चीन और इज़रायल के बीच कृषि तकनीक के सहयोग का पूर्ण विकास

2017-12-05 10:00:12
Comment
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

 

चीन और इज़रायल के बीच कृषि तकनीक के सहयोग का पूर्ण विकास

चीन और इज़रायल के बीच कृषि तकनीक के सहयोग का पूर्ण विकास

इज़रायल की कृषि बहुत विकसित है। चीन और इज़रायल के बीच कृषि तकनीक के सहयोग का कई वर्षों का इतिहास है। दोनों देशों के बीच राजनयीक संबंधों की स्थापना से पहले विशेषज्ञों के एक दूसरे के यहां की यात्रा, तकनीक के आदान-प्रदान जैसे कई क्षेत्रों में कृषि तकनीक में सहयोग किया गया था। कई वर्षों के विकास के बाद अब दोनों देशों के बीच कृषि तकनीक के सहयोग में नई नई विशेषताएं हैं।

इज़रायल की मशहूर कंपनी सोलि सीड्स एंड एग्रो प्रोजेक्ट्स वर्ष 1980 स्थापित हुई थी। इस कंपनी के उगने वाले टमाटर, लाल पीली शिमला मिर्च और ककड़ी स्वादिष्ट होती हैं। यह कंपनी नर्सरी और ग्रीन हाउस बनाने के लिए अपने साझेदारों को सहायता देती है और उन्हें विभिन्न संबंधित स्वचालित कृषि उपकरण प्रदान करती है। वर्तमान में पूरे विश्व में उस कंपनी के भागीदार हैं, जिनमें अमेरिका , इथियोपिया, तुर्की और भारत भी शामिल हैं।

वर्ष 1996 से सोलि सीड्स एंड एग्रो प्रोजेक्ट्स और चीन के बीच सहयोग शुरू होने से अब तक चीन के युन्नान, चच्यांग, शान तुंग, ह नान प्रांतों और थिएनचिन शहर में कृषि तकनीक सहयोग प्रदर्शन गार्डन का निर्माण किया गया। वर्ष 2016 के अक्तूबर में चीन के विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्री वान कांग ने इस कंपनी का निरीक्षण दौरा किया था। उस दौरान उन्होंने कहा कि चीन में सृजन करने और नए उद्यम स्थापित होने के लिए इजरायल के उद्यमों का समर्थन किया जाता है, ताकि इजराइल की तकनीकी सृजन श्रेष्ठता को चीन की पूंजी और बाज़ार की श्रेष्ठता से जोड़कर उच्च स्तर वाले तकनीकी सृजन और वाणिज्यिक स्वरूप की खोज की जा सके।

चीन और इज़रायल के बीच कृषि तकनीक के सहयोग का पूर्ण विकास

चीन और इज़रायल के बीच कृषि तकनीक के सहयोग का पूर्ण विकास

चीन के साथ सहयोग की चर्चा करते हुए सोलि सीड्स एंड एग्रो प्रोजेक्ट्स के अध्यक्ष इसाक लिलेब्रिक ने परिचय देते हुए कहा कि कई वर्षों के व्यावसायिक अनुभव के अनुसार सबसे महत्वपूर्ण बात है एक दूसरे का विश्वास और दीर्घकालिक सहयोग।

उन्होंने कहा कि चीन के स्थानीय लोग पेशेवर कौशल हासिल करना चाहते हैं और दूसरी तरफ सहयोग की बड़ी निहित शक्ति है और चीन का बड़ा बाज़ार भी है। हमारे लिए यह बहुत महत्वपूर्ण है और सहयोग दोनों पक्षों के हित में है। लेकिन अल्पकालिक सहयोग का असर इतना अच्छा नहीं है, हमें दीर्घकालिक सहयोग से लाभ मिलता है। इसलिए हम दीर्घकालिक सहयोग करना चाहते हैं, इसका मतलब है कि 10 वर्ष बाद भी सहयोग संबंध जारी रहेगा।

इसाक लिलेब्रिक ने कहा कि कार्य का मार्गदर्शन करने के लिए वे अक्सर कृषि विशेषज्ञों को चीन के सहयोग प्रदर्शनी गार्डन में भेजते हैं। वे साझेदारों को विभिन्न प्रकार के मामलों का समाधान करने और कठिनाईयों को दूर करने के लिए सहायता देते हैं।

इस कंपनी के तकनीकी प्रबंधक रोनी शलमोनी हर वर्ष कई बार चीन आते हैं। रोनी ने कहा कि उसकी पत्नी के पिता का जन्म चीन के हारबिन शहर में हुआ था और उनके गांव के कुछ बूढ़े आदमी पहले चीन में रहते थे, इसलिए चीन के लिए उसकी गहरी भावना है। कौशल सिखाने के दौरान रोनी ने कभी नहीं कहा कि उनकी पद्धति बिल्कुल सही है। यह उन के काम करने का तरीका नहीं है। वह अपने साझेदार के साथ सीखते हैं, जिससे सहयोग परियोजना का निर्माण और अच्छी तरह किया जाता है।

चीन और इज़रायल के बीच कृषि तकनीक के सहयोग का पूर्ण विकास

चीन और इज़रायल के बीच कृषि तकनीक के सहयोग का पूर्ण विकास

रोनी ने कहा कि हम एक साथ प्रगति कर सकते हैं, क्योंकि हमारे पास बेहतर तकनीक है। हमारी कृषि विशेष है और बहुत उन्नत भी है। चीन हमारे देश की स्थिति से अलग है। कई लोग कम कृषि योग्य भूमि पर काम करते हैं। चीन में कार्य का मार्गदर्शन करने के दौरान कुछ चीनी लोग हमारे तरीके स्वीकार करते हैं और कुछ नहीं। क्योंकि हमारे देश की स्थिति अगल है मौसम भी एक सा नहीं है। इसलिए कुछ समय पर हम एक साथ सीखते हैं, जिससे हमारी परियोजना की स्थिति बेहतर हो रही है।

समान रूप से परियोजना में सहयोग करने के अलावा सोलि सीड्स एंड एग्रो प्रोजेक्ट्स के उपाध्यक्ष इसाक लिलेब्रिक ने कहा कि स्थानीय सरकार के समर्थन में उनकी हनान प्रांत में प्रशिक्षण केंद्र स्थापित करने की योजना है। किसानों के लिये शिक्षा पाने के तरीके से नए ज्ञान और कौशल उनका खेती में उपयोग किया जा सकता है, जिससे और अच्छी तरह ग्रीन कृषि का विकास किया जा सकता है।

इजरायल यूरोप का फल उद्यान और फलों की टोकरी है। चीन और इजरायल के बीच सृजन वाले सर्वांगीण साझेदारी संबंध के गहन विकास के साथ दोनों देशों के बीच कृषि तकनीक का सहयोग भी आगे बढ़ रहा है, जिससे चीनी लोगों को लाभ मिल सकता है।

(वनिता)

 

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories