चीनी चिकित्सा दल ने जिम्बाब्वे के स्थानीय अनाथों की मुफ्त सेवा दी

2019-06-13 18:33:21
Comment
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn
1/4

दोस्तों, 12 मई को मातृ दिवस था। जिम्बाब्वे की सहायता देने वाला चीन का 16वां चिकित्सा दल एक स्थानीय अनाथालय में गया। वहां चिकित्सकों ने अनाथ लोगों व आसपास के नागरिकों की मुफ्त चिकित्सा सेवा दी। जिम्बाब्वे स्थित चीनी दूतावास और चीनी संघों ने भी अनाथालय को चंदा व सामग्री भेंट दी।

जिम्बाब्वे की राजधानी हरारे के उत्तर में स्थित होसाना प्रेम अफ़्रीकी बाल परिवार नामक अनाथालय में मातृ दिवस पर कुछ विशेष मेहमानों का स्वागत किया गया। जिम्बाब्वे की सहायता देने वाले चीन के 16वें चिकित्सा दल ने यहां आकर निःशुल्क से अनाथालय के बच्चों व आसपास के नागरिकों को चिकित्सा सेवा दी।

चिकित्सा दल के अध्यक्ष शू छूछ्यांग ने कहा कि चिकित्सा दल ने बच्चों के लिये सामान्य स्वास्थ्य जांच करने के अलावा उन के स्वास्थ्य फ़ाइल की स्थापना भी की। ताकि निरंतर रूप से बच्चों के स्वास्थ्य की कारगर सुनिश्चितता की जा सके। इस की चर्चा में शू ने कहा, हमारा मुख्य काम अनाथालय के बच्चों व आसपास के नागरिकों की स्वास्थ्य जांच करना है। साथ ही हमने अनाथों के लिये स्वास्थ्य फ़ाइल की स्थापना भी की। सूचना रखने के बाद भविष्य में आने वाले चिकित्सा दल फ़ाइल को देखकर बच्चों की शारीरिक स्थिति जान पाएंगे। ताकि बच्चों के बड़े होने की प्रक्रिया में उन्हें ज्यादा से ज्यादा अच्छी स्वास्थ्य सुनिश्चितता मिल सके।

चीनी चिकित्सा दल द्वारा दी गयी मुफ्त सेवा के अलावा जिम्बाब्वे स्थित चीनी दूतावास और प्रिय माता जी नामक चीनी लोकोपकार संगठन ने अनाथालय को चावल, ऊनी कंबल, स्कूल बैग, फुटबाल व चित्र पुस्तकें आदि चीजें दी।

इस गतिविधि में भाग लेने वाले जिम्बाब्वे स्थित चीनी राजदूत की पत्नी वांग वेई ने कहा कि चीनी दूतावास व जिम्बाब्वे स्थित चीनी संघ लगातार स्थानीय लोकोपकार कार्यों में सक्रिय रूप से भाग लेते हैं, और योगदान देते हैं। उन के अनुसार,आज मातृ दिवस है। बहुत खुशी के साथ मैंने प्रिय माता जी नामक संगठन द्वारा आयोजित इस गतिविधि में भाग लिया। बच्चों को सुखमय जीवन बिताते देखकर मुझे बहुत खुशी हुई। जिम्बाब्वे स्थित चीनी दूतावास लंबे समय में सक्रिय रूप से लोकोपकार कार्यों में भाग लेता है। हमें आशा है कि भविष्य में हम स्थानीय सरकार व विभिन्न लोकोपकार संगठनों के साथ ज्यादा सहयोग कर सकेंगे, और स्थानीय महिलाओं व बच्चों को ज्यादा मदद दे सकेंगे।

अनाथालय की प्रधान जेक्वेलीन एंडरसन ने चीन द्वारा दी गयी सहायता के लिए धन्यवाद दिया। उन के अनुसार निःस्वार्थ सहायता से अनाथालय में रहने वाले बच्चों ने गहरा प्रेम महसूस किया। उन्होंने कहा,आज दान के रूप में दी गयी सामग्री बच्चों को सामान्य जीवन में मुश्किल से मिलती हैं। खास तौर पर विकलांग बच्चों के प्रति। यह एक ऐसा समूह है जो हमेशा उपेक्षित किया जाता है। इसलिये फुटबाल, स्कूल बैग, खाद्य-पदार्थ जैसे उपहार पाकर उन्होंने गहरा प्रेम महसूस किया। मैं बच्चों की ओर से चीन की सहायता के लिए धन्यवाद देती हूं। आशा है हमारे बीच इस तरह का सहयोग जारी रहेगा।

प्रिय माता जी नामक संगठन की स्थापना वर्ष 2014 में हुई। जो जिम्बाब्वे में चीनी वाणिज्य संघ के अधीन है। इस का उद्देश्य स्थानीय कमजोर बच्चों को जीवन व शिक्षा की स्थिति में सुधार करने में मदद देना है।

जिम्बाब्वे की सहायता देने वाले चीन का 16वां चिकित्सा दल वर्ष 2018 के जून में जिम्बाब्वे पहुंचा। वे जिम्बाब्वे के सब से बड़े सार्वजनिक अस्पताल में काम करते हैं। उन्होंने इस अस्पताल की चिकित्सा व स्वास्थ्य स्थिति का सुधार करने में सकारात्मक योगदान दिया है। इसके अलावा चिकित्सा दल सक्रिय रूप से स्थानीय जनता में जाकर सार्वजनिक स्वास्थ्य सेवा देता है। उन में मजबूत उष्णकटिबंधीय चक्रवात इदाई से ग्रस्त लोगों के लिये मुफ्त चिकित्सा सेवा देना और आपदा के बाद महामारी की रोकथाम करने में मदद देना आदि शामिल हैं।

शेयर