शू मनथाओ व उन का शीतकालीन ओलंपिक सपना

2017-12-21 15:04:39
Comment
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

शू मनथाओ व उन का शीतकालीन ओलंपिक सपना

दोस्तो, 15 दिसंबर को साल 2022 पेइचिंग च्यांगच्याखो शीतकालीन ओलंपिक का चिन्ह शीतकालीन ओलंपिक सपना औपचारिक रूप से जारी किया गया। एक दिन के बाद यानी 16 दिसंबर को विश्व कप की फ्रीस्टाइल स्कीइंग एरियल प्रतियोगिता इस बार के शीतकालीन ओलंपिक के स्की स्थल च्यांगच्याखो छोंगली यूनतिंग स्की स्थल में उद्घाटित हुई। पहले दिन की व्यक्तिगत प्रतियोगिता की प्रतिस्पर्द्धा में चीनी खिलाड़ी च्या ज़ोंगयांग ने 127.88 के अंक से पुरुष प्रतियोगिता का फाइनल जीता। सोची शीतकालीन ओलंपिक की रनर अप, चीनी प्रसिद्ध महिला खिलाड़ी शू मनथाओ ने 71.55 अंकों के साथ बेलारूस की खिलाड़ी हान्ना हुस्कोवा से हारकर रजत पदक जीता। गौरतलब है कि वर्ष 2016 में शू मनथाओ के घुटने में गंभीर रूप से चोट लगी। जिस कारण से शीतकालीन ओलंपिक की चैंपियन बनने का सपना लंबे समय तक उन से बहुत दूर हो गया था। बहुत कठोर बहाल ट्रेनिंग के बाद उन्हें अगले साल फिंगछांग में आयोजित शीतकालीन ओलंपिक में भाग लेने का मौका मिला। लेकिन उनका सपना केवल फिंगछांग में नहीं है।

शू मनथाओ व उन का शीतकालीन ओलंपिक सपना

क्योंकि प्रतियोगिता के उस दिन हवा बहुत तेज़ थी। इसलिये शू मनथाओ ने अपनी प्रदर्शन की कठिनाई को कम किया। लेकिन फ़ाइनल की दूसरे कूद में उन्होंने लैंडिंग समय गलती की। अंत में स्थिरता न होने के चलते   विश्व कप के दूसरे स्थान पर रही। लेकिन शू मनथाओ के मुताबिक यह एक अच्छी शुरूआत है। क्योंकि इस प्रतियोगिता में मेरे रिजर्व एक्शन और लचीलापन का टेस्ट हुआ। उन्होंने कहा,गर्मी के दिनों में चल रही ट्रेनिंग में मैंने मुख्य तौर पर तीन वृत्त वाली एक्शन का प्रशिक्षण किया है। लेकिन आज के एक्शन का अभ्यास मैंने कम किया है। पर आज हवा बहुत तेज है। इसलिये यह मेरे लिए बड़ी चुनौती है।

सही कहें तो शू मनथाओ को स्थिरता चाहिये। क्योंकि फिंगछांग शीतकालीन ओलंपिक में केवल दो महीने का समय बाकी है। चीनी महिला टीम को कोई चोट नहीं लगनी चाहिए। ताकि सभी खिलाड़ी सही ढंग से शीतकालीन ओलंपिक में भाग ले सकें। पर एक साल पहले लगी गंभीर चोट  अब तक शू मनथाओ को प्रभावित कर रही है। उनके अनुसार,कभी कभी पैर में दर्द होता है। क्योंकि उस वक्त हड्डी टूट गयी थी। सर्जरी में नवचंद्रक का 60 प्रतिशत भाग काट दिया गया। प्रशिक्षण बहुत कठोर है। अगर स्की क्षेत्र की जमीन बहुत हार्ड है, और लैंडिंग के समय स्थिरता  से खड़ी नहीं हो सकती, तो पैर में बहुत दर्द होता है। इसलिये मेरे प्रशिक्षण के प्रति हमारी टीम की मांग यह है कि गुणवत्ता की सुनिश्चितता करने के साथ चोटों से भी बचना होगा।

इस बार की प्रतियोगिता पर शू मनथाओ बड़ा ध्यान देती हैं। उनके मां-बाप ने भी यहां आकर बाहर की सर्दी में लगातार अपनी बेटी की प्रतियोगिता देखी। शू मनथाओ ने कहा,पिछली बार उन्होंने टीवी में यह देखा कि मेरे बाएं पैर की हड्डी टूट गयी, और स्ट्रेचर से मुझे ले जाया गया। इस बार उन्होंने खास तौर पर यहां आकर मेरी प्रतियोगिता देखी। उन्होंने मेरा बड़ा समर्थन दिया है। चाहें सफल हो या नहीं, तो वे मुझे प्रोत्साहन देंगे। मेरे मां-बाप के आने से मुझे ज्यादा शक्ति मिली है।

शू मनथाओ व उन का शीतकालीन ओलंपिक सपना

अब शू मनथाओ का लक्ष्य लगातार शीतकालीन ओलंपिक का चैंपियन बनना है। शक्तिशाली चीनी फ्रीस्टाइल स्कीइंग एरियल टीम की प्रसिद्ध खिलाड़ी के रूप में उन्हें यह पता है कि अब प्रतिस्पर्द्धा की स्थिति बदल गयी है। ज्यादा से ज्यादा खिलाड़ियों ने अपने एक्शन का स्तर उन्नत किया है। ऑस्ट्रेलिया, बेलारूस, रूस की कई प्रसिद्ध महिला खिलाड़ी उनके लिए बड़ी चुनौती होंगी। वास्तव में चीनी टीम में पुरानी खिलाड़ी रिटायर होंगी, और नयी खिलाड़ी बहुत परिपक्व नहीं हैं। इसलिये सारी टीम की क्षमता थोड़ी कम है। इसकी चर्चा में शू मनथाओ ने कहा कि वे आत्म विश्वास करने के साथ प्रतिद्वंद्वी का सम्मान भी करती हैं। उन्होंने कहा,मेरी श्रेष्ठता यह है कि तीन वृत्त वाले एक्शन के अलावा मैं दो वृत्त वाले एक्शनों में सबसे मुश्किल एक्शन भी कर सकती हूं। उदाहरण के लिये कठिनाई की डिग्री 3.525 वाला एक्शन मैं दो बार कर सकती हूं। अमेरिकी खिलाड़ी अशलय काल्दवेल को केवल तीन वृत्त वाली एक्शन आता है। दो वृत्त वाले एक्शन में वे शक्तिशाली नहीं हैं। क्योंकि तीन वृत्त वाले एक्शन महिलाओं के प्रति बहुत मुश्किल है। यह एक्शन करने के लिये महिला खिलाड़ी को पुरुष जैसी शारीरिक गुणवत्ता चाहिये। इस बार उन्होंने विश्व चैंपियनशिप जीत ली। यह जानकर मुझे बहुत खुशी हुई। लेकिन मुझे लगता है कि इस बार उन की स्थिति अच्छी नहीं है। पर ऑस्ट्रेलिया की पूर्व शीतकालीन ओलंपिक चैंपियन लीदिया लास्सिला बहुत शक्तिशाली होंगी। हालांकि इस बार उन्होंने प्रतियोगिता में भाग नहीं लिया। पर मुझे लगता है कि वे ज्यादा मुश्किल एक्शन की तैयारी कर रही हैं।

27 वर्षीय शू मनथाओ एक आशावादी लड़की हैं। वर्ष 2018 के फिंगछांग ओलंपिक में वे तीसरी बार ओलंपिक चैंपियन प्राप्त करने की कोशिश करेंगी। पर उन्हें आशा है कि वे वर्ष 2022 के पेइचिंग शीतकालीन ओलंपिक में भाग ले सकेंगी। पेइचिंग शीतकालीन ओलंपिक की चिन्ह को देखते हुए उन्होंने कहा,मेरे पिता जी ने पेइचिंग शीतकालीन ओलंपिक का चिन्ह वीचेट से मुझे भेजा। चिन्ह का नाम है शीतकालीन ओलंपिक सपना। और मेरे नाम में एक अक्षर का मतलब भी सपना ही है। मुझे यह चिन्ह बहुत अच्छा लगा। इस बार मैंने इस सीज़न की पहली प्रतियोगिता में पदक जीता है। यह एक अच्छी शुरूआत है। मेरे पास सुधार करने की गुंजाइश है।

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories