सब से शुद्ध कोरस कला बच्चों को दिया फ़ैन श्वेएह्वेई ने

2018-11-29 18:49:18
Comment
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn
1/5

दोस्तों, पेइचिंग के येनछिंग जिले के श्याटून केंद्र प्राइमरी स्कूल में केवल 102 विद्यार्थी हैं। वहां के बच्चे हर हफ्ते एक बार की कोरस कक्षा लेते हैं, क्योंकि उनकी पसंदीदा संगीत टीचर फ़ैन फ़ैन उन का नेतृत्व करके दिलचस्प खेल खेलती हैं, और मधुर गीत गाती हैं।

बच्चों के मुंह में वह संगीत टीचर फ़ैन फ़ैन तो फ़ैन श्वेएह्वेई हैं। वर्ष 2015 में श्याटून केंद्र प्राइमरी स्कूल को पेइचिंग में एक शिक्षा कार्यक्रम में शामिल किया गया। इस कार्यक्रम के अनुसार उच्च स्तरीय शिक्षालय व सामाजिक शक्ति प्राइमरी स्कूलों की खेल व कला शिक्षा में भाग लेंगे, ताकि उन शिक्षा का विकास प्राप्त हो सके। ठीक उसी समय से ही फ़ैन श्वेएह्वेई व अन्य कई पेशेवर शिक्षकों ने इन छै कक्षाओं सहित कला विशेषता वाली स्कूल में प्रवेश किया। उन्होंने गांव में रहने वाले बच्चों को संगीत का वसंत लाया। फ़ैन श्वेएह्वेई ने संवाददाता से कहा,वर्ष 2014 में पेइचिंग शहर की शिक्षा कमेटी ने एक शिक्षा कार्यक्रम शुरू किया। इस कार्यक्रम के अनुसार चीनी कोरस संघ ने चार उपनगर जिलों का कोरस शिक्षा कार्य संभाला। मेरी अध्यापिका प्रोफ़ेसर वू लिंगफ़न येनछिंग जिले के जिम्मेदार विशेषज्ञ के रूप में इस जिले की कोरस शिक्षा संभालती हैं। मैं वू लिंगफ़न स्टूडियो की एक सदस्य हूं। इसलिये वर्ष 2015 के मार्च से मैंने श्याटून प्राइमरी स्कूल में आकर अध्यापिका वू के साथ काम शुरू किया।

इस शिक्षा कार्यक्रम का उद्देश्य यह है कि सामान्य स्कूलों के विद्यार्थियों को भी शिक्षा का श्रेष्ठ संसाधन मिल सकता है। वू लिंगफ़न स्टूडियो जैसे समाज के श्रेष्ठ शिक्षा संसाधन ने साधारण स्कूलों के शिक्षा स्तर को उन्नत करने के लिये अपरिहार्य सहायता दी। श्याटून केंद्र प्राइमरी स्कूल के अधिकतर बच्चों में कोरस व संगीत का आधार नहीं था। इसलिये हर हफ्ते दो घंटों की संगीत कक्षा में फ़ैन श्वेएह्वेई ने खेल व नकल आदि अंतर्राष्ट्रीय तीन संगीत शिक्षा के तरीकों को कोरस के अभ्यास में शामिल कर बच्चों को सिखाया। ताकि बच्चे खेल के दौरान संगीत को समझ सकें, और कोरस कला को जान सकें। उन के ख्याल से बिना आधार वाले बच्चों को कोरस की जानकारियां देने में उन्हें ज्यादा उपलब्धियां मिल सकती हैं। उन्होंने कहा,अब मैं येनछिंग जिले में सेवा देती हूं। मेरे लिये सबसे खुशी की बात यह है कि बच्चे मेरी कक्षा लेकर मुझसे सिखाये गये गीतों को गाते हैं। यह मेरे लिये सब से खुशी की बात है। कुछ कोरस मंडल के बच्चे गायन के सही तरीके नहीं जानते, इसलिये उन की आवाज़ मधुर नहीं है। मैंने कुछ सरल व उपयोगी शिक्षा तरीकों से उन्हें सीखाया, जिससे बहुत अच्छा परिणाम मिला।

वास्तव में ग्रामीण स्कूलों में संगीत शिक्षा देना केवल फ़ैन श्वेएह्वेई के कामों में से एक है। उन का मुख्य काम तो पेइचिंग एंजेल बाल कोरस मंडल का प्रदर्शन कंडक्टर है। उन के अलावा वे पेइचिंग की विभिन्न मीडिल व प्राइमरी स्कूलों में कोरस का प्रसार-प्रचार व शिक्षा देती हैं, और विभिन्न संस्थाओं व कॉलेजों के कोरस मंडलों को प्रशिक्षण देती हैं। फ़ैन श्वेएह्वेई के प्रति कोरस न सिर्फ़ उनका काम है, बल्कि उन के जीवन में एक ज़रूरी चीज़ है। जब वे प्राइमरी स्कूल में पढ़ती थी, तो अख़बार में प्रकाशित एक प्रवेश सूचना ने उन का संगीत रास्ता खोला। उसी समय से ही वे कोरस से जुड़ने लगी। उन के अनुसार,उसी समय मेरी मां-बाप ने इस बात की चिंता की कि मैं कोरस पर कायम नहीं रह सकती। लेकिन मैं अभी तक इस बात पर जोर देती हूं। फिर वह मेरी जिन्दगी में एक व्यवसाय बन गया।

फ़ैन श्वेएह्वेई कोरस पर कायम रहकर बाल कोरस से चीनी संगीत कॉलेज तक जा पहुंची। वे कोरस मंडल की एक सदस्य से कोरस की कंडक्टर बन गयी। वे इसलिये कोरस के प्रति इतना प्रेम देती हैं, क्योंकि इस सामूहिक कला पर वे गहन रूप से समझ सकती हैं। उन्होंने कहा,कोरस के प्रति मेरा प्रेम क्यों अभी तक बना हुआ है?क्योंकि कोरस कला पर मैं खूब समझती हूं। कोरस के एक सदस्य के रूप में आप को न सिर्फ़ गीत गाने को जानना पड़ता है, बल्कि अपने स्थान को समझना चाहिये और अन्य सदस्यों के साथ कैसे सामंजस्यपूर्ण रूप से गीत गाने को समझना चाहिये।

कक्षा में वे एक बहुत गंभीर कोरस टीचर हैं, लेकिन कक्षा के बाहर वे बच्चों की आंखों में एक प्रतिमा हैं। अभी अभी समाप्त हुए पेइचिंग शहर की मीडिल व प्राइमरी स्कूलों के कला दिवस में फ़ैन श्वेएह्वेई द्वारा प्रशिक्षित कोरस ने अच्छी उपलब्धि प्राप्त की। पर फ़ैन ने इस पर बड़ा ध्यान नहीं दिया। फ़ैन की नज़र में कोरस एक ऐसी कला है, जिसे खूब धैर्य चाहिये। वे इस बात पर ज्यादा ध्यान देती हैं कि बच्चे कोरस कला से सहयोग व संगीत की सच्चाई को समझ सकते हैं।

कोरस कला के प्रेम व सम्मान से फ़ैन श्वेएह्वेई बच्चों को न सिर्फ़ अपना विद्यार्थी मानती हैं, बल्कि कलात्मक रचने में साझेदार भी मानती हैं। कोरस की दुनिया में वे उन छोटे साझेदारों के साथ संगीत की शक्ति को महसूस करने की प्रतीक्षा में हैं।

शेयर