पाक स्कूल में चीनी संस्कृति से जुड़ी गतिविधि आयोजित

2018-10-19 15:34:09
Comment
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn
1/6

दोस्तों, चाइना मीडिया ग्रूप के तले सीआरआई रेडियो कन्फ्यूशियस कक्षा ने 29 सितंबर को पाकिस्तान के पेशावर स्थित मिल्लेनियम रूट्स स्कूल में चीनी संस्कृति अनुभव गतिविधियों का आयोजन किया। चीनी परंपरागत संस्कृति को स्थानीय बच्चों का हार्दिक स्वागत मिला।

29 सितंबर को पेशावर स्थित पाक मिल्लेनियम रूट्स स्कूल में स्थानीय मिडिल व प्राइमरी स्कूलों के छात्रों ने चीनी गीत संगीत और परंपरागत नृत्य का प्रदर्शन किया। हालांकि चाइना मीडिया ग्रुप के सीआरआई रेडियो कन्फ्यूशियस कक्षा ने केवल दो साल इस स्कूल में चीनी शिक्षा दी। और यहां के बहुत बच्चे अभी अभी चीनी भाषा से संपर्क रखते हैं। पर यह उन के चीनी भाषा सीखने का जोश कम नहीं कर सकता। 13 वर्षीय माहनूर  उन में से एक हैं। उन्होंने कहा,जब मैं स्कूल के दूसरे साल में पढ़ती थी, तो मैं चीनी भाषा सीखना चाहती थी। पर उसी समय पेशावर में चीनी भाषा सिखाने वाले कोई अध्यापक नहीं मिल पाते थे। अब चीनी भाषा सीखने का मौका आखिर आ चुका है। मुझे बहुत खुशी हुई। मुझे लगता है कि चीनी भाषा विश्व में एक अद्वितीय भाषा है। जो अन्य सभी भाषाओं की तरह नहीं है। वह स्ट्रोक्स से अक्षर बना सकती है। जो बहुत दिलचस्प लगता है।

चीनी चाय कला, पेपर कटिंग और पारंपरिक संगीत वाद्ययंत्र आदि चीनी संस्कृति को महसूस करने की गतिविधि में छात्रों को रुचि आयी। हर गतिविधि के स्थल पर विद्यार्थियों की भीड़ भाड़ होती थी। बच्चों के उत्साह ने गतिविधि में भाग लेने आए कन्फ्यूशियस कक्षा के चीनी सहायक प्रबंधक वांग सू चींग पर गहरी छाप छोड़ी। उन्होंने कहा,यहां के छात्र हमारी गतिविधियों में भाग लेने में बहुत उत्साहित हैं। उन्हें चीनी पुरातन वाद्ययंत्र कूचेन का बड़ा शौक है। मैंने कूचेन से संगीत बजाया, फिर उन्होंने इसे बजाने का आग्रह भी किया। हर कोई कूचेन बजाना चाहता था।

चाइना मीडिया ग्रुप के सीआरआई रेडियो कन्फ्यूशियस कक्षा के प्रमुख छेन श्यांग ने परिचय देते हुए कहा कि कन्फ्यूशियस कक्षा ने पेशावर में तीन शिक्षण केंद्र की स्थापना की है। स्थानीय अध्यापक चीनी भाषा सीखाते हैं। कंफ्यूशियस कक्षा अध्यापकों को प्रशिक्षण देती है, और शिक्षा का प्रबंध करती है। इस बार पेशावर में पहली बार चीनी संस्कृति को महसूस करने की गतिविधि आयोजित की गयी, क्योंकि पेशावर का स्थान बहुत महत्वपूर्ण है, और चीनी भाषा सीखने में स्थानीय लोगों की इच्छा बहुत तीव्र है। उन के अनुसार,पेशावर का हजारों वर्षों का इतिहास है। वह खैबर पख्तूनख्वा प्रांत की राजधानी है। साथ ही वह चीन-पाक आर्थिक कॉरिडोर में एक महत्वपूर्ण कस्बा भी है। सौभाग्य है कि इस वर्ष कंफ्यूशियस कॉलेज दिवस की पांचवीं वर्षगांठ भी है। हमें आशा है कि इस अवसर पर हम राष्ट्रीय चीनी भाषा कार्यालय के अध्यापकों को लेकर पेशावर के स्कूल में आकर स्थानीय जनता व विद्यार्थियों के समक्ष चीनी संस्कृति का प्रदर्शन कर सकेंगे। वे अध्यापक पहली बार पाकिस्तान में काम कर रहे हैं। इस गतिविधि से उन्होंने अपनी आंखों से चीनी लोगों के प्रति स्थानीय लोगों का उत्साह देखा। साथ ही उन्होंने स्थानीय लोगों में चीनी लोगों का उत्साह भी दिखाया।

वर्तमान में कन्फ्यूशियस कक्षा और पाक शिक्षा समूह मिलेनियम रूट्स स्कूल के बीच सहयोग मुद्दे से पाक प्राइमरी व मीडिल स्कूलों में कुल 8500 छात्र चीनी भाषा सीख रहे हैं। उन में इस्लामाबाद, कराची और लाहौर के शिक्षा केंद्रों में कुल 14 चीनी अध्यापक सिखाते हैं और दूसरे क्षेत्रों में स्थानीय अध्यापक चीनी भाषा सिखाते हैं। कंफ्यूशियस कक्षा की पाक प्रमुख मोना कनवाल ने संवाददाता से कहा कि क्योंकि वर्तमान में ज्यादा से ज्यादा पाकिस्तानी चीनी भाषा सीख रहे हैं, इसलिये हमने स्थानीय अध्यापकों की संख्या को बढ़ाया। उन्होंने कहा,बहुत पाकिस्तानी लोग चीनी भाषा सीख रहे हैं। उन की चीनी भाषा का स्तर दिन-ब-दिन बढ़ रहा है। इसलिये उन्हें अंतर्राष्ट्रीय स्कूलों में काम करने का मौका मिल सकता है। बहुत से पाकिस्तानी लोगों को यह पता लगा है कि चीनी भाषा सीखना अच्छी नौकरी मिलने में मददगार है। तो वे और मेहनत से चीनी भाषा सीखते हैं। यह देखा जा सकता है कि अब ज्यादा से ज्यादा अध्यापक हमारे स्कूल में आए हैं। वे चीनी भाषा सिखाना चाहते हैं। क्योंकि हम सीआरआई रेडियो कंफ्यूशियस कक्षा के साथ सहयोग करते हैं, इसलिये हमारे पास चीन से आए चीनी अध्यापक हैं। लेकिन कुछ शहरों में सुरक्षा की स्थिति अच्छी नहीं है, तो वहां चीनी अध्यापकों की तैनाती नहीं की जा सकती। तो हम स्थानीय अध्यापकों को चुनकर चीनी भाषा सिखाते हैं।

चीन-पाक आर्थिक कॉरिडोर के निर्माण से हाल के कई वर्षों में पाकिस्तान में चीनी भाषा सीखने का उत्साह दिन-ब-दिन बढ़ रहा है। मिलेनियम रूट्स स्कूल के अलावा पाकिस्तान में कई उच्च स्तरीय शिक्षालयों में भी चीनी भाषा की क्लास खोली गयी है। 

शेयर