पेइचिंग में बाल स्पेनिश की शिक्षा

2018-11-23 16:10:23
Comment
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

पेइचिंग में बाल स्पेनिश की शिक्षा

दोस्तों, इंटरनेट तकनीक के विकास के साथ साथ उपभोक्ता समय व जगह की सीमा पार कर सकते हैं। इंटरनेट से लोगों को न सिर्फ़ साधारण जीवन में सुविधाएं मिलती हैं, बल्कि पढ़ाई व संवाद भी लोग ऑनलाइन कर सकते हैं।

पेइचिंग में स्थित स्पेनिश की एक प्रशिक्षण संस्था बाल स्पेनिश की शिक्षा में अपनी विशेष प्रणाली से ज्यादा से ज्यादा देशी-विदेशी विद्यार्थियों को आकर्षित कर रही है। खास तौर पर इस की ऑनलाइन शिक्षा ने विभिन्न शहरों में रहने वाले विद्यार्थियों को सुविधा दी। ऑनलाइन शिक्षा की स्थापना करने के कारण की चर्चा में कंपनी के संस्थापक शन येनचेन ने कहा,सब से मुख्य कारण स्पेनिश सीखने की मांग है। कुछ लोगों के बच्चे स्पेनिश सीखना चाहते हैं, लेकिन उन के घर हमारी संस्था से बहुत दूर हैं। क्योंकि पेइचिंग में बच्चों को स्पेनिश सिखाने का संसाधन बहुत ज्यादा नहीं है। कुछ बच्चों के मां-बाप ने उचित संस्था को नहीं ढूंढ़ पाया। हालांकि हमारी संस्था की पाँच शाखाएं हैं, जो मुख्य तौर पर सारे पेइचिंग शहर को कवर करती हैं। लेकिन वह भी कुछ बच्चों के घरों से बहुत दूर हैं। इसलिये उन बच्चों के परिजनों ने ऑनलाइन शिक्षा देने का आग्रह किया। अन्य शहरों में शांगहाई, क्वांगचो, शानतुङ, छंगतू व क्वेईयांग में हमारी शाखाएं मौजूद हैं। पर तीसरे व चौथे स्तरीय शहरों में स्पेनिश शिक्षा के संसाधनों का अभाव है, लेकिन बच्चों में इसे सीखने की मांग ज्यादा है। तो बाद में हमने ऑनलाइन शिक्षा पर अध्ययन करना शुरू किया।

अब इस संस्था ने तीसरे पक्ष के मंच पर निर्भर होकर ऑनलाइन बाल स्पेनिश शिक्षा की स्थापना की। यह शिक्षा 2 से 12 वर्षों तक के विद्यार्थियों के लिये तैयार है। विदेशी अध्यापक ऑनलाइन पर कई विद्यार्थियों को एक साथ शिक्षा देते हैं। हर कक्षा 25 मिनट तक चलती है, और हर कक्षा में लगभग 7 से 10 विद्यार्थी शामिल होते हैं । ऑनलाइन कोर्स की फीस ऑफ़लाइन कोर्स से ज्यादा सस्ती होती है। अब ऑनलाइन व ऑफ़लाइन के विद्यार्थियों का अनुपात 3:1 है। ध्यानाकर्षक बात यह है कि नयी तकनीक के समर्थन से ऑनलाइन कोर्स में अध्यापक व विद्यार्थियों के बीच तथा बच्चों के बीच संवाद हो सकता है। शन येनचेन ने कहा,हमने एक ऑनलाइन मंच से बहुत ऑफ़लाइन कोर्स को ऑनलाइन पर डाला। साथ ही अध्यापक व विद्यार्थियों के बीच, तथा विद्यार्थियों के बीच संवाद भी किया जा सकता है। इस मंच पर अध्यापक व बच्चों के बीच संवाद के लिये बहुत साधन हैं। उदाहरण के लिये अगर इस कोर्स में दस विद्यार्थी शामिल हुए हैं, तो जवाब देने के लिये अध्यापक पासा रोल कर विद्यार्थी चुन सकते हैं। अगर अध्यापक एक काम करने का आदेश देते हैं, और बच्चों को एक मिनट में इसे पूरा करने की ज़रूरत है। तो स्क्रीन पर एक घड़ी दिखती है। वर्तमान मंच में अध्यापक नियंत्रण से जवाब देने वाले विद्यार्थी की वीडियो छवि देख सकते हैं, और अन्य विद्यार्थी भी यह देख सकते हैं। अगर इस विद्यार्थी का जवाब गलत है, तो अन्य विद्यार्थी इसे ठीक कर सकते हैं। अगर जवाब सही है, तो अन्य विद्यार्थी इस की प्रशंसा भी कर सकते हैं। पहले के ऑनलाइन कोर्स में केवल अध्यापक शिक्षा देते थे, और अध्यापकों व विद्यार्थियों के बीच कोई सीधा संवाद नहीं था। अब यह स्थिति ज्यादा बेहतर हो चुकी है। अध्यापक व विद्यार्थी दोनों पक्ष इस बारे में संतुष्ट हैं। विज्ञान व तकनीक का विकास बहुत तेज हो चुका है। हमें ठीक समय पर अपनी शिक्षा में उच्च तकनीक का प्रयोग करना चाहिये।

बच्चों के परिजनों के मुताबिक, ऑनलाइन शिक्षा समय व स्थान की लागत को बचा सकती है। खास तौर पर तीसरे या चौथे स्तरीय शहरों में रहने वाले बच्चों के प्रति उन्हें घर से निकलने की ज़रूरत नहीं है, पर बड़े शहरों की शिक्षा संसाधन मिल सकते हैं। उन की मांग आसानी से पूरी हो सकती है। गौरतलब है कि इस संस्था की ऑनलाइन बाल स्पेनिश शिक्षा लेने वाले विद्यार्थियों में चीनी मूल के अमेरिकन भी शामिल हुए हैं। क्योंकि बच्चे के परिजनों को आशा है कि उन के बच्चे चीनी संस्कृति का आधार प्राप्त करने के साथ विदेशी भाषा का इस्तेमाल करने की क्षमता भी उन्नत कर सकेंगे। इस की चर्चा में शन येनचेन ने कहा,हमारे विद्यार्थियों में एक चार साल का लड़का है। उन की एक दो साल की छोटी बहन भी है। हर बार जब यह लड़का स्पेनिश शिक्षा लेता है, तो उन की मां भी छोटी बहन लेकर एक साथ यह कोर्स सुनती हैं। तीन लोग एक साथ स्पेनिश सीखते हैं। उसकी मां का जन्म अमेरिका में हुआ। अपने बच्चों को जन्म देने के बाद वे एक साथ चीन में वापस लौटे। उन्हें आशा है कि बच्चे चीन की परंपरागत संस्कृति से संपर्क रख सकेंगे। जब बच्चे स्कूल में जाने की आयु में होंगे, तो वे फिर अमेरिका में वापस लौटेंगे।

उन के अलावा इस स्पेनिश प्रशिक्षण संस्था ने ऑनलाइन बाल पिक्चर बुक रीडिंग कोर्स की स्थापना की है। जिस का उद्देश्य विद्यार्थियों को भाषा सीखने में मुश्किलों को दूर करने की मदद देना है। ताकि वे सुचारू ढंग से अपनी भाषा के स्तर को उन्नत कर सकें। शन येनचेन ने कहा,भाषा सीखने के दौरान अगर रीडिंग नहीं है, तो प्रगति बहुत धीमी होगी। इसलिये हमने ऑनलाइन पर बाल पिक्चर बुक रीडिंग कोर्स की स्थापना की। बच्चों के प्रति पिक्चर बुक का ज्यादा आकर्षण होता है। अब हम उन्हें पाठ व चित्र को जोड़ने को सीखाने की कोशिश कर रहे हैं। अध्यापक बच्चों को लेकर पाठ पढ़ाते हैं, वे चित्र देखने के साथ पाठ भी पढ़ते हैं। जिससे बच्चे धीरे धीरे पाठ व चित्र को जोड़ सकते हैं। भाषा सीखने में यह एक उपयोगी तरीका है। भविष्य में हम स्वचालित रीडिंग प्रणाली बनाएंगे। बच्चे आईपेड पर रीडिंग कर सकेंगे। उदाहरण के लिये हम एक कहानी में शामिल नये शब्द व भाषा की जानकारियां बच्चों को बताते हैं, साथ ही इस कहानी के बारे में कुछ उचित सवाल भी बच्चों से पूछते हैं। उन के अलावा मां-बाप बच्चों की पढ़ाई की प्रगति को भी देख सकते हैं, ताकि वे अच्छी तरह से स्पेनिश भाषा पर अपने बच्चे का स्तर समझ सकें।

भविष्य की योजना की चर्चा में शन येनचेन ने कहा कि होलोग्राफिक प्रक्षेपण तकनीक की परिपक्वता व प्रसार-प्रचार के बाद हम ऑनलाइन कोर्स के संवाद को और उन्नत करेंगे। ताकि ऑनलाइन कोर्स व ऑफ़लाइन कोर्स के अंतर को बड़े हद तक कम किया जा सके।

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories