मैं विकलांगों के दुःख व इच्छाएं समझती हूं:च्यांग हाएडी

2017-09-15 19:24:22
Comment
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

मैं विकलांगों के दुःख व इच्छाएं समझती हूं:च्यांग हाएडी

दोस्तो, अंतर्राष्ट्रीय पैरालंपिक्स कमेटी के सदस्यों की महासभा 5 से 9 सितंबर तक संयुक्त अरब अमीरात की राजधानी अबू धाबी में आयोजित हुई। महासभा का एक महत्वपूर्ण विषय अंतर्राष्ट्रीय पैरालंपिक्स कमेटी का आम चुनाव है। 6 सितंबर को अंतर्राष्ट्रीय पैरालंपिक्स कमेटी के अध्यक्ष के चार उम्मीदवारों ने क्रमशः चुनाव के लिये भाषण दिया। इसमें भाग लेने वाली चीनी विकलांग संघ की अध्यक्ष च्यांग हाएडी ने अंग्रेजी में 15 मिनट का भाषण दिया। जिसे सभा में उपस्थित बहुत प्रतिनिधियों का उच्च मूल्यांकन मिला।

चार उम्मीदवारों में च्यांग हाएडी ने सब से पहले भाषण दिया। 15 मिनट का अंग्रेजी में भाषण देने के बाद उन्हें व्यापक प्रतिनिधियों की जोश भरी वाहवाही मिली। अपने भाषण में उन्होंने प्रतिनिधियों से समर्थन देने की अपील की। भविष्य में इससे जाहिर होगा कि उनका चुनाव सही है। च्यांग हाएडी ने कहा कि,प्रिय दोस्तों, अंतर्राष्ट्रीय पैरालंपिक्स परिवार के बहनों व भाइयों, मुझ पर विश्वास कीजिये, मेरा समर्थन दीजिये। भविष्य में जाहिर होगा कि आप लोगों ने एक अच्छा फैसला किया।

चीन में च्यांग हाएडी कई पीढ़ियों के युवाओं की आध्यात्मिक आदर्श हैं। हालांकि उनका शरीर विकलांग है। लेकिन उनकी भावना बहुत मजबूत है। उनकी कहानी प्राइमरी स्कूल की पाठ्यपुस्तकों में शामिल की गयी है। बहुत लोग प्यार से उन्हें हाएडी दीदी कहते हैं। चुनाव भाषण देते समय उन्होंने अपना परिचय दिया कि वे एक उत्साहित व सुदृढ़ महिला हैं। साथ ही उनके पास संगठित करने व नेतृत्व करने की उल्लेखनीय क्षमता है। उन के अनुसार मैं एक उत्साहपूर्ण, स्नेहपूर्ण व मेहनती महिला हूं। मैं विकलांग परिवार के बंधुओं को प्यार करती हूं। चीन में कुल 8.5 करोड़ विकलांग लोग हैं। उनकी सेवा करने के दौरान मैंने खूब अनुभव प्राप्त किये हैं, साथ ही नेतृत्व करने की उल्लेखनीय क्षमता भी प्राप्त की। मुझ पर विश्वास कीजिये कि मैं अच्छी तरह से अंतर्राष्ट्रीय पैरालंपिक्स कमेटी का नेतृत्व कर सकूंगी।

इस बार अंतर्राष्ट्रीय पैरालंपिक्स कमेटी के अध्यक्ष चुनाव के लिये च्यांग हाएडी की घोषणा ऐसी है कि एक महिला विकलांग व्यक्ति के रूप में मैं विकलांगों की दुःख व इच्छा खूब समझती हूं। मैं चीनी पैरालंपिक्स की नेता हूं। मेरे प्रतिनिधिमंडल ने लगातार चार बार पैरालंपिक्स चैंपियनशिप जीती। मेरे विचार में अंतर्राष्ट्रीय पैरालंपिक्स कमेटी के अध्यक्ष को अभूतपूर्व व्यक्तित्व आकर्षण, उल्लेखनीय प्रबंध व नेतृत्व की क्षमता और शक्तिशाली संसाधन एकीकरण की क्षमता होनी चाहिये। मुझमें अंतर्राष्ट्रीय पैरालंपिक्स कमेटी का नेतृत्व करने की क्षमता प्राप्त है। अपनी भाषण में अंतर्राष्ट्रीय पैरालंपिक्स कमेटी की एकजुटता को मजबूत करने के लिये उन्होंने छह सुझाव पेश किये। उन्होंने कहा,मैंने वचन दिया कि मैं पूरी कोशिश से सभी विकलांगों को मदद दूंगी, और ज्यादा से ज्यादा विकलांगों को स्वस्थ बनने, शिक्षा पाने व रोजगार के   मौके दिलवाऊंगी। मैं उन्हें सांस्कृतिक गतिविधि व खेलकूद करने का समर्थन देती हूं। क्योंकि खेल उनकी भावना को प्रेरित करने के लिये लाभदायक है।

च्यांग हाएडी पहली चीनी व्यक्ति हैं, जो अंतर्राष्ट्रीय पैरालंपिक्स कमेटी के अध्यक्ष चुनाव में भाग ले रही हैं। इससे जाहिर होता है कि चीन का प्रभाव दिन-ब-दिन बढ़ रहा है। चीन विश्व विकलांग लोगों के खेल कार्य में शामिल करना, ज्यादा जिम्मेदारी उठाना और ज्यादा भूमिका अदा करना चाहता है। इस संकल्प व आत्मविश्वास का कारण यह है कि चीन में विकलांग लोगों के खेल कार्य में बड़ी प्रगति हासिल हुई हैं। च्यांग हाएडी ने कहा,हाल के कई वर्षों में चीन सरकार ने विकलांग लोगों के खेल कार्य के लिये एक अरब अमेरिकी डॉलर का पूंजी निवेश किया। विकलाग लोगों के लिये 32 राष्ट्रीय खेल अभ्यास केंद्रों की स्थापना की गयी। वर्तमान में कुल 80 लाख विकलांग अकसर खेलकूद करते हैं। चीनी विकलांग खेल प्रतिनिधिमंडल ने भी पैरालंपिक्स में श्रेष्ठ प्रदर्शन भी दिखाया।

च्यांग हाएडी के भाषण को तमाम प्रतिनिधियों का उच्च मूल्यांकन मिला। कई लोगों ने महासभा के बाद उन्हें बधाई दी, और कहा कि उनका प्रदर्शन एक सुखद आश्चर्य है। उनका भाषण न केवल प्रभावित करता है, बल्कि विश्वसनीय भी है। च्यांग हाएडी के अलावा कनाडा के पैट्रिक जार्विस, ब्राजील के एंड्रू पार्सोंस और डेनमार्क के जॉन पीटरसन ने भी अंतर्राष्ट्रीय पैरालंपिक्स कमेटी के अध्यक्ष की प्रतिस्पर्द्धा में भाग लिया।

स्थानीय समयानुसार 8 सितंबर को वर्ष 2017 अंतर्राष्ट्रीय पैरालंपिक्स कमेटी की महासभा संयुक्त अरब अमीरात की राजधानी अबू धाबी में समाप्त हुई। इसमें कमेटी के नये अध्यक्ष, उपाध्यक्ष और कार्यकारी समिति पैदा हुए। च्यांग हाएडी द्वारा प्राप्त वोटों की संख्या चार उम्मीदवारों में दूसरे स्थान पर रही। ब्राजील के उम्मीदवार एंड्रू पार्सोंस अध्यक्ष बने।

चुनाव के बाद सभा में उपस्थित प्रतिनिधियों ने चीन को बधाई दी कि पहली बार भाग लेने के बाद इतने मत हासिल किए। साथ ही उन्होंने चीन के साथ सहयोग करके विकलांगों के खेल कार्यों को मजबूत करने की इच्छा जताई। एशियाई ओलिंपिक समिति की परिषद के आजीवन मानद उपाध्यक्ष वेई चीचोंग ने कहा कि अंतर्राष्ट्रीय पैरालिंपिक्स के विकास में चीन लगातार कोशिश कर रहा है। अंतर्राष्ट्रीय समुदाय ने चीन द्वारा दिये गये योगदान को भी देखा है। च्यांग हाएडी की भागीदारी ने अंतर्राष्ट्रीय पैरालंपिक्स कमेटी के लिये नयी शक्ति डाल दी। चीन के पास अंतर्राष्ट्रीय पैरालंपिक्स को बढ़ावा देने में ज्यादा जिम्मेदारी उठाने की इच्छा व क्षमता है।

चीनी पैरालंपिक्स कमेटी के महासचिव चाओ सूचिंग ने कहा कि इस बार के चुनाव में हमें बहुत देशों का समर्थन मिला है। चुनाव की भागीदारी से हमने चीनी कहानी बतायी, चीन का रुख पेश किया, और गहन रूप से अंतर्राष्ट्रीय विकलांग खेल कार्यों में भाग लिया। परंपरागत मित्रता को मजबूत करने के साथ साथ नये दोस्त भी बनाये गये। साथ ही विश्व में चीन का प्रभाव भी बढ़ा है। चीन लगातार अंतर्राष्ट्रीय विकलांगों के खेल कार्यों के विकास में सक्रिय रूप से भाग लेगा और बढ़ावा देगा।

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories