तिब्बती हस्तशिल्प कला का जी-जान से विकास

2019-04-08 10:21:11
Comment
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

तिब्बती हस्तशिल्प कला का जी-जान से विकास


चीन के तिब्ब्त स्वायत्त प्रदेश की राजधानी ल्हासा शहर के उपनगर में स्थित तुंगगा गांव में स्थापित पारंपरिक तिब्बती हस्तशिल्प कंपनी के कुल अठावन कर्मचारियों में से अड़तालीस लोग अपाहिज होते हैं। वे इस कारखाने में कौशल सीखकर अपनी सपना को साकार कर चुके हैं।

इस कारखाने के प्रमुख थेनज़िन नोर्बू सन 1990 के दशक में जन्म हुए तिब्बती युवक है। इस का पोषण अपनी नानी और चाची के द्वारा किया गया था। चाची जी भी एक अपाहिज़ हैं, इसलिए नोर्बू को विकलांग लोगों की जीवन और रोजगार में कठिनाइयों की खूब जानकारी भी प्राप्त है।

नोर्बू जन कल्याण कार्यों पर उत्साही हैं। उन्होंने शाननान क्षेत्र में एक टाउनशिप स्तरीय प्राइमरी स्कूल में नये मकान का निर्माण करने, गरीब छात्रों की मदद करने और नेपाली भूकंप के राहत कार्यों में भाग लिया। उन का ख्याल है कि परोपकारी कार्यों को उद्योग संचालन के साथ किया जाना चाहिए। इसी विचार में उन्हों ने अपनी हस्तशिल्प कंपनी स्थापित की जो विशेष तौर पर तिब्बती शैली वाले टेंट, पर्दे, वेशभूषा और कपड़े आदि हस्तशिल्प वस्तुओं का डिजाइन और उत्पादन करती है। कंपनी में अपाहिज कर्मचारियों का अच्छी तरह प्रशिक्षण किया जाता है। कर्मचारी यहां से पारंपरिक कौशल सीखते हैं और कर्मचारियों के बीच अकसर कौशल प्रतियोगिता चलायी जाती है, प्रतियोगिता के विजेताओं को पुरस्कार मिल सकता है। कंपनी में कार्यरत अपाहिज कर्मचारियों को औसतन ढ़ाई सौ या पैंतालीस सौ युआन मासिक तनख्वाह मिल सकता है। 

कंपनी में काम करने वाली मेटोग छोकी पहले घर में पशुओं का पालन करती थी। कारखाने में काम करने के बाद उन्हें कौशल सीखने का मौका मिला। अब वह कुशलता से सिलाई का काम कर सकती है। अपने सपने को साकार करने में उसे बहुत खुशी हुई। मेटोग ने कहा,“यहां मैं ने सिलाई सीखने की कोशिश की है। यह बहुत खुशी की बात है कि जब पिता जी घर में बीमार हुए, मैंने अपनी तनख्वाह से पिता जी को पैसा भेजा है।”

कंपनी के कर्मचारियों में से कुछ गूंगे-बहरे लोग भी हैं, उन के साथ संपर्क रखने के लिए नोर्बू ने सांकेतिक भाषा भी सीखी। नोर्बू अपने कर्मचारियों को अधिक किताबें पढ़ने के लिए प्रोत्साहित करते हैं। उन्होंने कहा, वास्तव में हम परिवारजनों के जैसे हैं, रोज़ साथ साथ काम करते हैं और रहते भी हैं। इसलिये हमारे कारखाने में सभी लोगों को सांकेतिक भाषा सीखना चाहिये। काम करने के अलावा नोर्बू के कर्मचारी भी समाज की परोपकारी गतिविधियों में भाग लेने जाते हैं और दूसरों की मदद करने में खुशी का अनुभव कर सकते हैं। नोर्बू ने कहा,“आम तौर पर मैं अकसर अपने कर्मचारियों के साथ साथ ऐसी गतिविधियों में भाग लेने जाता हूं। क्योंकि गरीबी उन्मूलन में सबसे अहम है बौद्धिक सहायता देना। हमारे चर्मचारियों को भी यह लगता है कि उन की कोशिशों से दूसरों को मदद मिल पाएगी।”

वर्ष 2018 में कंपनी की व्यापार मात्रा 70 लाख युआन तक रही, यह सरकार की सहायता का परीणाम भी है। गत वर्ष कंपनी को सरकार के द्वारा प्रस्तुत 23 लाख युआन की भत्ता दी गयी है जिससे कंपनी की बिक्री में बड़ी मदद मिली। नोर्बू ने कालेज़ में सीखी कंप्यूटर ज्ञान से कंपनी के लिए एक वेब साइट स्थापित किया, जिससे उपभोक्ता अपने व्यक्तिगत उत्पादों को ऑनलाइन ऑर्डर कर सकते हैं। इसका मतलब है कि उपभोक्ता वेब साइट से अपना डिजाइन कंपनी को भेज सकते हैं, और बाद में कोरियर से अपना उत्पाद ले सकते हैं। नोर्बू ने कहा,“कंपनी में सभी कर्मचारी मेहनती से काम कर रहे हैं। हम कंपनी के दूसरा चरण का विकास तैयार कर रहे हैं। जो त्वेईलूंग औद्योगिक पार्क में स्थित होगा। अनुमान है कि तीन सालों के भीतर हमारे कारखाने में एक हजार रोजगार मौका तैयार हो जाएगा।”


तिब्बती हस्तशिल्प कला का जी-जान से विकास

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories