चीन व पोलैंड के बीच शिक्षा आदान-प्रदान गहन हो रहा है

2018-10-31 15:51:12
Comment
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn
1/8

दोस्तों, हाल ही में चीन के छंगतू शहर के छिंगपाईच्यांग विदेशी भाषा प्राइमरी स्कूल ने पोलैंड के लोत्ज़ में लोत्ज़ प्रथम प्राइमरी स्कूल के साथ मैत्रीपूर्ण स्कूल के सहयोग समझौते पर हस्ताक्षर किये। दोनों पक्ष भाषा की शिक्षा, पाठ्यक्रम के सहयोग, अध्यापकों व विद्यार्थियों की आपसी यात्रा आदि क्षेत्रों में और घनिष्ठ सहयोग करेंगे। साथ ही मैत्रीपूर्ण स्कूल संबंधों की स्थापना भी की गयी।

छंगतू का छिंगपाईच्यांग छंगतू-यूरोप फास्ट रेलवे का शुरूआत स्टेशन ही है। और इस रेलवे का अंतिम स्टेशन तो पोलैंड का लोत्ज़ है। वर्ष 2013 में इस रेलवे का प्रयोग किये जाने के बाद हर साल राउंड ट्रिप ट्रेनों की कुल संख्या 1000 तक पहुंच गयी। गौरतलब है कि पोलैंड एक पट्टी एक मार्ग के रास्ते पर एक महत्वपूर्ण स्टेशन है। चीन व पोलैंड के बीच आर्थिक व व्यापारिक आदान-प्रदान लगातार बढ़ रहा है। इस के साथ दोनों के सांस्कृतिक आदान-प्रदान व शिक्षा सहयोग भी गहन हो रहे हैं। वर्तमान में छिंगपाईच्यांग विदेशी भाषा प्राइमरी स्कूल ने चीन व पोलैंड की संस्कृति, शिष्टाचार व भाषा आदि विशेषता के आधार पर चीन-पोलैंड अंतर्राष्ट्रीय समझ शिक्षा की स्थापना की। शिक्षा में पोलिश भाषा, चीनी परंपरागत संस्कृति, पोलैंड की विशेष संस्कृति, चीन व पोलैंड के बीच संस्कृति की भिन्नता का अध्ययन, छिंगपाईच्यांग की स्थानीय संस्कृति, और एक पट्टी एक मार्ग की पृष्ठभूमि में छंगतू-यूरोप फास्ट रेलवे व प्राचीन रेशम मार्ग के बीच सांस्कृतिक समझ आदि विषय शामिल हुए हैं। छिंगपाईच्यांग विदेशी भाषा प्राइमरी स्कूल के कुलपति ल्वो बिन ने कहा कि यह विद्यार्थियों की अंतर्राष्ट्रीय दृष्टि को बढ़ाने और चीन-पोलैंड सांस्कृतिक आदान-प्रदान को मजबूत करने के लिये बहुत महत्वपूर्ण है। उन्होंने कहा,हमने इस तरह की कक्षा की स्थापना की, जिसका लक्ष्य चीन व पोलैंड की श्रेष्ठ परंपरागत संस्कृतियों की तुलना करना है। ताकि विद्यार्थी अपनी संस्कृति को समझने के साथ पोलैंड की संस्कृति को भी समझ सकें। कक्षा में वे संस्कृतियों के बीच भिन्नता ढूंढ़ते हैं, और इस सवाल का अध्ययन कर सकते हैं कि भिन्नता क्यों होती है?बच्चे अपने आप इस से जुड़ी जानकारियां प्राप्त करके विचार करते हैं। धीरे धीरे वे ऐसे विद्यार्थी बन सकेंगे, जो अंतर्राष्ट्रीय दृष्टि से मामलों का समाधान कर सकेंगे।

लोत्ज़ प्रथम प्राइमरी स्कूल की कुलपति मागदालेना प्रोकार्यन डैनार्स्का दोनों देशों की भाषा व संस्कृति के आदान-प्रदान व सहयोग पर बड़ी प्रतीक्षा में हैं। उन्होंने कहा कि वर्ष 2015 में छंतू व लोत्ज़ ने मैत्रीपूर्ण शहर के समझौते पर हस्ताक्षर किये। शुरू में केवल व्यापारिक आदान-प्रदान किया जाता था। अब शिक्षा समेत अन्य पक्षों में भी आदान-प्रदान तेजी से विकसित हो रहा है। चीन और चीनी संस्कृति के प्रति लोत्ज़ प्रथम प्राइमरी स्कूल के विद्यार्थियों का बड़ा शौक है।

 “आलू और मांस, मेरे साथ पढ़ें, आलू और मांस।”

उसी दिन छिंगपाईच्यांग विदेशी भाषा प्राइमरी स्कूल के अंतर्राष्ट्रीय आदान-प्रदान विभाग के अध्यक्ष ली येन ने लोत्ज़ प्रथम प्राइमरी स्कूल के विद्यार्थियों को चीनी भाषा सिखायी। शिक्षा बच्चों से शुरू होनी चाहिये, यह बात बिल्कुल सही है। लोत्ज़ के विद्यार्थियों ने अभी अभी चीनी भाषा संपर्क रखकर अपनी भाषा सीखने की आश्चर्यजनक क्षमता दिखायी। वे न सिर्फ़ अध्यापक के नेतृत्व में सही उच्चारण में चीनी भाषा बोल सकते हैं, बल्कि ठीक तरीके से चीनी अक्षर भी लिख सकते हैं। इस की चर्चा में लोत्ज़ प्रथम प्राइमरी स्कूल की कुलपति मागदालेना ने कहा,यह देखा जा सकता है कि चीनी भाषा की पहली कक्षा में विद्यार्थियों ने चीनी भाषा व चीनी संस्कृति पर बड़ा शौक दिखाया। हमने हर हफ्ते में एक घंटे की चीनी भाषा कक्षा देने की योजना बनायी है। साथ ही हम चीनी स्कूल के साथ सहयोग करके ओपन क्लास खोलेंगे। हम इंटरनेट द्वारा कोर्स का आदान-प्रदान कर सकेंगे।

उसी दिन स्कूलों के बीच सहयोग समझौते पर हस्ताक्षर करने की रस्म में भाग लेने वाले लोत्ज़ शहर के शिक्षा ब्यूरो के प्रमुख जारोस्लाव पाविलिकी ने कहा कि लोत्ज़ व छंतू वर्ष 2015 में मैत्रीपूर्ण शहर बने। इस के साथ दोनों पक्षों के बीच शिक्षा सहयोग की मांग दिन-ब-दिन मजबूत हो रही है। उन्होंने बहुत खुशी से यह देखा है कि शिक्षा क्षेत्र में चीन व पोलैंड के बीच वास्तविक प्रगति हासिल हुई है। उन के अनुसार,शिक्षा में सहयोग हमारे लिये बहुत महत्वपूर्ण है। आशा है इस सहयोग के माध्यम से पोलैंड व चीन के विद्यार्थियों के बीच भाषा की पढ़ाई और सांस्कृतिक आदान-प्रदान से जुड़ी गतिविधियां ज्यादा से ज्यादा समृद्ध बनेंगी। साथ ही उम्मीद है कि दोनों पक्षों के विद्यार्थियों व अध्यापकों के बीच सहयोग और ज्यादा सुचारू होगा।

हस्ताक्षर रस्म के बाद लोत्ज़ प्रथम प्राइमरी स्कूल और छिंगपाईच्यांग विदेशी भाषा प्राइमरी स्कूल के विद्यार्थियों ने दोनों पक्षों के सैकड़ों विद्यार्थियों व अध्यापकों के लिये रंगारंग कलात्मक कार्यक्रम प्रस्तुत किये। उन के अलावा चीन व पोलैंड के विद्यार्थियों ने एक साथ पोलैंड का परंपरागत सामूहिक नृत्य भी नाचे। अंत में दोनों देशों के बच्चों ने गले लगाकर विदा ली।

शेयर