सृजन से विकास और चीन की अंतर्राष्ट्रीय प्रतिस्पर्धा शक्ति बढ़ी

2018-01-08 13:25:57
Comment
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

सृजन से विकास और चीन की अंतर्राष्ट्रीय प्रतिस्पर्धा शक्ति बढ़ी

 19वीं सीपीसी कांग्रेस की रिपोर्ट में कहा गया है कि सृजन विकास को आगे बढ़ाने की पहली प्रेरक शक्ति के साथ आधुनिक आर्थिक व्यवस्था के निर्माण का रणनीतिक समर्थन भी है। सृजन से विकास आगे बढ़ाने की चीन की रणनीति में स्पष्ट रूप से यह कहा गया है कि वर्ष 2020 तक चीन को एक सृजन वाला देश बनाया जाएगा। रूस ने वर्ष 2011 से वर्ष 2020 तक अपने देश की सृजन विकास की रणनीति बनाई और सक्रीय रूप से डिजिटल अर्थव्यवस्था का विकास शुरू किया था। सृजन देश की प्रतिस्पर्धा शक्ति बढ़ाने की महत्वपूर्ण संचालक शक्ति बन गई है। रूस के विशेषज्ञों और विद्वानों ने चीन के सृजन विकास पर अलग अलग विचार हैं।

रूसी विदेश मंत्रालय के समाचार प्रकाशन विभाग के उपाध्यक्ष अलेक्जेंडर बीकान्तोव चीन का लगातार निरीक्षण करते रहते हैं और चीन को अच्छी तरह समझते हैं। राजनयिक के रूप में उन्होंने कई बार चीन की यात्रा भी की है। पिछली शताब्दी के 9वें दशक की शुरूआत में उन्होंने पहली बार चीन की यात्रा की थी। इधर के वर्षों में चीन और रूस के बीच संबंधों का दिन प्रति दिन विकास होने के साथ दोनों देशों के बीच राजनयीक आवाजाही और घनिष्ठ हो रही है। कुछ समय तो उन्होंने एक वर्ष में चीन की कई बार यात्रा की, जिससे उन्हें हाल के दिनों में चीन के विभिन्न क्षेत्रों के विकास और बदलाव का निरीक्षण करने का मौका भी मिला। उन्होंने कहा कि चीन के विकास की गति और भविष्य के लिए परियोजना से वे बहुत आश्चर्यचकित हैं।

उन्होंने कहा कि चीनी कम्युनिस्ट पार्टी के नेतृत्व में उन्हें सभी उपलब्धियां मिली हैं। हमने 19वीं सीपीसी कांग्रेस पर बड़ा ध्यान दिया। इस कांग्रेस में भविष्य के कुछ समय में देश, पार्टी और समाज के विकास की प्रमुख दिशा तय की गई है। कोई शक नहीं है कि इस कांग्रेस से चीन के राज्य शासन और पार्टी शासन को मजबूत किया जाएगा, जिससे चीन के अर्थतंत्र और जन-जीवन के विकास को नया योगदान किया जाएगा।

123MoreTotal 3 pagesNext

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories