पेइचिंग में स्कूली नाटक शिक्षा संघ की स्थापना

2018-05-03 16:15:20
Comment
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

पेइचिंग में स्कूली नाटक शिक्षा संघ की स्थापना

पेइचिंग जन कला रंगमंच व पेइचिंग शिक्षा कमेटी ने हाल ही में रणनीतिक सहयोग समझौते पर हस्ताक्षर किये। साथ ही पेइचिंग स्कूली नाटक शिक्षा संघ की स्थापना भी की गयी। इस संघ का लक्ष्य पेइचिंग के विश्वविद्यालयों, मिडिल स्कूलों व प्राइमरी स्कूलों में नाटक से जुड़ी संस्कृति व शिक्षा का प्रसार-प्रचार करना है। बताया जाता है कि संघ के पहले खेप वाले सदस्यों में पेइचिंग के विभिन्न क्षेत्रों व काऊंटियों में स्थित 27 विश्वविद्यालय, मिडिल स्कूल व प्राइमरी स्कूल शामिल हुए हैं।

नाटक में शिक्षा का समृद्ध संसाधन होता है। पर नाटक शिक्षा कैसे स्कूलों में प्रवेश कर सकेगी?और नाटक से बच्चों को शिक्षा देने की भूमिका कैसे अच्छी तरह से निभायी जा सकेगी?यह शिक्षा के सामने मौजूद मौका व चुनौती ही है। पेइचिंग शिक्षा कमेटी ने हाल ही में पेइचिंग जन कला रंगमंच के साथ रणनीतिक सहयोग समझौते पर हस्ताक्षर किये हैं। साथ ही पेइचिंग स्कूली नाटक शिक्षा संघ की स्थापना भी की गयी। ताकि शिक्षा में कला संसाधन की भूमिका अच्छी तरह से की जा सके, और युवाओं की व्यापक गुणवत्ता और चीनी राष्ट्र की परंपरागत संस्कृति के विकास को मजबूत किया जा सके। पेइचिंग शिक्षा कमेटी के अध्यक्ष ल्यू यूह्वेई ने कहा कि स्कूलों को कलाकारों के साथ इसकी चर्चा करनी चाहिये कि नाटक व शिक्षा कैसे अच्छी तरह से जुड़ सकते हैं?और बच्चों को कौन सी शिक्षा दी जा सकती है?उन्होंने कहा,पहले, हमें अपने क्षेत्र व अपनी स्कूल की वास्तविकता के आधार पर नाटक के ज्यादा सुयोग्य व्यक्तियों को ढूंढ़कर प्रशिक्षण देना चाहिये, ताकि नाटक की शिक्षा व प्रबंध टीम और शिक्षक शक्ति दिन-ब-दिन मजबूत हो सके। साथ ही हमें बच्चों की वास्तविक स्थिति के अनुसार पाठ्यक्रम तैयार करना, नये नाटक बनाना, और नाटक शिक्षा को निरंतर रूप से विकसित करना चाहिये।

वास्तव में गत् 80 या 90 के दशक से पेइचिंग जन कला रंगमंच के पुराने कलाकार अकसर विभिन्न मिडिल व प्राइमरी स्कूलों में जाकर नाटक संस्कृति का प्रसार-प्रचार व संबंधित गतिविधियों का आयोजन करते थे। रंगमंच के प्रसिद्ध अभिनेता फ़ंग य्वानचेन तो नियमित रूप से स्कूल में जाकर विद्यार्थियों को शिक्षा देते हैं। वे नाटक शिक्षा द्वारा नाटक के प्रति बच्चों का शौक पैदा करने की कोशिश कर रहे हैं। उन के अनुसार,शायद मिडिल स्कूल व प्राइमरी स्कूल के बच्चों, यहाँ तक कि और बड़े विद्यार्थियों के प्रति सबसे बड़ा मामला उनका शर्मीला होना है। पर अगर हम उन के स्वभाव का विकास सही तरीके से कर सकेंगे, तो मेरे ख्याल से वयस्कों की अपेक्षा उन्हें शिक्षा देना ज्यादा आसान होगा। उदाहरण के लिये मैंने एक मिडिल स्कूल के लिये चीन के प्रसिद्ध नाटक आंधी का प्रशिक्षण दिया। हालांकि आंधी एक बहुत जटिल व गहन नाटक है, लेकिन अगर बच्चे अपने स्वभाव मंच पर दिखा सकते हैं, तो वे बहुत स्वाभाविक रूप से प्रदर्शन कर सकते हैं, क्योंकि उन पर कोई बोझ नहीं होता है। इसलिये मुझे लगता है कि बच्चों की प्रदर्शन प्रतिभा का विकास करना ज्यादा आसान होगा।

पेइचिंग जन कला रंगमंच ने इस से पहले पेइचिंग की नंबर 166 मिडिल स्कूल में अपना नाटक शिक्षा व अभ्यास आधार स्थापित किया है। इस स्कूल में पहले साल पढ़ने वाले विद्यार्थी तू मिंगछोंग तो नाटक शिक्षा के लाभार्थियों में से एक हैं। उन्होंने संवाददाता से कहा कि नाटक सीखने व अभ्यास करने से साधारण जीवन में उन का आत्मविश्वास बढ़ चुका है। साथ ही संस्कृति के प्रति उन की समझ भी गहन हो गयी है। उन्होंने कहा,नाटक का अभ्यास करने के लिये हम हर हफ्ते के मंगलवार को गतिविधि का आयोजन करते हैं। उस समय पेइचिंग जन कला रंगमंच के अध्यापक हमें नाटक के विषय व तकनीक को सिखाते हैं। बाद में कभी कभार सप्ताहांत में हम अपने पसंदीदा नाटकों का अभ्यास करते हैं। कुछ समय पहले हमारे स्कूल के नाटक मंडल ने लाल चैंबर का सपना और एक मिडसमर नाइट का सपना का अभ्यास किया। जिससे लाल चैंबर का सपना नामक नाटक में हमने इस की मुख्य भूमिकाएं अच्छी तरह से समझी। हाल ही में हम चीन के प्रसिद्ध स्वर्गीय लेखक लाओ शे द्वारा लिखी पेइफिंग की याद नामक लेख का अभ्यास कर रहे हैं।

बताते हैं कि पेइचिंग स्कूली नाटक शिक्षा संघ के पहली खेप वाले सदस्यों में पेइचिंग के विभिन्न क्षेत्रों व काउंटियों में स्थित 27 विश्वविद्यालय, मिडिल स्कूल व प्राइमरी स्कूल शामिल हुए हैं। संघ में शामिल होने के बाद सदस्य स्कूल नाटक शिक्षा को सामान्य कला शिक्षा में शामिल करेंगे, और व्यावसायिक मार्गदर्शन से नाटक शिक्षा को गुणवत्ता शिक्षा का एक भाग बनाएंगे। पेइचिंग जन कला रंगमंच के प्रधान रेन मिंग ने कहा कि पेइचिंग शिक्षा कमेटी के साथ सहयोग से जन कला रंगमंच स्कूल में नाटक का प्रवेश कार्य और अच्छी तरह से करेगा, ताकि ज्यादा से ज्यादा बच्चों को इस से लाभ मिल सकें। उन्होंने कहा, इस बार पेइचिंग स्कूली नाटक शिक्षा संघ की स्थापना के बाद हम विश्वविद्यालय, मिडिल स्कूल व प्राइमरी स्कूल के बीच सहयोग करेंगे। पहले, पेइचिंग जन कला रंगमंच के नाटक स्कूलों में प्रवेश करेंगे। हम जल्द ही छिंगह्वा विश्वविद्यालय में प्रस्तुत करेंगे। दूसरे, हमारे रंगमंच के कलाकार व प्रतिभा स्कूलों में शिक्षा देंगे, और विद्यार्थियों को नाटक का अभ्यास करने में मदद देंगे। साथ ही हमारे रंगमंच के समृद्ध संसाधन होते हैं। उदाहरण के लिये राजधानी थिएटर, पेइचिंग जन कला रंगमंच का संग्रहालय, जूईन थिएटर इत्यादि। बच्चे उन स्थानों का दौरा कर सकते हैं। उन के अलावा वे रंगमंच के नेपथ्य में नाटक का अभ्यास देख सकते हैं, और रंगमंच के कार्यक्रम भी देख सकते हैं। अब हम पेइचिंग शिक्षा कमेटी के साथ सहयोग करते हैं, तो इस का अर्थ और महत्वपूर्ण होगा।

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories