एशियाई सांस्कृतिक कार्निवल पेइचिंग में आयोजित

2019-05-17 11:12:04
Comment
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn
1/4

दोस्तों, एशियाई सभ्यता संवाद सम्मेलन की एक महत्वपूर्ण गतिविधि के रूप में चाइना मीडिया ग्रुप द्वारा आयोजित एशियाई संस्कृति कार्निवल का रात्रि समारोह 15 मई को चीनी राष्ट्रीय व्यायामशाला बर्ड नेस्ट में धूमधाम से आयोजित हुआ। एशिया के विभिन्न देशों से आए श्रेष्ठ कलाकारों व युवा प्रतिनिधियों ने एक सुन्दर व रंगारंग प्रस्तुति दिखायी। तो आज हम एक साथ इस कार्निवल में शामिल कई रंगारंग कार्यक्रमों का मज़ा लेंगे।

एशियाई संस्कृति कार्निवल कोरस हमारा एशिया की आवाज में उद्घाटित हुआ। इसके बाद अफ़गानिस्तान, इंडोनेशिया, भारत, ईरान, इराक, जापान, डीपीआरके, सिंगापुर व चीन आदि देशों के कलाकार क्रमशः मंच पर आए। एक सांस्कृतिक मिलन समारोह इससे शुरू हुआ।

“हमारा एशिया”इस थीम गीत में मधुर धुन और सुन्दर चित्र के माध्यम से विभिन्न एशियाई देशों के प्राकृतिक दृश्य, जनता के बीच सामंजस्य और समान भाग्य का वर्णन किया गया। गीत की धुन विभिन्न एशियाई देशों के सर्वश्रेष्ठ संगीतकारों से गठित“एशियाई संयुक्त संगीत दल”द्वारा बजाई गई, जिसमें एशियाई आवाज़ सुनाई गयी।

गीत के बोल इस प्रकार के हैं:

सूर्य की किरणों में एशिया

हर दिन गर्माहट देता हमारे परिवार को

जोड़ता है पर्वतों और नदियों को

बहुत घनिष्ठ है हमारा एशिया

युवा जोश से भरा एशिया

हर क्षण प्रेरित करता है हमें

सुख का मिलन है हमारा एशिया

सूर्य की किरणों में एशिया

हर दिन गर्माहट देता हमारे परिवार को

जोड़ता है पर्वतों और नदियों को

बहुत घनिष्ठ है हमारा एशिया

सुन्दर और आदरणीय है एशिया

हाथ में हाथ डालकर हम सब हैं परिवार

सुन्दर और आदरणीय है एशिया

हाथ में हाथ डालकर हम सब हैं परिवार

बता दें कि कार्निवल की प्रस्तुति में कोरस, नृत्य, आघात वाद्ययंत्र, पेइचिंग ओपेरा, वूशू आदि कार्यक्रम शामिल हुए हैं। जिसमें न सिर्फ़ एशियाई संस्कृतियों की सुन्दरता को दिखाया गया, बल्कि पूर्व व पश्चिम की सभ्यताओं के बीच सम्मिश्रण व टकराव भी देखा गया। हालांकि कार्यक्रमों में दिखायी गयी भाषाएं व रीति रिवाज़ अलग अलग हैं। लेकिन उनमें एक साथ एशियाई संस्कृति को और समृद्ध बनाने की सदिच्छा छिपी हुई है। जिसने दर्शकों पर गहरी छाप छोड़ी।

अच्छा, अब हम इस रात्रि समारोह से चुना गया और एक मधुर गीत का परिचय देंगे। गीत के बोल हैं हवा व फूलों की सीमा। गौरतलब है कि चीन, दक्षिण कोरिया, सिंगापुर, वियतनाम व इजराइल के प्रसिद्ध युवा गायकों ने एक साथ यह गीत गाया।

गीत के मुख्य विषय इस प्रकार हैं:

नाजुक फूल कोमल हवा का इंतजार कर रहे हैं

प्रेम के बीज धीरे-धीरे दिल की सीमा को पार करते हैं

समृद्ध भविष्य के लिये हमने वादा किया

सूर्य पूर्वी दिशा से निकल गया

हमने एक साथ उसकी ओर देखा

इस सुबह मन व आकाश एक साथ सुहावना बना

इतना गौरव महसूस हुआ

हमें विश्व की ओर सबसे पहले सूर्य की किरण मिली

हवा व फूलों की सीमा पर हम पड़ोसी हैं

हम एक साथ धूप का आनंद लेते हैं

और एक साथ तारे के नीचे हंसते हैं

गौरतलब है कि रात्रि-समारोह में चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने भाषण दिया।

उन्होंने कहा कि आज के मंगलमय मौसम में एशिया के भिन्न भिन्न देशों के अतिथि, कलाकार और युवा दोस्त साथ-साथ मिलकर एकजुट हुए हैं और कार्निवल के रूप में धूमधाम से हमारा सांस्कृतिक त्योहार मनाते हैं। सर्वप्रथम मैं चीन सरकार और जनता की ओर से अतिथियों और कलाकारों का स्वागत करता हूं।

एशियाई देशों की अपनी अपनी प्राचीन,शानदार और विशेष संस्कृतियां हैं। एशियाई सभ्यताओं की विविधता से एशियाई संस्कृतियों में रंगबिरंगी जीवित शक्तियां डाली गयी हैं। आज रात को एशियाई संस्कृतियों के फूल अधिकाधिक तौर पर खिलेंगे। कला राष्ट्रों, दिलों और विचारों से पार कर सारी दुनिया को शानदार एशिया,जीवित शक्ति प्राप्त एशिया तथा शांतिपूर्ण और प्रगतिशील एशिया का प्रदर्शन करेगा।

शी चिनफिंग ने कहा कि चीनी लोगों ने प्राचीन काल से ही अच्छे पड़ोसी का विचार प्रस्तुत किया था। चीनी जनता की हार्दिक आशा है कि एशियाई देश एक दूसरे की मदद और सहारे से आगे बढ़ेंगे। और विश्व के विकास में एशिया और विश्व के लिए और सुन्दर भविष्य तैयार करेंगे।

दोस्तों, पेइचिंग ओपेरा विश्व में प्रसिद्ध है, जो चीन की परंपरागत कला व संस्कृति का परिचय व प्रसार-प्रचार करने का एक महत्वपूर्ण माध्यम है। 16 नवंबर 2010 को पेइचिंग ओपेरा विश्व गैर भौतिक सांस्कृतिक विरासतों की सूची में शामिल किया गया है। इस बार के एशियाई सांस्कृतिक कार्निवल में पेइचिंग ओपेरा का एक भव्य प्रदर्शन भी किया गया है।

साथ ही पेइचिंग ओपेरा के बारे में एक पॉप गीत भी बहुत लोकप्रिय है। गीत के बोल है ओपेरा मास्क की चर्चा। इस गीत में विभिन्न रंग वाले मास्क का मतलब बताया गया। जैसे लाल मास्क साहस जाहिर हुआ है। सफ़ेद मास्क चालाकी का द्योतक है। और काला मास्क ईमानदारी प्रतिबिंबित करता है इत्यादि।

इस बार के एशियाई संस्कृति कार्निवल में विश्व के चौथे टीनॉर इतालवी गायक एंड्रिया बोसिली का प्रदर्शन भी हुआ।

बोसेली चीनी दर्शकों के पुराने दोस्त हैं। वर्ष 2004 में उन्होंने पेइचिंग में अपना सोलो कॉन्सर्ट किया था। वर्ष 2010 में उन्होंने शांगहाई में आयोजित वर्ल्ड एक्सपो के उद्घाटन समारोह में भी प्रदर्शन किया। वर्ष 2011 में उन्होंने चीनी राष्ट्रीय स्डेडियम में एशियन टूर कॉन्सर्ट किया।

कार्निवल से पहले बोसेली ने पेइचिंग में हमारे संवाददाता के साथ इंटरव्यू में कहा कि चाहे वे व्यक्तिगत रूप से, या उनके ओपेरा "टरंडोट", चीनी लोगों से अद्भुत रिश्ते मौजूद हैं। और यह उनके लिए पहली बार है कि उन्होंने एशियाई संस्कृति कार्निवल जैसे समारोह में भाग लिया है।

बोसेली ने कहा कि उन्हें चीन के संगीत और संगीतकारों के प्रति गहरी छाप लगी। विश्व संगीत में चीनी संगीत का उच्च स्थान है। उन्हें चीनी संगीत के प्रति गहरा प्रेम भी है। और इधर के वर्षों में चीन और इटली के बीच सांस्कृतिक आदान प्रदान गहरा होता जा रहा है। संगीत विश्व की भाषा माना जाता है। जिससे विभिन्न संस्कृतियों के बीच समझ को बढ़ाया जाएगा। जबकि पारस्परिक समझ विश्व की शांति व स्थिरता की नींव ही है।

एशियाई सांस्कृतिक कार्निवल ने न सिर्फ़ विभिन्न देशों के कलाकारों के बीच एक मित्रता का पुल बनाया है, बल्कि विभिन्न एशियाई देशों की जनता के बीच आपसी समझ व परंपरागत मित्रता को मजबूत करने का लिंक भी तैयार किया।

शेयर