उसैन बोल्ट के रिकार्ड को तोड़ सकता है एक भारतीय धावक

2019-08-28 09:00:00
Comment
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

खेल की दुनिया की हलचल के साथ हाजिर हूं मैं आपका जाना-पहचाना होस्ट अनिल पांडेय। पाँच मिनट के इस प्रोग्राम में आप सुनेंगे दुनिया भर के खेल समाचार व समीक्षा। जिसमें क्रिकेट, हॉकी व फुटबाल से लेकर बैडमिंटन और कबड्डी जैसे खेलों की होगी जानकार

सोशल मीडिया के माध्यम से सुर्खियां बटोरने वाले एक भारतीय धावक का दावा है कि वे उसैन बोल्ट का रिकार्ड तोड़ने की क्षमता रखते हैं।

सोशल मीडिया पर वायरल वीडियो में 19 साल के गुर्जर 100 मीटर की दौड़ नंगे पांव दौड़ते हुए 11 सेकेंड में पूरी करते हुए दिख रहे हैं। वह राज्य के शिवपुरी जिले के नरवार गांव के किसान परिवार से आते हैं।
उनके वीडियो को देखने के बाद राज्य के खेल मंत्री जीतू पटवारी ने उन्हें भोपाल बुलाया था। गुर्जर ने शनिवार को भोपाल में मंत्री से मुलाकात की। इस मुलाकात के बाद उन्होंने पत्रकारों से कहा, 'उसेन बोल्ट ने रिकार्ड 9.58 सेकेंड में 100 मीटर की दौड़ को पूरा किया था। मुझे उम्मीद है कि सुविधाएं और उचित प्रशिक्षण मिलने के बाद मैं उस रिकार्ड को तोड़ दूंगा।'

वहीं पहलवान सचिन राणा को जूनियर विश्व कुश्ती चैम्पियनशिप की ग्रीको रोमन स्पर्धा के रेपेचेज दौर में रविवार को हार का सामना करना पड़ा जिससे प्रतियोगिता में भारत का सफर तीन पदक के साथ खत्म हुआ।

राणा के सामने 60 किग्रा वर्ग के रेपेचेज दौर में जार्जिया के डिएगो चख्वादजे की चुनौती थी। चख्वादजे ने भारतीय पहलवान को 5-1 से हराया।
ग्रीको रोमन में सिर्फ सजन भानवाल ही भारत के लिए पदक जीत पाए। उन्होंने शनिवार को तुर्की के अब्दुररहमान कालकन को 77 किग्रा भार वर्ग में तकनीकी दक्षता से हराया था।
इससे पहले फ्रीस्टाइल में दीपक पूनिया ने 86 किग्रा भार वर्ग में स्वर्ण और विकी ने 92 किग्रा में कांस्य पदक हासिल किया था। भारतीय महिला पहलवान पिछले तीन साल में पहली बार इस प्रतियोगिता में पदक जीतने में नाकाम रही।

वहीं इंग्लैंड के दिग्गज फुटबॉलर एशले कोल ने 38 साल की उम्र में रविवार को संन्यास की घोषणा की जो अब कोचिंग में करियर बनाएंगे।

कोल ने आर्सेनल और चेल्सी का प्रतिनिधित्व किया है। उन्होंने अपने करियर में प्रीमियर लीग के तीन खिताब सहित कुल 13 बड़े खिताब जीते हैं।
कोल ने 107 मैचों में इंग्लैंड का प्रतिनिधित्व किया है। वह उन नौ खिलाड़ियों में शामिल हैं जिन्होंने इंग्लैंड के लिए 100 से अधिक मुकाबले खेले हैं।
कोल ने स्काई स्पोर्ट्स से कहा, 'काफी सोच विचार के बाद मुझे लगा कि खिलाड़ी के तौर पर यह अलविदा कहने का समय है। मैं नयी शुरुआत का इंतजार कर रहा हूं।'

उधर भारतीय पुरुष हॉकी टीम को बढ़त बनाने के बावजूद रविवार को ओलंपिक टेस्ट प्रतियोगिता के अपने दूसरे मैच में न्यूजीलैंड के खिलाफ 1-2 से हार का सामना करना पड़ा। कप्तान हरमनप्रीत सिंह ने दूसरे ही मिनट में पेनल्टी कार्नर को गोल में बदलकर भारत को बढ़त दिलाई।

न्यूजीलैंड ने हालांकि अंतिम क्वार्टर में जेकब स्मिथ (47वें मिनट) और सैम लेन (60वें मिनट) के मैदानी गोल की मदद से जीत दर्ज की। भारत ने टूर्नामेंट की शानदार शुरुआत करते हुए पहले मैच में मलेशिया को 6-0 से हराया था। दूसरे मैच में हार के बाद हालांकि भारतीय टीम अंक तालिक में दूसरे स्थान पर चल रही है जबकि उसे एक मैच और खेलना है।

वहीं भारत के शीर्ष फर्राटा धावकों हिमा दास और मोहम्मद अनस ने चेक गणराज्य में एथलेटिकी मिटिनेक रीटर स्पर्धा में क्रमश: पुरुष और महिला 300 मीटर स्पर्धा में स्वर्ण पदक जीते।

दो जुलाई से यूरोपीय स्पर्धाओं में यह हिमा का छठा स्वर्ण पदक है। इस स्पर्धा में हालांकि अधिकांश बड़े नामों ने हिस्सा नहीं लिया। हिमा ने शनिवार को स्वर्ण पदक जीतने के बाद ट्वीट किया, 'चेक गणराज्य में आज एथलेटिकी मिटिनेक रीटर 2019 में 300 मीटर स्पर्धा में शीर्ष पर रही।'

दूसरी तरफ अनस ने पुरुष 300 मीटर दौड़ 32.41 सेकेंड के समय के साथ जीती। उन्होंने ट्वीट किया, 'चेक गणराज्य में एथलेटिकी मिटिनेक रीटर 2019 में पुरुष 300 मीटर का स्वर्ण पदक 32 .41 सेकेंड के समय के साथ जीतने की खुशी है।'

अगली ख़बर बैडमिंटन से है। भारत की नई युगल सनसनी चिराग शेट्टी और सात्विकसाइराज रंकीरेड्डी चोटिल होने के कारण गुरुवार को विश्व बैडमिंटन चैंपियनशिप से हट गए। भारतीय जोड़ी ने पिछले रविवार को थाईलैंड ओपन का खिताब जीतकर इतिहास रचा था, लेकिन चोटों के कारण उनकी 19 अगस्त से स्विटजरलैंड के बासेल में होने वाली विश्व चैंपियनशिप में भाग लेने की उम्मीदें समाप्त हो गई।

चिराट ने पीटीआई से कहा, ‘सात्विक के कंधे में थाईलैंड ओपन के दौरान चोट लग गई थी। हमें उसके जल्दी फिट होने की उम्मीद थी, लेकिन ऐसा नहीं हो पाया, इसलिए हमने विश्व चैंपियनशिप से हटने का फैसला किया।'

वहीं टोक्यो 2020 ओलंपिक के लिए आयोजित परीक्षण प्रतियोगिता में पानी में जीवाणु (बैक्टीरिया) की मात्रा तय सीमा से अधिक होने के कारण पैराट्रायथलान की तैराकी स्पर्धा को शनिवार को रद्द कर दिया गया।

ओलंपिक की तैयारियों को लेकर आयोजकों की हालांकि काफी प्रशंसा हो रही है। इन खेलों के उद्घाटन समारोह में एक साल से भी कम समय बचा है, ऐसे में अधिक गर्मी और पानी की खराब गुणवक्ता ने उनकी परेशानियों को बढ़ा दिया है।
अंतरराष्ट्रीय ट्रायथलॉन यूनियन (आईटीयू) ने परीक्षण के बाद ई-कोलाई (जीवाणु का प्रकार) के स्तर को स्वीकार्य मानक से दोगुना से अधिक होने के बाद इस प्रतियोगिता से तैराकी को हटा दिया। तैराकी के हटने के बाद इस स्पर्धा में भाग लेने वाले 70 खिलाड़ियों ने दौड़ और बाइक रेस के रूप में दो स्पर्धाओं में भाग लिया।


शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories