अफ्रीका में विदेशी मुद्रा भंडार में आरएमबी का अनुपात बढ़ेगा

2018-07-02 13:32:50
Comment
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

अफ्रीका में विदेशी मुद्रा भंडार में आरएमबी का अनुपात बढ़ेगा

उन्होंने कहा कि अफ्रीकी देशों और चीन के बीच अधिक से अधिक आर्थिक और व्यापार आदान-प्रदान हो रहा है। तो बहुत ही प्राकृतिक बात है कि हमें आरएमबी का भंडारण करना चाहिए और अंतरराष्ट्रीय निपटान में आरएमबी का प्रयोग करना चाहिए, जैसे हमने पहले डॉलर और यूरो का उपयोग किया था।

कालेब फंडंगा के परिचय के अनुसार संगोष्ठी के उपस्थितों का विचार है कि निपटान और चीन के ऋण चुकाने के लिए आरएमबी का उपयोग करना अफ्रीकी देशों के हित के अनुकूल है। उन्हें आशा है कि भविष्य में चीन के साथ व्यापार में आरएमबी का अधिक उपयोग किया जाएगा।

उन्होंने कहा कि अगर हम अमेरिकी डॉलर में भुगतान करते हैं और यदि डॉलर मज़बूत है, तो हम विनिमय घाटे का सामना कर सकते हैं। लेकिन सीधे आरएमबी से भुगतान करने के साथ हम इन नुकसानों से बच सकते हैं। हमें आशा है कि आरएमबी का अधिक उपयोग किया जाएगा, क्योंकि यह हमारे हितों के अनुकूल है।

आरएमबी के अंतर्राष्ट्रीयकरण की प्रक्रिया में तेजी लाने के साथ भंडारण मुद्रा के रूप में आरएमबी की कार्य क्षमता धीरे धीरे दिखाई दे रही है। वर्ष 2018 की पहली तिमाही में चीनी मौद्रिक नीति की कार्यान्वयन रिपोर्ट के अपूर्ण आंकड़ों के अनुसार 60 से अधिक विदेशी केंद्रीय बैंकों या मौद्रिक अधिकारियों ने आरएमबी को आधिकारिक विदेशी भंडारण मुद्रा में शामिल किया। पूर्वी और दक्षिण अफ्रीकी देशों में दक्षिण अफ्रीका के केंद्रीय बैंक वर्ष 2014 की शुरुआत से हमेशा से चीनी सरकार के बांड और नोट्स में निवेश कर रहा है। तंज़ानिया के केंद्रीय बैंक ने आरएमबी को भंडारण मुद्रा में शामिल किया, जो उसके विदेशी मुद्रा भंडार में आरएमबी का 5 प्रतिशत भाग रहा। कालेब फंडंगा का विचार है कि संगोष्ठी के उपस्थितों ने एक देश के विदेशी मुद्रा भंडार में आरएमबी का कितना भाग रहने के मामले पर विचार-विमर्श भी किया। उन लोगों का विचार है कि भविष्य में अफ्रीका में विदेशी मुद्रा भंडार में आरएमबी का अनुपात बढ़ेगा।

HomePrev123MoreTotal 3 pagesNext

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories