तेहरान लोकोपकार संगठन ने एड्स अनाथों के लिये जुटाया धन

2019-01-31 16:29:29
Comment
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn
1/4

दोस्तों, हाल ही में ईरान की राजधानी तेहरान के दक्षिण में स्थित एक दफ्तर की इमारत में एड्स अनाथों के लिये धन जुटाने की दान की बिक्री आयोजित की गयी। ईरान के 15 प्रसिद्ध चित्रकारों ने 100 से अधिक कला वस्तुएं दान की। फिर उन कला वस्तुओं को सार्वजनिक रूप से समाज में बेचा गया। इस गतिविधि के आयोजक ने संवाददाता से कहा कि इस दान की बिक्री का उद्देश्य एड्स परिवार की सहायता देना है। ताकि उन परिवारों की स्थिति सुधर सके।

इस बार की दान की बिक्री ईरान में सब से बड़ी गैरसरकारी एड्स अनाथ लोकोपकार संस्था स्पास्डी द्वारा आयोजित की गयी। इस संगठन के अधीन दो सहायता संस्थाएं गठित हुई हैं। वे हैं कमजोर समूह का समर्थन व राहत संघ और विकलांग युवाओं व बच्चों की रक्षा संघ। स्पास्डी के संस्थापक के.मनसौरियान ने संवाददाता से कहा कि इस बार की लोकोपकार गतिविधि का लक्ष्य उन एड्स परिवारों को आर्थिक सहायता देना है, जिन में एड्स के कारण बच्चे के पिता का निधन हो गया है, और माता भी एड्स से पीड़ित है।

कमजोर समूह का समर्थन व राहत संघ के प्रमुख मैनेजर मोहसेन रूही सेफ़ात ने परिचय देते हुए कहा कि अभी तक इस संगठन द्वारा आयोजित लोकोपकार गतिविधि में ईरान के 150 एड्स परिवार शामिल हुए हैं। इस संगठन ने न सिर्फ़ एड्स परिवार की महिलाओं व बच्चों को आर्थिक सहायता दी, बल्कि उन्हें मनोवैज्ञानिक परामर्श भी दिया। ताकि वे अच्छी तरह से समाज में शामिल हो सकें। मोहसेन इस से पहले ईरान के विदेश मंत्रालय के अधीन एक थींक टैंक संस्था के उपाध्यक्ष थे। सेवानिवृत्ति के बाद अभी तक वे लगातार इस संगठन में लोकोपकार काम करते हैं। मोहसेन के अनुसार कला वस्तुओं की दान की बिक्री का आयोजन करने का और एक उद्देश्य एड्स से पीड़ित बच्चों के प्रति समाज के भेदभाव को बदलना है। उन्होंने कहा,हम समाज में इस विचार का प्रसार-प्रचार करना चाहते हैं कि एड्स रोगी साधारण व्यक्तियों की तरह सामान्य जीवन बिताएं, और सामान्य सामाजिक गतिविधियों में भाग लें। इसलिये हमने दान की बिक्री आयोजित की। आशा है वह कलाकारों और एड्स महिलाओं व बच्चों के बीच एक पुल बन सकेगी। गतिविधि में सभी कला वस्तुएं चित्रकारों द्वारा दान के रूप में दी गयीं। उन की बिक्री से प्राप्त राशि का इस्तेमला एड्स मां व बच्चों के जीवन में सुधार करने में किया जाएगा। हम दो पक्षों में एड्स परिवार की सहायता व समर्थन देते हैं। एक पक्ष तो आध्यात्मिक मदद है, और दूसरा पक्ष आर्थिक सहायता है। हम उन्हें दवा व भोजन देते हैं। उन में अधिकतर लोग तेहरान के गरीब क्षेत्र में रहते हैं। जीवन की स्थिति बहुत खराब है।

चित्रकार अराश रेज़गी बारेज़ ईरान में प्रसिद्ध हैं। उनके चित्रों को दक्षिण कोरिया व फ़्रांस आदि देशों में आयोजित अंतर्राष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में पुरस्कार मिल चुके हैं। यह भी उन का तीसरा साल है कि उन्होंने दान की बिक्री में भाग लिया। बिक्री की उसी रात को अराश भी वहां पहुंचे। हालांकि विकलांग होने के कारण उन्हें व्हीलचेयर का प्रयोग करना पड़ा। लेकिन उन्होंने बहुत ध्यान से एक चित्र वहां बनाया। इन्टरव्यू देते समय अराश ने अपनी एक चित्र की ओर इशारा करते हुए कहा,मुझे इस क्षेत्र में काम करते हुए 30 साल हो चुके हैं। चित्र बनाना सिखाते हुए भी 28 वर्ष हो गये हैं। मैंने तीन सालों में इस संघ के साथ सहयोग किया है। यह चित्र एक चित्र शृंखला में से एक है। मैंने इसे कई बार बनाया है। इस चित्र में दो घोड़े स्नेह के साथ खेल रहे हैं। वे बहुत खुश हैं, और एक दूसरे से प्यार करते हैं। कई साल पहले मैं यातायात दुर्घटना में विकलांग बन गया। मुझे आशा है कि मैं अपनी क्षमता के दायरे में विकलांगों व रोगियों की सहायता देने की यथासंभव कोशिश कर सकूंगा।

इस दान की बिक्री में भाग लेने वाले बहुत स्वयंसेवक तो युवा हैं। उन में कुछ लोगों ने कला वस्तुओं के प्रदर्शन की तैयारी की, कुछ लोगों ने इस गतिविधि के प्रसार-प्रचार के लिये पोस्टर बनाये, और कुछ लोगों ने बिक्री के स्थल पर ईरान के परंपरागत वाद्य यंत्र बजाये। मसौद उन स्वयंसेवकों में से एक हैं। उन के अनुसार वे सामान्य जीवन में तो इस संघ में बच्चों को वाद्य यंत्र की निःशुल्क शिक्षा देते हैं। उन्होंने कहा,मैं आज की दान की बिक्री के लिये संगीत बजाने के लिये यहां आया हूं। उन के अलावा मैं इस संघ में पाँच बच्चों को वाद्य बजाने की निःशुल्क शिक्षा देता हूं। उन में तीन बच्चे ईरान के परंपरागत वाद्य तोंबाक ड्रम बजाना सीखते हैं। एक बच्चा परंपरागत वाद्य सितार सीखता है। और एक बच्चा गिटार सीखता है। बहुत खुशी की बात है कि वे विकसित हो रहे हैं। और वाद्य बजाने में उन का बड़ा शौक है।

परिचय के अनुसार यह चैरिटी बिक्री गतिविधि लगातार कई सालों में आयोजित की जाती है। इस साल की गतिविधि 11 जनवरी तक समाप्त हुई।

शेयर