ट्रायल के लिए उतरेंगे जाने-माने पहलवान सुशील कुमार

2019-08-21 09:00:00
Comment
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

खेल की दुनिया की हलचल के साथ हाजिर हूं मैं आपका जाना-पहचाना होस्ट अनिल पांडेय। पाँच मिनट के इस प्रोग्राम में आप सुनेंगे दुनिया भर के खेल समाचार व समीक्षा। जिसमें क्रिकेट, हॉकी व फुटबाल से लेकर बैडमिंटन और कबड्डी जैसे खेलों की होगी जानकारी।

ओलंपिक क्वालिफाइंग विश्व चैंपियनशिप के लिए पहलवान सुशील कुमार इंदिरा गांधी स्टेडियम में ट्रायल के लिए उतरने जा रहे हैं। हालांकि अब तक इस बात पर संशय बना हुआ है कि दो बार के ओलंपिक पदक विजेता के खिलाफ अन्य कोई पहलवान जोर आजमाने उतरेगा या नहीं।

सुशील के वजन 74 किलो में अमित धनकड़ और जितेंदर कुमार को उतरना है। कुश्ती संघ की ओर से विश्व चैंपियनशिप केलिए जितेंदर की एंट्री 79 किलो भार में डाल रखी गई है। कुश्ती संघ को भी अभी तक यह नहीं मालूम है कि 74 किलो में कितने पहलवान ट्रायल देने उतरेंगे।
उसका कहना है स्थिति सुबह वजन देने के बाद साफ होगी। सुशील के खिलाफ कॉमनवेल्थ गेम्स के दौरान ट्रायल देने वाले प्रवीण राणा चोटिल हैं। उनका ट्रायल में नहीं खेलना तय है। हालांकि यह तय है कि सुशील कुमार कल होने वाले ट्रायल में पहुंच रहे हैं। 74 किलो के अलावा चार गैर ओलंपिक भार वर्गों में ट्रायल आयोजित होगा।

वहीं राष्ट्रीय फुटबाल टीम के गोलकीपर गुरप्रीत सिंह संधू ने उम्मीद जताई है कि उनका अर्जुन पुरस्कार भारत में इस खेल में करियर बनाने की कोशिश कर रहे खिलाड़ियों को प्रेरित करेगा।

गुरप्रीत अर्जुन पुरस्कार पाने वाले 26वें फुटबाल खिलाड़ी हैं। यूएफा यूरोपा लीग (क्वालीफायर) में खेलने वाले इकलौते भारतीय खिलाड़ी गुरप्रीत ने पुरस्कार के लिए नामित होने के बाद कहा, 'अर्जुन पुरस्कार के लिए नामित होने पर मैं रोमांचित और सम्मानित महसूस कर रहा हूं। मैं चाहता हूं कि मेरी यह पहचान देश में इस खेल के सभी खिलाड़ियों को प्रेरित करे। मेरी खुशी तभी पूरी होगी।'
गुरप्रीत भारतीय टीम का नेतृत्व करने वाले सबसे युवा खिलाड़ियों में से एक हैं। इन पुरस्कारों के शुरू होने के बाद गुरप्रीत इसे पाने वाले चौथे गोलकीपर हैं। उनसे पहले सुब्रत पाल (2016), ब्रह्मानंद संखवालकर (1997) और पीटर थंगराज (1967) को अर्जुन पुरस्कार मिला है। पुरस्कार के लिए नामित होने पर अखिल भारतीय फुटबाल महासंघ के अध्यक्ष प्रफुल्ल पटेल और महासचिव कुशाल दास ने उन्हें बधाई दी।

उधर सुमित राठी के 78वें मिनट में किए गए गोल की बदौलत भारतीय अंडर-19 राष्ट्रीय टीम ने रविवार को ओएफसी डेवलपमेंटल टूर्नामेंट के शुरुआती मुकाबले में वनुआतू को 1-0 से शिकस्त दी। कोच फ्लायड पिंटो की रणनीति अंत में कारगर हुई।

पहले हाफ के बाद भारत ने लगातार कार्नर हासिल किए लेकिन टीम उनका फायदा नहीं उठा सकी। गिवसन ने 73वें मिनट में 40 गज की दूरी से गोल करने का प्रयास किया लेकिन यह क्रासबार के ऊपर से निकल गया। लेकिन भारत को चौथे कार्नर पर सफलता मिली। गिवसन ने कार्नर लिया और निनथोई ने इसे विक्रम प्रताप सिंह की ओर किया जो सुमित के पास गया जिन्होंने इसे गोल में पहुंचाया। अब टीम मंगलवार को न्यू कैलेडोनिया से भिड़ेगी।

वहीं नेमार के बिना खेलने उतरे मौजूदा फ्रेंच लीग वन चैंपियन पेरिस सेंट जर्मेन (पीएसजी) को सत्र के दूसरे मैच में बढ़त बनाने के बावजूद रेनेस के हाथों 2-1 से शिकस्त का सामना करना पड़ा। यह लगातार दूसरा मैच है जब ब्राजील के स्टार फुटबॉलर नेमार मैदान में नहीं उतरे।

नेमार के क्लब का साथ छोड़ने की चर्चा है। मीडिया रिपोर्टो के अनुसार उनका पुराना क्लब बार्सिलोना और रियल मैड्रिड उन्हें अपने-अपने साथ जोड़ने के लिए पीएसजी से बात कर रहे हैं। नेमार ने 2017 में ही बार्सिलोना को छोड़कर पीएसजी का दामन थामा था। तब वह दुनिया के सबसे महंगे फुटबॉलर बने थे।

उधर ओलंपिक पदक विजेता साक्षी मलिक को भारतीय कुश्ती संघ की ओर से सोमवार को कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है।

साक्षी पर आरोप है कि वह बिना किसी इजाजत के राष्ट्रीय कैंप छोड़कर चली गईं। भारतीय कुश्ती संघ ने अनुशासन तोड़ने और बिना बताए ट्रेनिंग कैंप छोड़ने की वजह से साक्षी को यह नोटिस भेजा है।
गौरतलब है कि इसी कारण से 25 खिलाड़ियों के निष्कासित किया जा चुका है। लखनऊ के स्पोर्ट्स अथोरिटी ऑफ इंडिया (साई) के राष्ट्रील कैंप से 45 में से 25 खिलाड़ी बिना इजाजत लिए ही वहां से चली गई। जिसके चलते इन खिलाड़ियों को निष्कासित कर दिया गया।
इन 25 खिलाड़ियों में से साक्षी मलिक (62 किलो भारवर्ग), सीमा बिसला (50 किलो भारवर्ग), किरण (76 किलो भारवर्ग) ने हाल ही में वर्ल्ड चैंपियनशिप के लिए क्वालीफाई किया है। बता दें कि इन तीनों ही खिलाड़ियों को जवाब देने के लिए बुधवार तक का वक्त दिया गया है।

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories