ञ दिल》, जो चीन में बहुत लोकप्रिय गीत हैं, की आवाज़ रास्ते पर गूंजती थी। यह मधुर आवाज़ यहां स्थित आनंदमय बाल केंद्र के बच्चों के मुंह से निकली। इस वर्ष चीन व फिलीपींस के बीच राजनयिक संबंधों की स्थापना की 44वीं वर्षगांठ है। इस मौके पर संवाददाता ने इस बाल केंद्र का दौरा किया।

इस वर्ष के 9 जून को चीन व फिलीपींस के बीच राजनयिक संबंधों की स्थापना की 44वीं वर्षगांठ का यादगार दिन है। वह भी 18वां चीन-फिलीपींस मैत्री दिवस है। 8 जून को फिलीपींस की राजधानी मनीला के इंट्रामुरोस में स्थित आनंदमय बाल केंद्र ने कुछ चीनी मेहमानों का स्वागत किया। वे हैं फिलीपींस स्थित चीनी दूतावास के काउंसलर श्ये योंगह्वेई व कई चीनी अधिकारी। वे बाल केंद्र के लिये स्कूल बैग और स्टेशनरी लाये हैं। खुश फिलिपिनो बच्चों ने मधुर गीत गाकर चीनी मेहमानों को धन्यवाद दिया।

आनंदमय बाल केंद्र की स्थापना फिलीपींस के प्रवासी चीनी जोहन गो होक द्वारा दी गयी पूंजी-निवेश से की गयी। जो मुख्य तौर पर मनीला के इंट्रामुरोस में रहने वाले साधारण व गरीबी परिवारों के फिलिपिनो बच्चों की भर्ती करता है। इस की चर्चा में जोहन गो होक ने कहा,हालांकि मेरी राष्ट्रीयता फिलीपींस की है, लेकिन मैं मूल रूप से एक चीनी हूं। मैं फिलिपिनो लोगों को यह बताना चाहता हूं कि चीनी लोग उन्हें प्यार करते हैं, उन्हें मदद देना चाहते हैं।

श्री जोहन गो होक दूसरी पीढ़ी वाले प्रवासी चीनी हैं। वे अन्य प्रवासी चीनियों की तरह जिन्दगी भर मेहनत करते हैं, और शिक्षा का सम्मान करते हैं। वर्ष 2005 में उन्होंने बारी बारी अपनी आंखों से यह बात देखी कि स्कूल से निकलने के बाद बच्चे कहीं न जाने के कारण रास्ते पर घूमते समय सड़क दुर्घटना के शिकार बने। फिर श्री जोहन गो होक ने इस बाल शिक्षा केंद्र की स्थापना करने का फैसला किया। इस की चर्चा में जोहन ने कहा कि,वे बहुत गरीब हैं, जिन्हें अच्छी शिक्षा हासिल करने का मौका नहीं मिल सका। इसलिये मैंने यहां एक शिक्षा केंद्र की स्थापना की। स्कूल में मेरे यहां पढ़ने वाले सभी बच्चों की पढ़ाई बहुत अच्छी है।

अब श्री जोहन के आनंदमय बाल केंद्र में निःशुल्क से अंग्रेज़ी, वाद्य यंत्र व कंप्यूटर आदि शिक्षा देने के साथ फिलिपिनो चीनी शिक्षा अध्ययन केंद्र की मदद से चीनी शिक्षा की स्थापना भी की गयी। हर दिन के दोपहर के बाद दो बजे के लगभग आसपास के बच्चे पब्लिक स्कूल की शिक्षा समाप्त कर इस शिक्षा केंद्र के आँगन में इकट्ठे होते हैं। वे चीनी अध्यापकों से सीखकर ताई ची खेलते हैं, चीनी गीत गाते हैं, और चीनी भाषा में बातचीत करते हैं। यहां आने वाले बच्चों की संख्या तीन सौ तक पहुंच सकती है।

गरीब पारिवारिक स्थिति के कारण यहां के विद्यार्थियों के बीच दैनिक आवश्यकताओं व स्टेशनरी का अभाव है। काउंसलर श्ये योंगह्वेई ने कहा कि इस बार चीनी दूतावास ने श्री जोहन द्वारा स्थापित इस बाल केंद्र में दान के रूप में स्टेशनरी व स्कूल बैग आदि भेंट की। एक तरफ़ हम फिलिपिनो बच्चों को अपना प्यार प्रकट करना चाहते हैं। और दूसरी तरफ़ हम श्री जोहन की परोपकार कार्रवाई की सहायता देना चाहते हैं। इस की चर्चा में श्ये ने कहा, देशों के बीच आदान-प्रदान जनता के बीच स्नेह पर निर्भर है। 1 अरब 40 करोड़ चीनी लोगों और 10 करोड़ फिलिपिनो लोगों के बीच आपसी समझ व विश्वास दोनों देशों के संबंधों के विकास के लिये महत्वपूर्ण व अनिवार्य भूमिका अदा कर सकेगा।

फिलीपींस स्थित चीनी दूतावास के साथ चीनी रोड व पुल सहयोग शाखा कार्यालय ने भी बाल केंद्र को दान किया। यह कंपनी चीन सरकार द्वारा निर्मित पुल परियोजना को संभालती है। कार्यालय के मेनेजर रेन श्याओफंग और उन के साथियों ने आनंदमय बाल केंद्र की स्थिति को सुनते ही सक्रिय रूप से बच्चों को टेबलवेयर, कपड़े, चिकित्सा बैग, बाल विटामिन आदि बहुत दैनिक आवश्यकताएं देने को कहा। रेन श्याओफंग ने कहा कि चीनी उद्यमों के प्रति फिलीपींस में व्यापार करने का मुख्य उद्देश्य केवल पैसा कमाना नहीं है, वह चीन-फिलीपींस मित्रता को बढ़ाने के लिये अपनी सामाजिक जिम्मेदारी भी है। उन के अनुसार,यह पहली बार नहीं है, और अंतिम बार भी नहीं होगा। भविष्य में हम ज़रूर चीनी उद्यमों की अच्छी छवि स्थापना करेंगे, और चीन-फिलीपींस मित्रता को सकारात्मक ऊर्जा देंगे।

81वर्षीय श्री जोहन गो होक ने भविष्य की चर्चा में कहा कि उन्हें आशा है कि इंट्रामुरोस में रहने वाले बच्चों के लिये एक औपचारिक स्कूल की स्थापना की जा सकेगी। ताकि बच्चों को स्कूल जाने के लिये कई किलोमीटर दूर जाने की ज़रूरत नहीं है। साथ ही श्री जोहन को यह भी उम्मीद है कि बाल केंद्र के लिये और दो गाड़ियां खरीदी जा सकेंगी, ताकि बच्चे बाहर की सुन्दर दुनिया को देख सकें। साथ ही उन्होंने यह उम्मीद भी जतायी है कि ज्यादा से ज्यादा लोग चीन-फिलीपींस गैर सरकारी मित्रता और आपसी समझ को मजबूत करने में भाग ले सकेंगे, और एक साथ चीन-फिलीपींस संबंधों के सुन्दर भविष्य को बना सकेंगे।

शेयर