चीन की खुलेपन और सुधार नीति से कज़ाख़स्तान से चीनी सहयोग बढ़ा

2018-07-25 13:35:24
Comment
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

चीन की खुलेपन और सुधार नीति से कज़ाख़स्तान से चीनी सहयोग बढ़ा

 इस वर्ष चीन में सुधार और खुलेपन की नीति लागू करने की 40वीं वर्षगांठ है। कज़ाख़स्तान के संबंधित विशेषज्ञों ने हाल ही में कहा कि सुधार और खुलेपन की नीति से न केवल चीन की राष्ट्रीय उपस्थिति में बदलाव लाया है, बल्कि विश्व को इससे लाभ भी मिला है। चीन और कज़ाख़स्तान के वित्तीय उद्योग के सहयोग से द्विपक्षीय परियोजना को स्थिरता से आगे बढ़ाया जा रहा है।

रुस्लान इजीमोव कजाखस्तान के पहले राष्ट्रपति फाउंडेशन के विश्व आर्थिक और राजनीतिक अनुसंधान संस्थान के विशेषज्ञ, यूरेशियाई अध्ययन परियोजना के प्रधान हैं। हाल ही में उन्होंने कहा कि सुधार और खुलेपन की नीति से चीन ने आर्थिक क्षेत्र में मौजूद हर प्रकार की कठिनाईयों को दूर किया है, विभिन्न क्षेत्रों की निहित शक्ति दिखाई, जिससे चीन की बहुमुखी राष्ट्रीय शक्ति उन्नत करने में बढ़ावा दिया गया।

रुस्लान इजीमोव ने कहा कि चीनी कम्युनिस्ट पार्टी की केंद्रीय कमेटी के पूर्व नेता तंग श्याओफ़िंग द्वारा चीन में सुधार और खुलेपन की नीति पेश करने से अब तक के 40 वर्षों में चीन ने न केवल अपनी स्थिति में बदलाव किया, बल्कि विश्व को भी बदला। वर्ष 1978 में शुरु हुई सुधार और खुलेपन की नीति से अब तक चीन के अर्थतंत्र का तेज़ विकास हो रहा है, जिससे पड़ोसी देशों के आर्थिक विकास को भी लाभ मिला, जिनमें कज़ाख़स्तान जैसे मध्य एशियाई के देश शामिल हैं।

रुस्लान इजीमोव का विचार है कि चीन के सुधार और खुलेपन से विश्व आर्थिक विकास भी आगे बढ़ रहा है।

उन्होंने कहा कि अंतर्राष्ट्रीय समुदाय में चीन के विकास और प्रभाव की चर्चा करते हुए मैं यह कहना चाहता हूं कि चीन के तेज़ विकास से विश्व के अर्थतंत्र को बड़ी शक्ति संचार हो रही है। हाल के वर्षों में चीन विश्व का दूसरा बड़ा आर्थिक समुदाय बन गया है। वर्तमान में चीन दुनिया भर में एक प्रमुख निवेशक है। अनेक देश चीन के निवेश का उपयोग कर रहे हैं।

123MoreTotal 3 pagesNext

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories