गरीबी उन्मूलन और फोटोवोल्टिक पावर स्टेशन

2019-08-12 08:46:04
Comment
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn


हाल ही में पश्चिमी चीन स्थित छिंगहाई प्रांत की माछीन काउंटी में 29.1 मेगावाट के फोटोवोल्टिक पावर स्टेशन का निर्माण किया गया, जो इस क्षेत्र के गरीबी उन्मूलन के लिए मददगार साबित है। छिंगहाई प्रांत में विशाल सुनसान क्षेत्र हैं जहां लोग गरीबी से ग्रस्त रहते थे। लेकिन छिंगहाई प्रांत में बहुत समृद्ध सौर ऊर्जा से भरपूर होता है। अगर यहां बड़े पैमाने पर फोटोवोल्टिक पावर स्टेशन का निर्माण किया जाए, तो आर्थिक विकास के चलते लोगों के जीवन स्तर को भी उन्नत किया जाएगा।

चीनी राष्ट्रीय ग्रिड निगम के एक अफसर के मुताबिक माछीन काउंटी में निर्मित यह फोटोवोल्टिक पावर स्टेशन 50 हेक्टर विशाल है। पावर स्टेशन के आसपास रहने वाले चार हजार दो सौ से अधिक परिवारों को आर्थिक लाभ मिलता है। अनुमान है कि इस पावर स्टेशन का बिजली उत्पादन प्रति वर्ष चार करोड़ किलोवाट घंटे तक पहुंच सकता है, जिसकी वार्षिक आय दो करोड़ युआन तक रहेगी। आसपास रहने वाले चार हजार से अधिक गरीब परिवारों को रोज़गार मौका और आर्थिक भत्ता मिल पाएगा। विशेषज्ञों का मानना है कि पश्चिमी चीन स्थित छिंगहाई प्रांत में बहुत विशाल सुनसान और बंजर भूमि फैलती है, जो फोटोवोल्टिक पावर स्टेशन के निर्माण के अनुकूल है। छिंगहाई प्रांत का ऐसा लक्ष्य भी है कि प्रांत में 100% स्वच्छ ऊर्जा की आपूर्ति की जाएगी। इसमें जल बिजली और पवन बिजली के अलावा फोटोवोल्टिक पावर स्टेशन के निर्माण को भी महत्व दिया जाता है।

इसमें यह भी चर्चित है कि जून 2015 में निर्मित लूंगयांगश्या जल और फोटोवोल्टिक पावर स्टेशन की उत्पादन क्षमता 8 लाख 50 हजार किलोवाट है, इस की बिजली 330 किलोवोल्ट ट्रांसमिशन लाइन के माध्यम से लूंगयांगश्या हाइड्रोपावर स्टेशन तक ट्रांस्मित की जा रही है। जिसे विश्व में सबसे बड़ा जल-फोटोवोल्टिक पूरक पावर स्टेशन माना जाता है। चीनी ऊर्जा निवेश निगम के एक पदाधिकारी के अनुसार फोटोवोल्टिक पावर स्टेशन का उत्पादन केवल दिन के कई घंटों में होता है, जल विद्युत उत्पादन के साथ मिलकर इस के ग्रिड कनेक्शन की समस्या को हल हो गया है। लूंगयांगश्या जल और फोटोवोल्टिक पावर स्टेशन की उत्पादन क्षमता लगभग प्रति वर्ष 1.5 अरब किलोवाट घंटा हो गयी है, इस से प्रति वर्ष 1.8 लाख टन कोयले का बचाव हो सकता है। जो प्राकृतिक वातावरण के संरक्षण के लिए बहुत मददगार है। छिंगहाई प्रांत की निर्जन भूमियों पर फोटोवोल्टिक पावर स्टेशन का विकास करने का शानदार भविष्य है। आज चीनी कंपनियों के पास फोटोवोल्टिक पावर स्टेशन का निर्माण, संचालन और ऊर्जा भंडारण करने की पूर्ण औद्योगिक श्रृंखला प्राप्त है। छिंगहाई प्रांत में देश में प्रथम 100 मेगावाट सौर ऊर्जा फोटोवोल्टिक बिजली उत्पादन आधार तथा प्रथम नई ऊर्जा बिग डेटा इनोवेशन प्लेटफॉर्म निर्मित हो चुके हैं। गत वर्ष पूरे प्रांत में स्वच्छ ऊर्जा उत्पादन क्षमता 2.42 करोड़ किलोवाट तक पहुंच गई है, जो तमाम बिजली उत्पादन क्षमता का 86 प्रतिशत भाग रहता है। नई ऊर्जा की उत्पादन क्षमता पारंपरिक ऊर्जा से भी आगे बढ़ी है। छिंगहाई प्रांत में हरित ऊर्जा के विकास ने पूरे देश में रिकॉर्ड बना दिया है। अब छिंगहाई प्रांत में उत्पादित स्वच्छ ऊर्जा का मध्य चीन के च्यांगसू, हूपेइ और हनान आदि प्रांतों में यूएचवी संचरण के जरिये ट्रांसमिशन किया जा रहा है, जिससे देश में ऊर्जा के ढ़ांचे के समायोजन को बढ़ावा मिला है। अफसरों का कहना है कि भविष्य में छिंगहाई प्रांत में बड़े पैमाने पर स्वच्छ ऊर्जा का विकास किया जाएगा और स्वच्छ ऊर्जा का देश के दूसरे क्षेत्रों में ट्रांसमिशन किया जाएगा। जिसमें स्थानीय लोगों को आर्थिक लाभ भी मिलेगा।

छिंगहाई प्रांत के फोटोवोल्टिक पावर स्टेशन के निर्माण में हरित रंग के विकास को भी महत्व दिया जाता है। पंक्तियों में खड़े हुए फोटोवोल्टिक पैनलों के नीचे हरे रंग वाले घास उगने लगे हैं, जो जीवन की आशा को इंगित कर रहे हैं। फोटोवोल्टिक पावर स्टेशन के निर्माण के चलते इस विशाल बंजर भूमियों पर घास रोपण का परीक्षण भी किया गया है। रेतीली हवा के कारण फोटोवोल्टिक पैनलों को हर महीने पानी से साफ करना चाहिये। फोटोवोल्टिक पैनलों की सफाई में धोया गया पानी घास को सिंचित करता है, और पौधों की वृद्धि से मिट्टी और पानी को बनाए रखा जाता है। इस तरह फोटोवोल्टिक पैनलों के नीचे हरे पारिस्थितिक पार्क का निर्माण हो गया है। परीक्षण का यह निष्कर्ष है कि फोटोवोल्टिक पावर स्टेशन के निर्माण से इस क्षेत्र में हवा की गति में 50% की कमी हुई है और वाष्पीकरण क्षमता 30% तक घटित है। तथ्यों से यह साबित है कि फोटोवोल्टिक पावर स्टेशन के निर्माण से मरुस्थलीकरण पर अंकुश लगाने के लिए अनुकूल है। वनस्पति पावर स्टेशन के आसपास के वातावरण में सुधार करती है, और स्टेशन के संयंत्रों के नुकसान को भी कम किया गया है। वातावरण के संरक्षण के लिए निर्माताओं ने वनस्पति संरक्षण, घास बीज के रोपण और कचरे निपटान आदि का प्रबंधन भी किया है। नई ऊर्जा के विकास के चलते नयी सामग्रियों और तकनीकों का इस्तेमाल भी अच्छे से किया जा रहा है। 13वीं पंचवर्षीय योजना के दौरान छिंगहाई प्रांत के हाईशी और हाईनान दो नयी ऊर्जा आधार का निर्माण जोरों पर किया जा रहा है। जिन की उत्पादन क्षमता छह करोड़ किलोवाट तक जा पहुंचेगी। इस के साथ यूएचवी संचरण तकनीक के प्रयोग से छिंगहाई प्रांत से दूसरे क्षेत्रों तक बिजली की आपूर्ति आसानी से की जाएगी। जिससे बेल्ट एंड रोड के निर्माण तथा मध्य क्षेत्र में ऊर्जा आपूर्ति की गारंटी भी की जाएगी।

और तो और छिंगहाई प्रांत के गरीब क्षेत्रों में रहने वाले तिब्बती जातीय लोगों को भी हरित ऊर्जा के विकास से आर्थिक लाभ मिल पाएगा। मिसाल के तौर पर मातो काउंटी में 11 गांवों में लोगों की फोटोवोल्टिक ऊर्जा के विकास से आय बढ़ी है। स्थानीय सरकार की सहायता से गरीब परिवारों को कृषि उत्पाद बेचने में मदद मिली है, पशुपालन परिवारों के बच्चों को छात्रवृत्ति दी जाती है, और गरीब परिवारों के छात्रों को उच्च शिक्षा और व्यावसायिक शिक्षा की प्राप्ति में भी मदद मिली है। छिंगहाई प्रांत के दक्षिण में स्थित मातो काउंटी की जनसंख्या में पशुपालकों का अनुपात लगभग 79 प्रतिशत तक रहा है। पर लोगों की औसत आय कम रहती थी। चीनी राष्ट्रीय ग्रिड निगम ने इस काउंटी में गरीबी उन्मूलन को बढ़ाने के लिए लगातार कदम उठाये हैं। 12वीं पंचवर्षीय योजना के दौरान चीनी राष्ट्रीय ग्रिड निगम ने मातो काउंटी में गरीबी उन्मूलन के कार्यों में पाँच करोड़ से अधिक युआन की पूंजी डालकर उद्योग विकास, सांस्कृतिक शिक्षा, चिकित्सा देखभाल और विकलांगों की मदद समेत कुल 21 मुद्दे समाप्त किये। छिंगहाई प्रांत के गरीबी उन्मूलन कार्यालय के एक पदाधिकारी के अनुसार फोटोवोल्टिक पावर स्टेशन के निर्माण से गरीबी उन्मूलन और वातावरण संरक्षण दोनों की वित्तीय गारंटी हो गयी है। जिससे दूसरे क्षेत्रों में गरीबी उन्मूलन कार्यों के विकास के लिए अनुभव तैयार है। पता चला है कि 13वीं पंचवर्षीय योजना के दौरान चीनी राष्ट्रीय ग्रिड निगम प्रति वर्ष मातो काउंटी में पशुपालन औद्योगिकीकरण, पशुधन उत्पादों की गहरी प्रसंस्करण तथा पारिस्थितिकी पर्यटन के विकास में और अधिक निवेश लगाएगा। स्वच्छ ऊर्जा के विकास से इस पंचवर्षीय योजना के अंत तक गरीबी उन्मूलन कार्य समाप्त करने वाले लक्ष्य की गारंटी हुई है।


शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories