माइक्रो फिल्म द्वारा सुन्दर बचपन का रिकॉर्ड

2018-06-01 08:47:54
Comment
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn
1/9

दोस्तो, अंतर्राष्ट्रीय बाल दिवस आने वाला है। हाल ही में चीन के विभिन्न क्षेत्रों में स्थित स्कूलों में रंगारंग कार्यक्रम आयोजित करके बाल दिवस की खुशी मनायी जा रही है। आज हम आप को लेकर पेइचिंग शहर के हाईत्येन डिस्ट्रेक्ट की पाँच एक प्राइमरी स्कूल में जाकर एक साथ एक फ़िल्म कार्निवल का भव्य समारोह का मज़ा लेंगे।

31 मई की सुबह पेइचिंग शहर के हाईत्येन डिस्ट्रिक्ट की पाँच एक प्राइमरी स्कूल के घास के मैदान में सपने के पीछे दौड़ें नामक माइक्रो फिल्म कार्निवल का पुरस्कार वितरण समारोह धूमधाम से आयोजित हो रहा है। इस गतिविधि का मुद्दा आसपास के सुन्दर जीवन का रिकॉर्ड है। इस प्राइमरी स्कूल के चार हजार से अधिक विद्यार्थियों व अध्यापकों ने इसमें भाग लिया। विद्यार्थियों से इकट्ठे हुए माइक्रो फिल्मों से श्रेष्ठ को चुनकर पुरस्कार दिया जाएगा। आरंभिक, सेमीफाइनल, फाइनल के चुनाव के बाद अंत में सर्वश्रेष्ठ पटकथा पुरस्कार, सर्वश्रेष्ठ फोटोग्राफी पुरस्कार, सर्वश्रेष्ठ संगीत पुरस्कार, सर्वश्रेष्ठ क्रिएटिव पुरस्कार, सर्वश्रेष्ठ वृत्तचित्र पुरस्कार, सर्वश्रेष्ठ प्रोमो पुरस्कार, सर्वश्रेष्ठ फ़ीचर फिल्म पुरस्कार, सर्वश्रेष्ठ निर्देशक पुरस्कार, सर्वश्रेष्ठ अभिनेता और अभिनेत्री पुरस्कार समेत दस बड़े पुरस्कार पैदा हुए।

चुनाव की प्रतिक्रिया की चर्चा में अध्यापिका वांग शीई ने परिचय देते हुए कहा,सबसे पहले स्कूल ने हमें यह सूचना दी कि माइक्रो फिल्म का चुनाव आयोजित होगा। फिर हमने इस सूचना सभी विद्यार्थियों व उनके माता-पिता को बताया। बच्चे अपनी इच्छा से इसमें भाग ले सकते हैं। इसके बाद हमारी कक्षा के सभी बच्चों ने एक साथ विद्यार्थियों से मिली माइक्रो फ़िल्मों को देखा, और श्रेष्ठ फिल्मों का चुनाव लिया। फिर मतदान के तरीके से हमने तीन सबसे अच्छी फिल्में चुनकर स्कूल को दिया।

हाल ही में माइक्रो फिल्म अपनी विशेष सुन्दरता से ज्यादा से ज्यादा लोगों को आकर्षित कर रही है, और आधुनिक समाज में लोगों के जीवन में एक सुन्दर दृश्य भी बन गया है। पाँच एक प्राइमरी स्कूल ने बच्चों के विश्वाल शौक व विशेषता को बढ़ाने के लिये माइक्रो फिल्म कक्षा की स्थापना की है। आशा है कि विद्यार्थी माइक्रो फिल्म को बनाने, सीखने के दौरान अपनी क्षमता, प्रस्तुति और कला अनुभव को उन्नत कर सकेंगे।

युवाओं के स्वास्थ्य विकास पर माइक्रो फिल्म की भूमिका की चर्चा में अमेरिका के मियामी गोल्ड लाइटहाउस फिल्म दिवस के अधीन माइक्रो फिल्म इकाई के अध्यक्ष चेन यून ने अपने विशेष विचार प्रकट किया। उन्होंने कहा,आज मुझे बहुत खुशी हुई कि मैं बच्चों के साथ माइक्रो फिल्म बनाने पर विचार कर सकता हूं। माइक्रो फिल्म कई सेकेंड से कई मिनट तक एक छोटी फिल्म है। जो आधुनिक लोगों की मांग को पूरा कर सकती है। साथ ही माइक्रो फिल्म बनाने में कम खर्च के कारण सभी लोग इसे बना सकते हैं। खास तौर पर युवकों के प्रति वह युवकों की कला क्षमता को तेजी से उन्नत कर सकती है। माइक्रो फिल्म से हम अपने विचार, प्रस्तुति को एक फिल्म बना सकते हैं, फिर विशाल नेटिज़नों को दिखा सकते हैं। बाद में नेटिज़नों से मिली प्रतिक्रिया से हम अपनी फिल्म को और बेहतर बना सकते हैं। हम कह सकते हैं कि माइक्रो फिल्म बनाने से उन विद्यार्थियों को खूब लाभ मिलेगा, जो भविष्य में फिल्म व्यवसाय में शामिल करना चाहते हैं।

माइक्रो फिल्म की कक्षा को न सिर्फ़ विशेषज्ञों का स्वीकार मिला, बल्कि बच्चों ने भी इसे बहुत पसंद किया है। इस बार के फिल्म कार्निवल में सर्वश्रेष्ठ निदेशक पुरस्कार की विजेता वांग हाईनिंग ने अच्छी तरह से महसूस किया। उनकी फिल्म के बीच कहानी की चर्चा में उन्होंने कहा,मैं और मेरी फिल्म की कहानी बचपन से शुरू हुई। उसी समय मेरे मां-बाप बहुत व्यस्त थे, वे अकसर बाहर काम करते थे। धीरे धीरे मेरा चरित्र बहुत अंतर्मुखी बन गया। मुझे अन्य लोगों से संपर्क रखना पसंद नहीं है। स्कूल में जाने के बाद मैं भी ऐसी हूं। लेकिन जब मैं माइक्रो फिल्म की कक्षा में शामिल हुई, तो उसी समय से ही मैंने बदलना शुरू किया। हमारे अध्यापक वांग ने हमें लेकर फिल्म की दिलचस्प दुनिया में प्रवेश किया। हम एक साथ फिल्म कला की चर्चा करते हैं, शूटिंग की तकनीक सीखते हैं, और फिल्म बनाने का अभ्यास करते हैं। धीरे धीरे मैं मन से इस बड़े परिवार में शामिल हुई हूं। अब मैं अकसर अन्य लोगों से आदान-प्रदान करती हूं। अध्यापकों और विद्यार्थियों के प्रोत्साहन, समर्थन से मैंने तकनीक, स्वीकार प्राप्त करने के साथ आत्मविश्वास भी बढ़ाया है।

न सिर्फ बच्चों ने इस फिल्म कार्निवल से खूब मज़ा किया, बल्कि उनके मां-बाप ने भी बहुत खुशी के साथ इस भव्य समारोह में भाग लिया। बहुत मां-बाप, उनके बच्चों ने कॉस्प्ले के कपड़े पहनकर कार्टून फिल्म की भूमिका अदा की। सुश्री वांग तो उन में से एक हैं। उन्होंने बहुत खुशी के साथ संवाददाता से अपने कपड़े का परिचय दिया। उन्होंने कहा,मेरा कपड़ा तो सुपर मैरियो की पोशाक है, यह टोपी भी है। चश्मा तो मेरा है। यह कपड़ा व दस्ताने ऑनलाइन पर खरीदे गये। मुझे यह गतिविधि बहुत दिलचस्प लगी। मैंने अपने बच्चे के साथ इस का खूब मज़ा लिया। बहुत अच्छा और दिलचस्प है। मुझे बहुत पसंद है।

हमें विश्वास है कि माइक्रो फिल्म की कक्षा के निरंतर अध्ययन के साथ वह ज़रूर बच्चों की क्षमता को उन्नत करने के लिये एक श्रेष्ठ कक्षा बन जाएगी। आशा है ज्यादा से ज्यादा बच्चे माइक्रो फिल्म द्वारा अपने बचपन का रिकोर्ड कर सकेंगे।

शेयर